सीकर मे कांग्रेस को उप जिला प्रमुख का उम्मीदवार तक नही मिला। भाजपा के ताराचंद धायल निर्विरोध उप जिला प्रमुख बने।



              ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

               राजस्थान का एक मात्र सीकर जिला ऐसा है कि जिसकी आठो विधानसभा सीटों पर कांग्रेस विधायक होने के साथ साथ राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष व गहलोत सरकार के शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा भी इसी जिले के रहने वाले है। जिले की राजनीति पर वर्तमान मे कांग्रेस का एक तरफा कब्जा होने के बावजूद जिला प्रमुख चुनाव मे कांग्रेस के चार मत भाजपा उम्मीदवार गायत्री कंवर के पक्ष मे क्रोस होने से कांग्रेस उम्मीदवार सोहनी चोधरी को हार का मुहं देखने पर मजबूर होना पड़ा। इससे आगे चलकर कांग्रेस के लिये चिंता की बडी बात यह भी है कि उप जिला प्रमुख के आज हुये चुनाव मे कांग्रेस की तरफ से किसी भी उम्मीदवार का नामजदगी का पर्चा तक भरा नही जाना कांग्रेस के लिये काला दिन से कम नही हो सकता। भाजपा उम्मीदवार ताराचंद धायल का निर्विरोध उप जिला प्रमुख चुना जाना कांग्रेस के आम कार्यकर्ताओं को अंदर तक झकझोर कर रख दिया है।
           जिला प्रमुख चुनाव मे कांग्रेस के भाजपा के पक्ष मे होने वाले चार क्रोस वोटिंग को लेकर राजनीतिक गलियारों मे जारी चर्चा अनुसार कांग्रेस के सतराह मत एक साथ मतदान करने मतदान स्तल पर आकर मतदान किया एवं दो मत अलग से अपने स्तर पर मतदान स्थल आकर सीधे मतदान करके सीधे ही वापस चले गये। यानि कांग्रेस उम्मीदवार सोहनी चोधरी को इस तरह कम से कम उन्नीस मत तो मिलने ही चाहिए थे पर मिले केवल पंद्रह मत ही। तो चार मत जो क्रोस हुये उनको लेकर बाजार काफी गर्म होने से अनुमान लगाया जा रहा है कि एक मत दलित नेता समर्थक व एक मत पूर्व केन्द्रीय मंत्री व वर्तमान विधायक समर्थक व दो अन्य नेता समर्थक मत बताये ज रहे है।
              कुल मिलाकर यह है कि सीकर जिला प्रमुख के चुनाव मे कांग्रेस के दिग्गज जनप्रतिनिधियों के खास समर्थक माने जाने वाले चार मतो का भाजपा के पक्ष मे क्रोस होने व उप जिला प्रमुख चुनाव मे कांग्रेस द्वारा उम्मीदवार तक नही उतार पाने से भाजपा के ताराचंद धायल के निर्विरोध उप जिला प्रमुख चुने जाने को कांग्रेस हाईकमान ने अगर सीरियस नही लिया तो आगे चलकर जिले से कांग्रेस का सफाया तक हो सकता है।

टिप्पणियां
Popular posts
सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पहुंचे आजम खान के आवास
इमेज
जौहर यूनिवर्सिटी की 1400 बीघा जमीन उत्तर प्रदेश सरकार के नाम दर्ज करने की कार्रवाई के बाद काँग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी ने आज़म खान की बीवी से मुलाक़ात की।
इमेज
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - वर्तमान अध्यक्ष खानू खान के फिर से अध्यक्ष बनने की उम्मीद अधिक जताई जा रही है।
इमेज
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सेवा काल व उससे पहले व बाद से लगातार खिदमत ऐ-खल्क मे लगे रहते आये।
इमेज
रामपुर पहुंचे अखिलेश ने कहा हम यूनिवर्सिटी के साथ , बीजे पी को बताया विनाशकारी
इमेज