जयपुर पुलिस के अनुसार चंद्रभान और हरीश जयपुर में काफी दिनों से सक्रिय थे. वो अपने तीसरे साथी के साथ यहां स्कूटी से घूमकर रेकी करते थे. उनके निशाने पर सूने मकानों और फ्लैट होते थे. इसके बाद वो तीनों जयपुर में चोरी की वारदातों को अंजाम देते थे

      ।अशफाक कायमखानी।

जयपुर. पिंक सिटी जयपुर में घरों में घुसकर चोरी करने वाले एक अंतरराज्यीय चोर गिरोह का पर्दाफाश हुआ है. इस गिरोह को उत्तर प्रदेश का एक ग्राम प्रधान और दूसरा प्रधान पति अपने साथियों के साथ मिलकर संचालित कर रहा था. यह शातिर गिरोह जयपुर के अलग-अलग जगहों में घूम-घूमकर सूने मकानों को ढूंढता था और उसपर धावा बोलकर नकदी और जेवरात लेकर रफूचक्कर हो जाता था. पुलिस को इस गिरोह की लंबे समय से तलाश थी. गिरफ्तारी के बाद आरोपियों ने पूछताछ में कई खुलासे किए हैं.
जयपुर पुलिस के अनुसार यहां पिछले कई दिनों से चोरी की घटनाएं प्रकाश में आ रही थीं. चोर सूने मकानों को निशाना बनाकर चंपत हो जाते थे. डीसीपी ने बताया कि गिरोह का सरगना चंद्रभान और हरीश चंद्र उत्तर प्रदेश से जयपुर आते थे. पकड़े गए चोरों में से एक ग्राम प्रधान है. जबकि उसका दूसरा साथी खुद को एक ग्राम प्रधान का पति बता रहा है. गिरफ्तार दोनों आरोपी उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं. पुलिस ने इसके कब्जे से कैश, सोने-चांदी के गहने और अन्य कीमती सामान बरामद किया है.
जयपुर पुलिस के अनुसार चंद्रभान और हरीश जयपुर में काफी दिनों से सक्रिय थे. वो अपने तीसरे साथी के साथ यहां स्कूटी से घूमकर रेकी करते थे. उनके निशाने पर सूने मकानों और फ्लैट होते थे. इसके बाद वो तीनों जयपुर में चोरी की वारदातों को अंजाम देते थे.

आरोपियों ने पूछताछ के दौरान कई खुलासे किए हैं. इस गिरोह ने राजस्थान और दिल्ली सहित अन्य राज्यों में दर्जनभर से ज्यादा चोरियां करने की बात कबूल की है. इनकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस इनके दूसरे साथियों को पकड़ने की कोशिश में है. पुलिस चोरी गई अन्य सामानों को भी बरामद करने का प्रयास कर रही है.

टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
एल पी एस निदेशक नेहा सिंह व हर्षित सिंह सम्मानित किये गये
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - नये चुनाव के लिये सरकारी स्तर पर हलचल पर प्रशासक लगने के चांसेज अधिक बताये जा रहे है।
इमेज