5000 का इनामी बदमाश को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 2 साल से था फरार।


       ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                सीकर जिले के दांतारामगढ़ पुलिस पुलिस ने  वर्षों  से फरार 5000 हजार के इनामी बदमाश को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।  गिरफ्तार  इनामी बदमाश पृथ्वीपुरा निवासी रहिश मीणा पुत्र नागर मीणा  है तथा उस पर   विभिन्न पुलिस थानों में अनेक प्रकरण दर्ज है । थाना प्रभारी हिम्मत सिंह ने बताया कि मामला करीब डेढ़ साल पहले थोई थाने का है। उन्होंने बताया कि 6 सितंबर 2019 को रहीश मीणा व चार पांच अन्य के खिलाफ थोई थाने में एक नाबालिग के अपहरण का मामला दर्ज करवाया गया था।
 

अनुसंधान से पाया गया कि उक्त प्रकरण में आरोपी रहीश मीणा पूर्व में आपराधिक प्रकरणो में चालानशुदा है तथा काफी शातिर प्रवृति का है। अभियुक्त की तलाश हेतु पुलिस टीम के द्वारा  प्रयास किये गये लेकिन आरोपी शातिर होने के कारण मोबाईल फोन काम में लेना नहीं पाया गया तथा ना ही अपने परिवारजनो से बाद घटना के सम्पर्क किया । जिस पर पुलिस टीम द्वारा अभियुक्त के रिश्तेदारो व संदिग्ध स्थानो पर टीम द्वारा लगातार दबीश दी गई।
 

लेकिन आरोपी लगातार अपनी जगह बदलता रहा तथा पुलिस टीम से बचता रहा । गठित टीम आरोपी का पीछा करती रही। इसी दौरान टीम को ईत्तला मिली कि आरोपी रहीश मीणा बीलवा थाना शिवदासपुरा जिला जयपुर में नाम बदलकर नवम्बर दिसम्बर 2020 में रूका था, गठित टीम द्वारा रहीश मीणा के सभी सम्पर्क में आने
वाले व्यक्तियो से गहनता से पुछताछ की गई तो रहीश मीणा ने इससे पूर्व जयपुर से अपनी जगह छोड़ दी।  थाना प्रभारी ने बताया कि टीम द्वारा लगातार पीछा कर शुक्रवार 05.02.2021 को शाहपुरा जयपुर ग्रामीण
से दस्तयाब कर गिरफतार किया गया।

टिप्पणियाँ
Popular posts
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
लखनऊ : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के 51 वे जन्म दिवस पर NSUI के आदित्य चौधरी द्वारा अनाथालय में अनाथ बच्चों को आवश्यक वस्तुएँ का वितरण किया गया
चित्र
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र
यूआईटी की अवैध कालोनियों पर की गई कार्यवाही से जिले की कांग्रेस राजनीति मे हलचल बढीं।