राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव की तिथि जल्द घोषित हो सकती है। - चारो जगह कांग्रेस के उम्मीदवारो के नाम लगभग तय । राजसमंद से किसी कारण वैभव नही तो फिर मिराज ग्रूप के सीएमडी मदन पालीवाल उम्मीदवार होगे।

 
                  ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

               हालांकि राजस्थान के होने वाले चार विधानसभा उपचुनाव की तिथि व कांग्रेस के उम्मीदवारों की घोषणा अभी तक नही हो पाई है। लेकिन राजनीतिक हलके मे कांग्रेस के चारो जगह के उम्मीदवारो के नाम लगभग तय बताये जा रहे है। जिन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व विधानसभा अध्यक्ष सीपी जौशी की रजामंदी होना करीब करीब तय बताया जा रहा है।
         राजस्थान की बल्लभनगर विधानसभा से कांग्रेस विधायक गजेन्द्र सिंह शक्तावत के निधन होने से खाली सीट पर उनकी पत्नी प्रीति शक्तावत व सुजानगढ़ से कांग्रेस विधायक व मंत्री भंवरलाल मेघवाल के निधन के बाद खाली हुई सीट पर उनके पूत्र मनोज मेघवाल को उम्मीदवार बनाया जा रहा बताते है। इसके अतिरिक्त सहाड़ा के कांग्रेस विधायक कैलाश त्रिवेदी के निधन से खाली हुई सीट पर विधानसभा अध्यक्ष सीपी जौशी के पूत्र हिमांशु जौशी व राजसमंद से भाजपा विधायक किरण महेश्वरी के निधन से खाली हुई सीट पर मुख्यमंत्री पुत्र वैभव गहलोत के नाम की चर्चा है। महेश्वरी के निधन के बाद वैभव करीब चार दफा राजसमंद का दौरा कर चुके है। एवं समय मे राजसमंद के लिये विकास के काफी कामो की सरकारी स्तर पर घोषणाएं हो चुकी है।
             कुल मिलाकर यह है कि राजनीति मे कोई अगर बडा पेच नही फंसा तो सहाड़ा, राजसमंद, बल्लबनगर व सुजानगढ़ से उपचुनाव मे कांग्रेस के उम्मीदवार हिमांशु जौशी, वैभव गहलोत, प्रीति शक्तावत व मनोज मेघवाल के नाम लगभग तय बताये जा रहे है। इसके विपरीत विधानसभा अध्यक्ष सीपी जौशी ने हिमांशु जौशी व वैभव गहलोट के चुनाव लड़ने की अटकलों को खारिज किया है। अगर वैभव किसी कारण नही लड़ पाये तो फिर मिराज ग्रूप के सीएमडी मदन पालीवाल उम्मीदवार होगे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
लखनऊ : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के 51 वे जन्म दिवस पर NSUI के आदित्य चौधरी द्वारा अनाथालय में अनाथ बच्चों को आवश्यक वस्तुएँ का वितरण किया गया
चित्र
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र
यूआईटी की अवैध कालोनियों पर की गई कार्यवाही से जिले की कांग्रेस राजनीति मे हलचल बढीं।