मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अब कांग्रेस मे मजबूत नेता के तौर पर उभरेगे। - राजस्थान मे मुख्यमंत्री की हैसीयत से जैसा चाहा वैसा किया ओर अगले तीन साल भी करेगे।

 



                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                घर परिवार मे जो आर्थिक प्रबंधन समय पर ढंग से व नेतृत्व का विश्वास एवं वफादारी का रोल कायम करता रहता है उस शख्स की पारिवारिक फैसलो मे महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। उसी तरह किसी भी राजनीतिक दल को चलाने के लिये उसके लिये समय पर ढंग से आर्थिक प्रबंधन व नेतृत्व के प्रति वफादारी जो नेता करता रहता है उसकी उस दल मे चवन्नी एक रुपये मे चलती है। उक्त सब विषयों मे अशोक गहलोत को कांग्रेस का संकटमोचन व पारंगत बताया जाता है। भारत के महत्वपूर्ण व पूरी तरह शिक्षित प्रदेश केरल के कुछ महीने बाद होने वाले आम विधानसभा चुनाव के लिये कांग्रेस पार्टी ने अशोक गहलोत की इसी खुबीयो के चलते उनपर विश्वास जताते हुये उन्हें चुनावी इंचार्ज बनाया है। गहलोत कल पार्टी संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल के साथ केरल पहुंच कर अपना काम शुरू कर दिया है।
                       हालांकि राजस्थान कांग्रेस की राजनीति मे अशोक गहलोत ने पहले कम उम्र मे प्रदेश अध्यक्ष व केंद्र मे मंत्री बनकर अपना लोहा मनवाने के साथ साथ 1998 अपनी राह के सभी तरह के रोड़े दूर करके पहली दफा मुख्यमंत्री बनने के बाद लगातार एक एक मुख्यमंत्री बनने की दौड़ मे लगे दिग्गज नेताओं को साईड लाईन करते हुये तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनने मे सफल हो गये। तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनने के बाद अपने मुकाबिल नेता सचिन पायलट को जबदस्त झटका देकर प्रदेश अध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री पद से हटाने के साथ साथ उनके कट्टर समर्थक दो अन्य मंत्री राजा विश्वेन्द्र सिंह व रमेश मीणा को भी मंत्रीमंडल से बाहर का रास्ता दिखाया। आठ महीने होने को आये ना उन मंत्रियों को वापस केबिनेट मे शामिल किया ओर ना ही सचिन पायलट को पहले वाले मुकाम पर आने दिया है। वही राजनीतिक नियुक्तियों व मंत्रीमंडल विस्तार व बदलाव को आजकल आजकल करते करते लम्बा समय निकाल दिया ओर अब लगता है कि केरल चुनाव की व्यस्तता के बहाने फिर समय निकलता जायेगा। बीच बीच मे रुक रुक कर एक एक करके गहलोत अपने समर्थकों को राजनीतिक नियुक्तिया देकर नवाजते रहेगे ओर विरोधी झटके पर झटके खाते रहेगे।
  

           

 मुख्यमंत्री गहलोत ने मुख्यमंत्री बनते ही महाधिवक्ता व अतिरिक्त महाअधिवक्ताओ का मनोनयन अपने अनुसार किया। उसके बाद बाल संरक्षण अधिकार आयोग की अध्यक्ष संगीता को बनाया। उसके बाद लोकसेवा आयोग व मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष व सदस्यों का चयन अपने अनुसार किया। मुख्य सूचना आयुक्त व सुचना आयुक्तों का मनोनयन भी गहलोत ने अपने अनुसार किया। उक्त सभी तरह के मनोनयन मे सचिन पायलट की किसी भी तरह की शह नही होना बताया जा रहा है।
            कुल मिलाकर यह है कि किसी भी राजनीतिक दल को चलाने के लिये अनेक तरह के प्रबंधन करने के अतिरिक्त नेतृत्व का विश्वास पात्र एवं वफादार होना नेताओं का आवश्यक होता है। जब वो राजनीतिक दल बूरे दौर व सत्ता से कुछ समय से दूर रहे तो उस दल के लिये कुछ नेता काफी महत्वपूर्ण हो जाते है। जो नेता दल की आवश्यक जरुरतो को पूरी करने की क्षमता का निर्वाह ठीक से करते हुये शीर्ष नेतृत्व के प्रति वफादार भी हो। ऐसी ही कुछ खुबीयो की ताकत के बल पर लगता है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत वर्तमान हालात मे कांग्रेस के लिये  महत्वपूर्ण शख्सियत बन चुके है। तभी राजस्थान मे अगर कांग्रेस बहुमत मे रही तो वो बाकी तीन साल ओर वोही मुख्यमंत्री पद पर बने रहेगे। सत्ता व संगठन के लिये पायलट के ऊपर गहलोत को तरजीह मिलती ही रहेगी।

टिप्पणियां
Popular posts
युवा पार्षद व भामाशाह अनवर कुरैशी ने नवाब कायम खां यूनानी अस्पताल को गोद लेकर शुरू किया कोविड सेंटर के लिए कार्य
इमेज
सिकंदर खान ने पहले देश के लिए बॉर्डर पर अपनी सेवा दी अब लगे हुए हैं कोरोना मरीज़ों को ऑक्सिजन सिलेंडर की मुफ़्त सेवा देने में।
इमेज
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के ट्वीट से बवाल लोगो मे ट्वीट मे दी गई जानकारी को लेकर नाराजगी।
इमेज
आक्सीजन प्लांट के लिये खीचड़ परिवार ने पांच लाख व रंगरेज समाज ने दो लाख का चैक कलेक्टर को सौंपा।
इमेज
सीकर शहर मे इसी महीने आक्सीजन प्लांट लगकर आक्सीजन हकी आपूर्ति करने लगेगा।
इमेज