बल्लभनगर कांग्रेस विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत का निधन। - गजेन्द्र सिंह के जाने से सचिन पायलट को बडा झटका माना जा रहा है।


         ।अशफाक कायमखानी।
 जयपुर।

                   राजस्थान के उदयपुर जिले के बल्लभनगर से कांग्रेस विधायक गजेन्द्र सिंह शक्तावत के आज निधन होने के बाद आज केबिनेट की होने वाली बैठक मुख्यमंत्री द्वारा रद्द करने के अलावा मुख्यमंत्री गहलोत ने गहरा शौक व्यक्त किया है।
         राजस्थान के दिग्गज कांग्रेस नेता व राजस्थान सरकार मे अनेक दफा केबिनेट मंत्री रहे मरहूम गुलाब सिंह शक्तावत के पूत्र व विधायक गजेन्द्र सिंह शक्तावत के निधन के बाद प्रदेश मे शोक की लहर छा गई है।
           राजस्थान मे वर्तमान विधानसभा मे कांग्रेस के कुल 101 सदस्यों मे से तीन विधायकों का निधन हो चुका है। जबकि एक भाजपा विधायक का निधन हो गया है। पीछले दिनो जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की कार्यशैली को लेकर दिल्ली हाईकमान को अपनी बात कहने गये सचिन पायलट के नेतृत्व मे विधायकों के दल मे गजेन्द्र शक्तावत पेश पेश थे। गजेन्द्र के निधन से कांग्रेस पार्टी के साथ साथ सचिन पायलट को भी मजबूत साथी खो जाने का बडा झटका लगा है।
           गजेन्द्र शक्तावत के निधन से पहले कांग्रेस के सहाड़ा विधायक कैलाश त्रिवेदी व सुजानगढ़ विधायक भंवरलाल मेघवाल एवं राजसमंद से भाजपा विधायक किरण महेश्वरी का भी निधन हो चुका है। जिनके निधन के बाद होने वाले उपचुनाव की तारीख तय नही हुई है।
                   कुल मिलाकर यह है कि 200 सदस्यों वाली राजस्थान विधानसभा के तीन कांग्रेस व एक भाजपा सदस्य का निधन होने से अब कुल 196 सदस्य वर्तमान मे है। मात्र बहुमत से एक सीट अधिक कांग्रेस पार्टी को पूर्ण बहुमत बनाये रखने के लिये बसपा से कांग्रेस मे आये छ विधायकों व निर्दलीय विधायकों के समर्थन पर निर्भर रहना होगा।

टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कांग्रेस विधायक एक एक करके दूर होने लगे!
इमेज
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।