सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राहुल गांधी के दौरे के समय रुपनगढ की ट्रेक्टर रैली कार्यक्रम मे मंच से पायलट को उतारने को लेकर उभाल। पायलट 19-फरवरी को जयपुर जिले के कोटखावदा मे किसान महापंचायत को सम्बोधित करेंगे।

 


               ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                 राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा अनेक दफा यह कहना कि कांग्रेस मे एक मात्र वो माली जाती के विधायक जीतने के बावजूद तीसरी दफा मुख्यमंत्री बन चुके है एवं उनके व पायलट समर्थक विधायकों मे विवाद की स्थिति पैदा होने के समय गहलोत द्वारा पायलट के लिये नाकारा शब्द का उपयोग करने के बाद से गहरी हुई खाई अभी कुछ भरी भी नही थी कि अभी 13-फरवरी को राहुल गांधी के दौरे के समय अजमेर के रुपनगढ की ट्रेक्टर रैली कार्यक्रम के समय मंच से पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को नीचें उतारने के बाद से कांग्रेस के अंदरूनी झगड़े की खाई को ओर अधिक गहरा कर दिया है। पायलट को मंच से उतारने की घटना को पायलट समर्थक व आम जनता मुख्यमंत्री गहलोत से जोड़कर देख रहे है।
              किसान आंदोलन व किसानों की मांग के समर्थन मे सचिन पायलट खेमे द्वारा राजस्थान के हर जिले मे किसान महापंचायत करने के सीलसीले मे राहुल गांधी के दौरे के बाद व रुपनगढ के कार्यक्रम मे पायलट को मंच से नीचे उतारने का जहर का घूंट पीने के बाद पायलट समर्थक विधायक वैद प्रकाश सोलंकी द्वारा अपने निर्वाचन क्षेत्र चाकसू यानी जयपुर जिले के कोटखावदा गांव मे 19-फरवरी को किसान महापंचायत आयोजित कर रहे है। जिसमे लाखो किसानों के शामिल होने की उम्मीद जताई जा रही है। हालांकि विधायक वैद प्रकाश ने सचिन पायलट सहित मुख्यमंत्री गहलोत व प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा सहित अनेक कांग्रेस नेताओं को आमंत्रित किया है। लेकिन मुख्यमंत्री व डोटासरा सहित उनके खेमे के किसी नेता के उक्त महापंचायत मे शामिल होने की उम्मीद क्षीण है। इससे पहले पायलट समर्थक दौसा विधायक मुरारी मीणा द्वारा दौसा मे आयोजित की गई किसान महापंचायत मे दौसा जिले से तालूक रखने वाले विधायक व मुख्यमंत्री समर्थक मंत्री परशादी लाल मीणा व ममता भुपेश ने कार्यक्रम देने के बावजूद उस महापंचायत मे शिरकत नही की थी। जबकि उक्त तरह की आयोजित होने वाली महापंचायतों मे पायलट व उनके समर्थक अधीकांश विधायक शामिल हो रहे है।
              राजस्थान की राजनीति के जानकार मानते है कि जनता मे जनाधार व मतदाताओं पर मजबूत पकड़ रखने वाले नेता के तौर पर गहलोत के मुकाबले पायलट को वर्तमान समय मे बडा नेता माना जा रहा है। लेकिन तिकड़म व दिल्ली हाईकमान को ढंग से मेनेज करने की कला मे पायलट के मुकाबले गहलोत को काफी आगे माना जा रहा है। 12-13 फरवरी के राहुलगांधी के राजस्थान दौरे के समय रुपनगढ की ट्रेक्टर रैली कार्यक्रम के समय मंच से पायलट को नीचें उतारने की घटना से राजस्थान की जनता मे पायलट के साथ अन्याय होना मानने के चलते उनके प्रति सहानुभूति पनपने के पैमाने मे भारी इजाफा होना देखा जा रहा है। ओर इस घटना के लिये मुख्यमंत्री गहलोत को जिम्मेदार माना जा रहा है।
              असंतोष नही भभकने के लिये मुख्यमंत्री गहलोत राजनीतिक नियुक्तिया व मंत्रीमण्डल विस्तार व बदलाव को लगातार आगे बढाने मे लगे हुये है। लेकिन चार उपचुनाव व बजट सत्र सम्पन्न होने के बाद करीब मई महीने के बाद मुख्यमंत्री के लिये यह सब टालना मुश्किल होगा। मुख्यमंत्री गहलोत की कार्यशेली को लेकर विधायकों व कांग्रेस मे जारी असंतोष मे अंदर ही अंदर उभाल आ रहा है। कब विस्फोटक स्थिति धारण करले कह नही सकते। पांडूचेरी मे आज के राहुल गांधी के दौरे के पहले कांग्रेस के एक एक करके चार विधायकों के त्याग पत्र देने के बाद वहां कांग्रेस सरकार के अल्पमत मे आने की घटना की तरह किसी अलग रुप मे राजस्थान मे भी घटीत होने के हालात फिर से बनने के आसार नजर आने लग रहे है।
   .                कुल मिलाकर यह है कि 13-फरवरी को राहुल गांधी के दौरे के समय रुपनगढ की टेक्टर रैली कार्यक्रम मे मंच से सचिन पायलट को नीचे उतारकर राहुल के अलावा गहलोत व डोटासरा के मंच पर रहने की घटना को आम जनता के गहलोत से जोड़कर देखने के अलावा पायलट के साथ अन्याय होना मानकर चल रही है। उक्त घटना से पायलट के प्रति सहानुभूति का ग्राफ बढा है। एवं अब 19-फरवरी को सचिन पायलट मुख्यमंत्री गहलोत के सामने जयपुर के कोटखावदा मे किसान महापंचायत को सम्बोधित करने आ रहे है। इससे पहले दौसा व भरतपुर जिले मे पायलट की आयोजित किसान महापंचायत मे भारी भीड़ उमड़ने से राजनीतिक हलके मे नई बहस को जन्म दे दिया है।कोटखावदा की महापंचायत को लोग छाती पर आकर मूंग दलने की कहावत से जोड़कर भी देख रहे है।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रभारी महामंत्री अजय माकन के राजस्थान के फीडबैक कार्यक्रम मे पीसीसी सदस्य शरीफ की आवाज से कांग्रेस  हलके मे हड़कंप।

