सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अब कांग्रेस मे मजबूत नेता के तौर पर उभरेगे। - राजस्थान मे मुख्यमंत्री की हैसीयत से जैसा चाहा वैसा किया ओर अगले तीन साल भी करेगे।

 



                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                घर परिवार मे जो आर्थिक प्रबंधन समय पर ढंग से व नेतृत्व का विश्वास एवं वफादारी का रोल कायम करता रहता है उस शख्स की पारिवारिक फैसलो मे महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। उसी तरह किसी भी राजनीतिक दल को चलाने के लिये उसके लिये समय पर ढंग से आर्थिक प्रबंधन व नेतृत्व के प्रति वफादारी जो नेता करता रहता है उसकी उस दल मे चवन्नी एक रुपये मे चलती है। उक्त सब विषयों मे अशोक गहलोत को कांग्रेस का संकटमोचन व पारंगत बताया जाता है। भारत के महत्वपूर्ण व पूरी तरह शिक्षित प्रदेश केरल के कुछ महीने बाद होने वाले आम विधानसभा चुनाव के लिये कांग्रेस पार्टी ने अशोक गहलोत की इसी खुबीयो के चलते उनपर विश्वास जताते हुये उन्हें चुनावी इंचार्ज बनाया है। गहलोत कल पार्टी संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल के साथ केरल पहुंच कर अपना काम शुरू कर दिया है।
                       हालांकि राजस्थान कांग्रेस की राजनीति मे अशोक गहलोत ने पहले कम उम्र मे प्रदेश अध्यक्ष व केंद्र मे मंत्री बनकर अपना लोहा मनवाने के साथ साथ 1998 अपनी राह के सभी तरह के रोड़े दूर करके पहली दफा मुख्यमंत्री बनने के बाद लगातार एक एक मुख्यमंत्री बनने की दौड़ मे लगे दिग्गज नेताओं को साईड लाईन करते हुये तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनने मे सफल हो गये। तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनने के बाद अपने मुकाबिल नेता सचिन पायलट को जबदस्त झटका देकर प्रदेश अध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री पद से हटाने के साथ साथ उनके कट्टर समर्थक दो अन्य मंत्री राजा विश्वेन्द्र सिंह व रमेश मीणा को भी मंत्रीमंडल से बाहर का रास्ता दिखाया। आठ महीने होने को आये ना उन मंत्रियों को वापस केबिनेट मे शामिल किया ओर ना ही सचिन पायलट को पहले वाले मुकाम पर आने दिया है। वही राजनीतिक नियुक्तियों व मंत्रीमंडल विस्तार व बदलाव को आजकल आजकल करते करते लम्बा समय निकाल दिया ओर अब लगता है कि केरल चुनाव की व्यस्तता के बहाने फिर समय निकलता जायेगा। बीच बीच मे रुक रुक कर एक एक करके गहलोत अपने समर्थकों को राजनीतिक नियुक्तिया देकर नवाजते रहेगे ओर विरोधी झटके पर झटके खाते रहेगे।
  

           

 मुख्यमंत्री गहलोत ने मुख्यमंत्री बनते ही महाधिवक्ता व अतिरिक्त महाअधिवक्ताओ का मनोनयन अपने अनुसार किया। उसके बाद बाल संरक्षण अधिकार आयोग की अध्यक्ष संगीता को बनाया। उसके बाद लोकसेवा आयोग व मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष व सदस्यों का चयन अपने अनुसार किया। मुख्य सूचना आयुक्त व सुचना आयुक्तों का मनोनयन भी गहलोत ने अपने अनुसार किया। उक्त सभी तरह के मनोनयन मे सचिन पायलट की किसी भी तरह की शह नही होना बताया जा रहा है।
            कुल मिलाकर यह है कि किसी भी राजनीतिक दल को चलाने के लिये अनेक तरह के प्रबंधन करने के अतिरिक्त नेतृत्व का विश्वास पात्र एवं वफादार होना नेताओं का आवश्यक होता है। जब वो राजनीतिक दल बूरे दौर व सत्ता से कुछ समय से दूर रहे तो उस दल के लिये कुछ नेता काफी महत्वपूर्ण हो जाते है। जो नेता दल की आवश्यक जरुरतो को पूरी करने की क्षमता का निर्वाह ठीक से करते हुये शीर्ष नेतृत्व के प्रति वफादार भी हो। ऐसी ही कुछ खुबीयो की ताकत के बल पर लगता है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत वर्तमान हालात मे कांग्रेस के लिये  महत्वपूर्ण शख्सियत बन चुके है। तभी राजस्थान मे अगर कांग्रेस बहुमत मे रही तो वो बाकी तीन साल ओर वोही मुख्यमंत्री पद पर बने रहेगे। सत्ता व संगठन के लिये पायलट के ऊपर गहलोत को तरजीह मिलती ही रहेगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।