राजस्थान के जिला प्रमुख चुनाव मे कांग्रेस ने मुसलमानों को उम्मीदवार बनाने से कोसो दूर रखा। - कांग्रेस का एक दफा फिर मुस्लिम विरोधी चेहरा उजागर हुवा।

 
              ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

            हालांकि राजस्थान की अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार मुस्लिम समुदाय को सत्ता मे वाजिब भागीदारी देने से शुरुआत से किनारा लगातार करती आ रही है। इसी कड़ी मे जिला परिषद चुनाव मे मुस्लिम समुदाय ने कांग्रेस के पक्ष मे राज्य भर मे मतदान करने के बावजूद मजबूरी मे जिला प्रमुख उम्मीदवार के तौर मात्र एक मुस्लिम को जैसलमेर से उम्मीदवार बनाया जहां कांग्रेस के जीते हुये सदस्यों ने क्रास मतदान करके उसको भी हरवा दिया है।
          मुस्लिम मतदाताओं को वोटबैंक की तरह इस्तेमाल करके उनका राजनीतिक शोषण करने वाली कांग्रेस पार्टी ने एक मात्र मुस्लिम जिला प्रमुख उम्मीदवार,जैसलमेर से मोहतरमा रुकय्या खातून को बनाया। जहां उसी उम्मीदवार के खिलाफ कांग्रेस विधायक रूपाराम धनदे गुट के विजयी 4 कांग्रेसी जिला परिषद सदस्यों ने क्रॉस वोटिंग करके भाजपा के उम्मीदवार प्रताप सिंह को विजयी बनाने व उम्मीदवार रुकया को हराने मे अहम किरदार अदा किया।
           कुल मिलाकर यह है कि कांग्रेस का राजस्थान मे मुस्लिम विरोधी चेहरा वेसे तो बार बार उजागर होता आ रहा है। उसी कड़ी मे आज प्रदेश के इककीस जिला प्रमुखो के हुये चुनाव मे मात्र जैसलमेर से मुस्लिम उम्मीदवार बनाया जिसको स्वयं कांग्रेस के नेताओं के इशारे पर जिलापरिषद सदस्यों ने ही कांग्रेस उम्मीदवार के खिलाफ मतदान करके उसको हरा कर अपना मुस्लिम चेहरा एक बार फिर से उजागर कर दिया है।

टिप्पणियां
Popular posts
सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पहुंचे आजम खान के आवास
इमेज
जौहर यूनिवर्सिटी की 1400 बीघा जमीन उत्तर प्रदेश सरकार के नाम दर्ज करने की कार्रवाई के बाद काँग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी ने आज़म खान की बीवी से मुलाक़ात की।
इमेज
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - वर्तमान अध्यक्ष खानू खान के फिर से अध्यक्ष बनने की उम्मीद अधिक जताई जा रही है।
इमेज
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सेवा काल व उससे पहले व बाद से लगातार खिदमत ऐ-खल्क मे लगे रहते आये।
इमेज
मुख्यमंत्री गहलोत जिनको राजनीतिक नियुक्ति देना चाहते है तो उनको देकर ही रहते। - समय पर राजनीतिक गोटीया फीट करने की कला के माहिर होने के बलबूते गहलोत तीन दफा मुख्यमंत्री बन गये।
इमेज