  जयपुर।             राजस्थान के नव मनोनीत प्रभारी कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री अजय माकन द्वारा प्रदेश के अलग अलग सम्भाग के फीडबैक कार्यक्रम के तहत 10-सितंबर को जयपुर सम्भाग के जिलेवार फीडबैक लेने के सिलसिले मे सीकर जिले के नेताओं व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिये जाते समय पीसीसी सदस्य मोहम्मद शरीफ द्वारा मुस्लिम समुदाय के सम्बन्धित सवाल खड़े करने के साथ माकन को दिये गये पार्टी हित मे उनके सुझावों के बाद वायरल उनके वीडियो से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे हड़कंप मचा हुवा है।                    कांग्रेस कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने प्रभारी महामंत्री अजय माकन, अचानक बने प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा व प्रभारी सचिव एवं अन्य सीनियर नेताओं की मोजूदगी मे कहा कि मुस्लिम समुदाय चुनावो के समय बडी तादाद मे कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करके कांग्रेस सरकार के गठन मे अहम किरदार अदा करता है। लेकिन सरकार बनने के बाद उन्हे सत्ता मे उचित हिस्सेदारी नही मिलती है। प्रदेश मे कांग्रेस के नो मुस्लिम विधायक होने के बावजूद केवल मात्र एक विधायक शाले मोहम्मद को मंत्री बनाकर उन्हें अल्पसंख्यक मंत्रालय तक सीमित करके र

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि