सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के दो दिवसीय दौरे से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे बहुत कुछ तय होगा।

 


                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                    हालांकि राहुल गांधी की रिलोंचींग के लिये भारत मे चल रहे किसान आंदोलन के बहाने दिल्ली के लगते प्रदेशो मे कांग्रेस उनके लिये किसान सम्मेलन आयोजित करके मई-21मे उन्हें फिर से पार्टी अध्यक्ष बनाने का प्लान लगभग तय चुकी है। दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आकर डटने के पहले राहुल गांधी ने कांग्रेस शासित पंजाब मे किसान सम्मेलन व ट्रेक्टर रैली की एवं अब दुसरे कांग्रेस शासित राज्य राजस्थान मे दो दिवसीय 12-13 फरवरी को आकर किसान सम्मेलन व ट्रेक्टर रैली करेगे। लेकिन राजस्थान के राहुल गांधी के पहले के हुये दौरे के समय कांग्रेस नेता सचिन पायलेट प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के साथ साथ उपमुख्यमंत्री पद पर होने के कारण वो एवं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राहुल गांधी के अगल बगल मे सभाओ के मंच पर बैठे नजर आते थे। अब पायलट मात्र साधारण विधायक है। देखना होगा कि राहुल गांधी अपने उक्त राजस्थान दौरे मे पायलट को कितनी अहमियत देते है या फिर अशोक गहलोत की चली चाल के अनुसार उनको अहमियत एक साधारण कांग्रेस नेता की तरह मिलती है। जबकि इसके मध्य राहुल गांधी के होने वाले इस दौरे के तहत सचिन पायलट स्वयं चलकर दौरे की तैयारियों का जायजा लेने आये प्रभारी महामंत्री अजय माखन से मिलने कल किशनगढ़ एयरपोर्ट पहुंचे है।
                   राहुल गांधी के होने वाले दौरे के पहले सचिन पायलट से उनके जयपुर स्थित सरकारी आवास पर उनके समर्थक अधीकांश विधायक मिल चुके है। उनके मध्य क्या व्यू रचना रची गई है उसका खुलासा तो नही हुवा लेकिन उन विधायकों की नजर इस बात पर जरूर है कि गांधी के उक्त दौरे के समय मंच पर पायलट को जगह कहा मिलती है एवं गांधी उन्हें कितनी अहमियत देते है। पीछले साल के मध्य मे सचिन पायलट के नेतृत्व मे कांग्रेस के उन्नीस विधायकों ने गहलोत के नेतृत्व व उनके कामकाज के तरीकों के खिलाफ एक तरह से बगावत करते हुये दिल्ली कुच किया था। अफवाह तो यहां तक तक चली की वो भाजपा से मिलकर गहलोत सरकार का तख्ता पलट करने वाले थे। इस मामले को गरमा कर गहलोत पायलट को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री पद से एवं उनके समर्थक दो मंत्रियों को मंत्रिमंडल से हटवाने मे कामयाब रहे थे। पायलट समर्थक विधायकों के गुडगाँव की एक होटल मे भाजपा की देखरेख मे कई दिनो तक ठहरे रहने व लम्बे चले घटनाक्रम के बाद कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी की कोशिशों से पायलट व उनके समर्थक विधायकों की वापसी हो पाई थी। इनकी वापसी के बावजूद इनको हटाये गये पदो पर फिर से अभी तक बहाल नही किया गया है।
                       कुल मिलाकर यह है कि राहुल गांधी के कल से राजस्थान का होने वाले दो दिवसीय दौरे मे पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को उनकी सभाओ मे मंच पर जगह कहा मिलती है एवं वो उन्हें कितनी अहमियत देते है। इससे राजस्थान मे कांग्रेस राजनीति की भविष्य मे लेने वाली करवट का संकेत जरूर मिलता नजर आयेगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।