सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उर्दू व मदरसा पैराटीचर्स की मांगो सहित अन्य महत्वपूर्ण मांगों को लेकर 18-जनवरी को उर्दू शिक्षक संघ मुख्यमंत्री गहलोत का घेराव किया जायेगा।



                 ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

             दो महीने पहले उर्दू व मदरसा पैराटीचर्स की मांगो को लेकर चूरु से दाण्डी (गुजरात) की पैदल यात्रा पर निकले शिक्षक शमशेर खान का आंदोलन परवान चढने के साथ ही मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा अपने एक मातहत अल्पसंख्यक नेता के मार्फत मध्य रास्ते मे शमशेर को रुकने पर राजी करके आंदोलन को कुचलनने के बाद कोरे आश्वासनों के बाद मांगो के अबतक जस की तस रहने के अवाम मे सरकार के प्रति बढते आक्रोश के बाद उर्दू शिक्षक संघ के अध्यक्ष आमीन कायमखानी, मदरसा पैराटीचर्स संघ के अध्यक्ष मसूद अख्तर व सामाजिक कार्यकर्ता मैमूना नरगिस के नेतृत्व मे राजस्थान भर के उर्दू शिक्षक व पैराटीचर्स जयपुर कलेक्ट्रेट के सामने जमा होकर 18-जनवरी को जयपुर शहर मे रैली निकाल कर सिविल लाईन स्थित मुख्यमंत्री निवास पर प्रदर्शन व घेराव करके अपनी मांगे मानने का दवाब बनायेगे।
               गहलोत सरकार के शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा की हठधर्मिता ओर मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा उर्दू व पैराटीचर्स की मांगो को लेकर अनदेखी करने का रवैया लगातार अपनाये जाने के कारण अल्पसंख्यक समुदाय मे उनकी कार्यशैली को लेकर आक्रोश का पारा लगातार चढते जाने के उपरांत शिक्षक शमशेर खान दाण्डी यात्रा पर निकले थे जिस यात्रा को भरपूर जन समर्थन मिलते नजर आने के बाद सरकार उस आंदोलन को कुचलने मे तो सफल रही लेकिन आंदोलनों के प्रयाय माने जाने वाले उर्दू शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष आमीन कायमखानी पर सहानुभूति के डोरे डालने मे अभी तक सरकार सफल नही होने के चलते उनके द्वारा मुख्यमंत्री निवास का घेराव करने के ऐहलान करने के बाद सरकारी स्तर पर हलचल बढना बताया जा रहा है।
               हालांकि उर्दू को लेकर शिक्षक संघ की सभी मांगे नियमो के दायरे मे आने के बावजूद सरकार हठधर्मिता अपनाते हुये उनको मानने से अबतक दूर भागती आ रही है। संघ की प्रमुख मांग है कि भाजपा सरकार के समय 2004 मे शिक्षा निदेशक के जारी आदेश को बहाल रखते हुये शिक्षक भर्ती मे उर्दू शिक्षकों की भर्ती उसी अनुपात मे की जाये। इसके अलावा जिस स्कूल व कालेज मे छात्र-छात्राऐ अल्पसंख्यक भाषा पढना चाहते है वहां उस भाषा के शिक्षक की नियुक्ति की व्यवस्था कायम हो। इसके अलावा मदरसा पैराटीचर्स भाजपा सरकार द्वारा 2008 मे जिस तरह उनका स्थाईकरण किया था, उसी तरह कांग्रेस सरकार भी मदरसा पैराटीचर्स का स्थाईकरण करे एवं समान कार्य समान वेतन का नियम उनके लिये भी लागू करे। इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा बंद की गई उर्दू मीडियम स्कूलो को फिर से शूरु करने की मांग सहित कुछ अन्य महत्वपूर्ण मांगे है।
                  राजस्थान उर्दू शिक्षक संघ के अध्यक्ष आमीन कायमखानी ने बताया कि उर्दू शिक्षक व मदरसा पैराटीचर्स एवं सामाजिक कारकून 18-जनवरी को पहले कलेक्ट्रेट पर इकठ्ठा होगे फिर रैली के रुप मे सिविल लाईन पहुंच कर मुख्यमंत्री का घेराव करके उनकी मांगो को मानने का दवाब बनायेंगे।
                  कुल मिलाकर यह है कि मुस्लिम समुदाय द्वारा जायज मांगो को लेकर किये जाने वाले आंदोलनों का गहलोत सरकार पर अभी तक कोई खास असर नही पड़ पाया है। जिसके प्रमुख कारण यह है कि आंदोलन के साथ ही समुदाय मे कुछ जयचंद पैदा हो जाते है जो अपनी भुमिका निभाने से कभी चूकते नही है। फिर भी आमीन कायमखानी जैसा तेजतर्रार व चालाक संघर्षरत शिक्षक नेता अपने आंदोलनों के मार्फत विभिन्न सरकारों को कभी कभी झुकाकर अपनी कुछ मांगे मनवाने मे कामयाब जरूर रहे है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।