बिड़ला और बजाज जैसे नामी उधोगपति अगर लोकसभा चुनाव जीतते तो शेखावाटी जनपद के हालात आज अलग नजर आते।


              ।अशफाक कायमखानी।
सीकर।

            भारत के नामी उधोगपति टाटा व पांच साल पहले प्रधानमंत्री बने नरेन्द्र मोदी के बाद अचानक बडे उधोगपति बने अम्बानी को छोड़कर बाकी तमाम बडे नामीगिरामी उधोगपतियों की जन्मभुमि राजस्थान के शेखावाटी जनपद की होने के बावजूद उधोगिक क्रांति से अबतक क्षेत्र पूरी तरह अछूता रहा है।
             बिड़ला, बजाज, बांगड़, रुईया, पौदार, खेतान, लोहिया, गोयनका, मोदी, सोभासरीया, मित्तल, तोदी, शेखसरीया, डालमिया, मोरारका, रुंगटा, तापड़िया, चमड़िया, धानूका, सिंघानिया सहित अनेक नामी उधोगपतियों की जन्म स्थली शेखावाटी जनपद रहा है।
           उक्त शेखावाटी की भूमि के उधोगपतियों ने आजादी के पहले क्षेत्र मे स्कूल, कोलेज, कुऐं, अस्पताल, व धर्मशालाओ का निर्माण जगह जगह करवाकर अपनी जन्म भूमि की काफी हद तक सेवाएं करते हुये अपना फर्ज अंजाम दिया था। लेकिन उक्त उधोगपतियों मे से बजाज ग्रूप के कमलनयन बजाज ने 1952 से सीकर लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने का व बिड़ला ग्रूप के कृष्ण कुमार बिड़ला ने 1971 मे झूंझुनू लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने का साहस जूटाने के बावजूद उन दोनो को हार का मुहं देखना पड़ा तो वो दोनो ही उधोगपति ही नही ब्लकि दूसरे अन्य उधोगपतियो मे से कोई बडा उधोगपति जनपद से चुनाव लड़ने फिर नही आया।
              राजस्थान मे उधोगिक क्रांति व राजनीतिक बदलाव पर नजर रखने वालो का मानना है कि अगर बिड़ला व बजाज यहां से चुनाव उस समय जीत जाते तो उनका व उनके परिवार का शेखावाटी से विशेष लगाव लगातार बना रहता तो निश्चित ही वो क्षेत्र मे उधोगिक क्रांति लेकर आते है। लेकिन उन दोनो उम्मीदवारो का लोकसभा चुनाव हारना व तमाम उधोगपतियों की पीढी दर पीढी मे बदलाव व पूर्वजों की जन्म भूमि से लगाव धीरे धीरे कम होते चले जाने के कारण जनपद उधोगिक क्रांति से पूरी तरह अछूत बना हुवा है। इसके विपरीत कमलनयन बजाज के 1952 का लोकसभा चुनाव सीकर से हारने के बाद वर्धा से चुनाव लड़कर 1957, 1962, व 1967 मे चुनाव जीतकर सांसद बने थे।
              कुल मिलाकर यह है कि शेखावाटी के मतदाताओं के पास हर पांच साल बाद की तरह एक दफा चाहे कोई नामीगिरामी उधोगपति इस समय चुनाव मैदान मे ना सही पर फिर मौका आया है कि वो किसी भी वाद से उपर उठकर अपना स्थानीय मजबूत जनप्रतिनिधि को चुनकर लोकसभा मे भेजे ताकि उनकी आवाज को ताकत मिलने के बाद जनपद मे एक तरह से नई विकास की क्रांति लाई जा सके।

टिप्पणियां
Popular posts
युवा पार्षद व भामाशाह अनवर कुरैशी ने नवाब कायम खां यूनानी अस्पताल को गोद लेकर शुरू किया कोविड सेंटर के लिए कार्य
इमेज
सिकंदर खान ने पहले देश के लिए बॉर्डर पर अपनी सेवा दी अब लगे हुए हैं कोरोना मरीज़ों को ऑक्सिजन सिलेंडर की मुफ़्त सेवा देने में।
इमेज
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के ट्वीट से बवाल लोगो मे ट्वीट मे दी गई जानकारी को लेकर नाराजगी।
इमेज
आक्सीजन प्लांट के लिये खीचड़ परिवार ने पांच लाख व रंगरेज समाज ने दो लाख का चैक कलेक्टर को सौंपा।
इमेज
सीकर शहर मे इसी महीने आक्सीजन प्लांट लगकर आक्सीजन हकी आपूर्ति करने लगेगा।
इमेज