राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव की तिथि जल्द घोषित हो सकती है। - चारो जगह कांग्रेस के उम्मीदवारो के नाम लगभग तय । राजसमंद से किसी कारण वैभव नही तो फिर मिराज ग्रूप के सीएमडी मदन पालीवाल उम्मीदवार होगे।

 
                  ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

               हालांकि राजस्थान के होने वाले चार विधानसभा उपचुनाव की तिथि व कांग्रेस के उम्मीदवारों की घोषणा अभी तक नही हो पाई है। लेकिन राजनीतिक हलके मे कांग्रेस के चारो जगह के उम्मीदवारो के नाम लगभग तय बताये जा रहे है। जिन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व विधानसभा अध्यक्ष सीपी जौशी की रजामंदी होना करीब करीब तय बताया जा रहा है।
         राजस्थान की बल्लभनगर विधानसभा से कांग्रेस विधायक गजेन्द्र सिंह शक्तावत के निधन होने से खाली सीट पर उनकी पत्नी प्रीति शक्तावत व सुजानगढ़ से कांग्रेस विधायक व मंत्री भंवरलाल मेघवाल के निधन के बाद खाली हुई सीट पर उनके पूत्र मनोज मेघवाल को उम्मीदवार बनाया जा रहा बताते है। इसके अतिरिक्त सहाड़ा के कांग्रेस विधायक कैलाश त्रिवेदी के निधन से खाली हुई सीट पर विधानसभा अध्यक्ष सीपी जौशी के पूत्र हिमांशु जौशी व राजसमंद से भाजपा विधायक किरण महेश्वरी के निधन से खाली हुई सीट पर मुख्यमंत्री पुत्र वैभव गहलोत के नाम की चर्चा है। महेश्वरी के निधन के बाद वैभव करीब चार दफा राजसमंद का दौरा कर चुके है। एवं समय मे राजसमंद के लिये विकास के काफी कामो की सरकारी स्तर पर घोषणाएं हो चुकी है।
             कुल मिलाकर यह है कि राजनीति मे कोई अगर बडा पेच नही फंसा तो सहाड़ा, राजसमंद, बल्लबनगर व सुजानगढ़ से उपचुनाव मे कांग्रेस के उम्मीदवार हिमांशु जौशी, वैभव गहलोत, प्रीति शक्तावत व मनोज मेघवाल के नाम लगभग तय बताये जा रहे है। इसके विपरीत विधानसभा अध्यक्ष सीपी जौशी ने हिमांशु जौशी व वैभव गहलोट के चुनाव लड़ने की अटकलों को खारिज किया है। अगर वैभव किसी कारण नही लड़ पाये तो फिर मिराज ग्रूप के सीएमडी मदन पालीवाल उम्मीदवार होगे।

टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - नये चुनाव के लिये सरकारी स्तर पर हलचल पर प्रशासक लगने के चांसेज अधिक बताये जा रहे है।
इमेज
लखनऊ पब्लिक स्कूल की स्थानीय शाखा में छात्र-छात्राओं एवं उनके माता-पिता व अभिभावकों के साथ काउंसलिंग संपन्न हुई।
इमेज