सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राहुल गांधी के दौरे के समय रुपनगढ की ट्रेक्टर रैली कार्यक्रम मे मंच से पायलट को उतारने को लेकर उभाल। पायलट 19-फरवरी को जयपुर जिले के कोटखावदा मे किसान महापंचायत को सम्बोधित करेंगे।

 


               ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                 राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा अनेक दफा यह कहना कि कांग्रेस मे एक मात्र वो माली जाती के विधायक जीतने के बावजूद तीसरी दफा मुख्यमंत्री बन चुके है एवं उनके व पायलट समर्थक विधायकों मे विवाद की स्थिति पैदा होने के समय गहलोत द्वारा पायलट के लिये नाकारा शब्द का उपयोग करने के बाद से गहरी हुई खाई अभी कुछ भरी भी नही थी कि अभी 13-फरवरी को राहुल गांधी के दौरे के समय अजमेर के रुपनगढ की ट्रेक्टर रैली कार्यक्रम के समय मंच से पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को नीचें उतारने के बाद से कांग्रेस के अंदरूनी झगड़े की खाई को ओर अधिक गहरा कर दिया है। पायलट को मंच से उतारने की घटना को पायलट समर्थक व आम जनता मुख्यमंत्री गहलोत से जोड़कर देख रहे है।
              किसान आंदोलन व किसानों की मांग के समर्थन मे सचिन पायलट खेमे द्वारा राजस्थान के हर जिले मे किसान महापंचायत करने के सीलसीले मे राहुल गांधी के दौरे के बाद व रुपनगढ के कार्यक्रम मे पायलट को मंच से नीचे उतारने का जहर का घूंट पीने के बाद पायलट समर्थक विधायक वैद प्रकाश सोलंकी द्वारा अपने निर्वाचन क्षेत्र चाकसू यानी जयपुर जिले के कोटखावदा गांव मे 19-फरवरी को किसान महापंचायत आयोजित कर रहे है। जिसमे लाखो किसानों के शामिल होने की उम्मीद जताई जा रही है। हालांकि विधायक वैद प्रकाश ने सचिन पायलट सहित मुख्यमंत्री गहलोत व प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा सहित अनेक कांग्रेस नेताओं को आमंत्रित किया है। लेकिन मुख्यमंत्री व डोटासरा सहित उनके खेमे के किसी नेता के उक्त महापंचायत मे शामिल होने की उम्मीद क्षीण है। इससे पहले पायलट समर्थक दौसा विधायक मुरारी मीणा द्वारा दौसा मे आयोजित की गई किसान महापंचायत मे दौसा जिले से तालूक रखने वाले विधायक व मुख्यमंत्री समर्थक मंत्री परशादी लाल मीणा व ममता भुपेश ने कार्यक्रम देने के बावजूद उस महापंचायत मे शिरकत नही की थी। जबकि उक्त तरह की आयोजित होने वाली महापंचायतों मे पायलट व उनके समर्थक अधीकांश विधायक शामिल हो रहे है।
              राजस्थान की राजनीति के जानकार मानते है कि जनता मे जनाधार व मतदाताओं पर मजबूत पकड़ रखने वाले नेता के तौर पर गहलोत के मुकाबले पायलट को वर्तमान समय मे बडा नेता माना जा रहा है। लेकिन तिकड़म व दिल्ली हाईकमान को ढंग से मेनेज करने की कला मे पायलट के मुकाबले गहलोत को काफी आगे माना जा रहा है। 12-13 फरवरी के राहुलगांधी के राजस्थान दौरे के समय रुपनगढ की ट्रेक्टर रैली कार्यक्रम के समय मंच से पायलट को नीचें उतारने की घटना से राजस्थान की जनता मे पायलट के साथ अन्याय होना मानने के चलते उनके प्रति सहानुभूति पनपने के पैमाने मे भारी इजाफा होना देखा जा रहा है। ओर इस घटना के लिये मुख्यमंत्री गहलोत को जिम्मेदार माना जा रहा है।
              असंतोष नही भभकने के लिये मुख्यमंत्री गहलोत राजनीतिक नियुक्तिया व मंत्रीमण्डल विस्तार व बदलाव को लगातार आगे बढाने मे लगे हुये है। लेकिन चार उपचुनाव व बजट सत्र सम्पन्न होने के बाद करीब मई महीने के बाद मुख्यमंत्री के लिये यह सब टालना मुश्किल होगा। मुख्यमंत्री गहलोत की कार्यशेली को लेकर विधायकों व कांग्रेस मे जारी असंतोष मे अंदर ही अंदर उभाल आ रहा है। कब विस्फोटक स्थिति धारण करले कह नही सकते। पांडूचेरी मे आज के राहुल गांधी के दौरे के पहले कांग्रेस के एक एक करके चार विधायकों के त्याग पत्र देने के बाद वहां कांग्रेस सरकार के अल्पमत मे आने की घटना की तरह किसी अलग रुप मे राजस्थान मे भी घटीत होने के हालात फिर से बनने के आसार नजर आने लग रहे है।
   .                कुल मिलाकर यह है कि 13-फरवरी को राहुल गांधी के दौरे के समय रुपनगढ की टेक्टर रैली कार्यक्रम मे मंच से सचिन पायलट को नीचे उतारकर राहुल के अलावा गहलोत व डोटासरा के मंच पर रहने की घटना को आम जनता के गहलोत से जोड़कर देखने के अलावा पायलट के साथ अन्याय होना मानकर चल रही है। उक्त घटना से पायलट के प्रति सहानुभूति का ग्राफ बढा है। एवं अब 19-फरवरी को सचिन पायलट मुख्यमंत्री गहलोत के सामने जयपुर के कोटखावदा मे किसान महापंचायत को सम्बोधित करने आ रहे है। इससे पहले दौसा व भरतपुर जिले मे पायलट की आयोजित किसान महापंचायत मे भारी भीड़ उमड़ने से राजनीतिक हलके मे नई बहस को जन्म दे दिया है।कोटखावदा की महापंचायत को लोग छाती पर आकर मूंग दलने की कहावत से जोड़कर भी देख रहे है।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।