हार्डकोर अपराधी पपला गुर्जर को कोर्ट ने 13 दिन का दिया पुलिस रिमांड, पुलिस अब पपला और महिला मित्र जिया को आमने-सामने बिठाकर करेगी पूछताछ

       अशफ़ाक़ कायमखानी

हार्डकोर अपराधी विक्रम गुर्जर उर्फ पपला गुर्जर को पुलिस ने शनिवार को बहरोड़ कोर्ट में फिर पेश किया। कोर्ट ने पपला को 13 दिन यानी 11 फरवरी तक की पुलिस रिमांड पर देने के आदेश दिए। पुलिस शनिवार को भारी सुरक्षा व्यवस्था के साथ जेल से पपला को बहरोड कोर्ट में पेश करने के लिए लाई जहां कोर्ट ने पुलिस की मांग पर पुलिस हिरासत में देने की बात मान ली। इससे पहले शुक्रवार को पुलिस ने पपला की महिला मित्र जिया को 7 दिन के पुलिस रिमांड पर देने के आदेश किए थे। अब पुलिस पपला और जिया को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ करेगी जिससे कि उनके राज सामने लाया जा सके। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अब तक की पूछताछ में पपला की महिला मित्र जिया ने पुलिस को बताया है कि पपला अपराधी है वह यह नहीं जानती थी।
पपला ने मानसिंह नाम से उससे मुलाकात की थी। हालांकि जिया का यह बयान पुलिस के गले नहीं उतर रहा है। ऐसे में पुलिस जिया और पपला को आमने-सामने बैठाकर भी पूछताछ कर सकती है। बता दें कि पपला गुर्जर व कोल्हापुर निवासी महिला मित्र को पुलिस शुक्रवार को अलवर लेकर आई थी। पपला गुर्जर के खिलाफ हरियाणा में हत्या और दुष्कर्म जैसे कई मामले दर्ज हैं। अलवर जिले के बहरोड़ थाने से हमला करके 6 सितंबर 2019 को उसके साथी उसे छुड़ा ले गए। बदमाशों ने एके- 47 से थाने में फायरिंग की थी। यह प्रदेश की बड़ी घटना थी। प्रदेश की पुलिस ने महाराष्ट्र पुलिस की सहायता से दो दिन पहले कोल्हापुर से पपला को उसकी महिला मित्र के साथ एक किराए के मकान से गिरफ्तार किया था।

टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
एल पी एस निदेशक नेहा सिंह व हर्षित सिंह सम्मानित किये गये
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - नये चुनाव के लिये सरकारी स्तर पर हलचल पर प्रशासक लगने के चांसेज अधिक बताये जा रहे है।
इमेज