सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोविड वेक्सीनेशन के लिये जन जाग्रति लाने मे धार्मिक विद्वानों को भी आगे आना होगा। - राजस्थान मे 18-44 साल के सात लाख युवाओं का पहली डोज का वेक्सीनेशन हुवा।

 
                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                  विश्व की आबादी के हिसाब से हर छठे आदमी के भारत मे निवास करने के बावजूद वेक्सीन व वेक्सीनेशन को लेकर चले आरोप-प्रत्यारोप को दरकिनार करते हुये देखने मे आ रहा है कि मुस्लिम समुदाय मे वेक्सीनेशन को लेकर आकर्षण उतना नही है। जितना कोराना महामारी के प्रकोप से बचने के लिये समय रहते होना चाहिये था। कोराना की दूसरी लहर मे संक्रमित होकर नजदीकी व जानकर लोगो के मरने वालो पर नजर दौड़ाई जाने पर पाया गया है कि उन्होंने वेक्सीनेशन नही करवाया था। अभी 18-44 वर्ष के लोगो के वेक्सीनेशन के लिये रजिस्ट्रेशन के बाद वेक्सीनेशन की प्रक्रिया मे मुस्लिम समुदाय का प्रतिनिधित्व भी ना के बराबर नजर आ रहा है।
                       हालांकि हो सकता है कि राजस्थान के आदिवासी व दलित बस्तियों मे भी वेक्सीनेशन को लेकर जागरूकता का अभाव हो, लेकिन मुस्लिम समुदाय मे वेक्सीनेशन के प्रति रुझान वेक्सीनेशन सेंटर पर कम ही देखा जा रहा है। जिन वैज्ञानिकों की मेहनत व उधोगपतियो की लगन से कोविड वेक्सीन का निर्माण हुवा है। ऐसे लोगों द्वारा मानव जाति के लिये किये गये प्रयास को बहुत ही आदर व सम्मान से देखा जाना चाहिए। जिन्होंने कोविड-19 के बदलते घातक स्वरूप से बचाने के लिये कारगर कदम उठा कर बचाव का एक रास्ता दिखाया है।
                    खासतौर पर राजस्थान के मुस्लिम समुदाय मे वेक्सीनेशन को लेकर कुछ शिक्षित व सामाजिक क्षेत्र मे काम करने वाले परिवारों मे जागरूकता देखी गई है। लेकिन समुदाय का अधीकांश हिस्सा अभी भी वेक्सिनेशन से कोसो दूर है। वेक्सीनेशन के लिये आकर्षण पैदा करने के लिये सामाजिक वर्कर तो अपनी तरफ से भरपूर कोशिशे कर ही रहे है। अगर इनके साथ ही मस्जिदो के इमाम, मदरसो के संचालक, दरगाहों के मुतवल्ली ओर सज्जादानशीन व अन्य धार्मिक लीडर भी आगे आकर पहले स्वयं व परिवार जनो का वेक्सीनेशन करवाये एवं फिर अन्यो को भी प्रेरित करके वेक्सीनेशन करवाने के लिये तैयार करे। अगर ऐसा जितना जल्दी होगा मानो उतनी जल्दी वतन व समाज की खिदमत होगी।
                   पीछले दिनो आस पास के अनेक गावो मे सरकारी या गैर सरकारी रिपोर्ट के अनुसार 45 वर्ष से उपर वालो लोगो के कोराना से संक्रमित होकर मरने वाले व संक्रमित होने वालो पर नजर दौड़ने पर पाया गया कि उनमे से अधीकमत लोगो ने वैक्सीन की एक भी डोज नही ली थी। जिन लोगो ने वेक्सीनेशन करवा था उनमे से अधीकांश तो संक्रमित हुये ही नही ओर जो हुये वो भी इलाज के बाद ठीक हुये बताते है। राजस्थान मे 18-44 साल के सात लाख युवाओं का पहली डोज का वेक्सीनेशन हो चुका है। जिनमे मुस्लिम युवा अपनी आबादी प्रतिशत से काफी कम बताये जा रहे। इन युवाओं के रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया मे अगर मदद हो तो परिणाम सकारात्मक आ सकते है।
                    हालांकि भारत मे वेक्सीन की जरूरत के मुताबिक आपुर्ति नही होना कम वेक्सीनेशन होना एक प्रमुख कारण होने के अतिरिक्त भारत सरकार द्वारा विदेशो मे वेक्सीन भेजने पर उठते सवाल अलग मसले हो सकते है। लेकिन इन सबके बावजूद सभी धर्मों के धार्मिक लीडरान को समय रहते आगे आकर वेक्सीनेशन के लिये जाग्रति लाने मे मददगार बनना चाहिए। सामाजिक वर्कर व सियासी लीडरशिप तो इस अभियान मे अपने कर्तव्यों का पालन करती नजर आ रही है। यानि मंदिर-मस्जिद-गिरजाघर व गुरुद्वारों सहित सभी धार्मिक जगहो से भी वेक्सीनेशन के प्रति आकर्षण की आवाज उठे तो बेहतर परिणाम नजर आयेगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क