मुख्यमन्त्री गहलोत द्वारा गोविंद डोटासरा को जाट नेता के तौर पर उभारने की हर मुमकीन कोशिश करने के बावजूद जाट बेल्ट मे कांग्रेस पिछङी।

               ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

            राजस्थान के दिग्गज़ व मजबूत जनाधार वाले जाट नेताओ को साईडलाईन करके अपने सामने चुनोतियो को कम से कम करने के लिये मुख्यमन्त्री अशोक गहलोत ने अचानक होटल मे गोविंद डोटासरा को काग्रेंस का प्रदेश अध्य्क्ष बना कर उसे लगातार जाट नेता के तौर पर उभारने की भरपूर कोशिश करने के बावजूद जिला परिषद चुनाव मे कांग्रेस जाट बेल्ट मे पूरी तरह पिछङती नजर आने के बाद जनता मे आम चर्चा चल पङी है कि इससे पहले भी गहलोत ने ङा चंद्रभान को अध्य्क्ष बनाकर अन्य दिग्गज़ जाट नेताओ को साईडलाईन करने की कोशिश की थी। तब भी परिणाम यह आया था कि जब अध्य्क्ष रहते चंद्रभान मंडावा से कांग्रेस की टिकट पर विधानसभा  चुनाव लङे तो वो अपनी जमानत तक नही बचा पाये थे। अभी विधानसभा चुनाव मे समय है लेकिन वर्तमान स्थानीय स्थिती पर नजर डाले तो लक्ष्मनगढ भी वही इतिहास दोहराता नजर आयेगा।
                   प्रदेश अध्यक्ष व शिक्षामंत्री डोटासरा के निर्वाचन क्षेत्र लक्ष्मनगढ की नेछवा व लक्ष्मनगढ पंचायंत समिति के चुनाव परिणाम मे जनता ने कांग्रेस को बहुमत से दूर रखा। लक्ष्मनगढ मे पच्चीस मे कांग्रेस को 11 व भाजपा को 13 एवं एक निर्दलीय को सीट थी। जिस तरह ऐनकेन प्रकरण व सत्ता के दुरुप्रयोग करके जनता के फैसले का अपहरण हुवा है उसकी आम जनता मे भारी नाराजगी देखी जा रही है। भाजपा नेता भागीरथ गोदारा ने कङी मेहनत करके कांग्रेस को काफी पीछे धकेल कर जनता का दिल जीता है। चाहे वो अभी प्रधान ही बन पाये हो।
                डोटासरा के स्वयं के सीकर जिले की जिला परिषद मे कांग्रेस बूरी तरह हारी ही बल्कि कांग्रेस के चार मत भाजपा की तरफ भी चले गये ओर भाजपा का जिला प्रमुख बन गया। इससे बूरा यहा तक हुवा की डोटासरा उप जिला प्रमुख पद पर कांग्रेस का उम्मीदवार का पर्चा तक भरा नही पाये। इसी तरह पंचायंत राज इतिहास मे झूंझूनू मे पहली दफा भाजपा का जिला प्रमुख बना एवं चूरु मे भी भाजपा का परचम लहराता रहा। जाट बेल्ट की जिला परिषद पर पूरी तरह भाजपा का कब्जा हो गया। बीकानेर मे अन्य दिग्गज़ जाट नेता रामेश्वर डूडी अपने दम पर अपनी साख बचाने मे कामयाब जरुर रहे। जिनको बीकानेर पर्यवेक्षक सुभाष महरिया का भरपूर सहयोग मिला।
        सीकर मे सुभाष महरिया की निष्क्रियता से कांग्रेस को बडा झटका लगना माना जा रहा है-विधानसभा चुनाव मे भाजपा को जिले से पूरी तरह आऊट करके भाजपा को जीरो पर आऊट करने मे अहम किरदार अदा करने वाले सुभाष महरिया की जिला परिषद चुनाव मे सक्रिता नजर नही आये। विधायक अपने अपने स्तर पर भागदौड़ करते रहे। महरिया की किसी भी तरह के विज्ञापन मे भी फोटो नजर तक नही आई। जिसके चलते उनके समर्थक उदासीन से नजर आये। ओर इसके चलते जिले मे कांग्रेस की लूटीया डूबती चली गई।

टिप्पणियां
Popular posts
जयपुर सम्भाग संगठन प्रभारी विधायक गोविन्द मेघवाल ने आज झूंझुनू एवं सीकर जिलें के कुल 15 नगरपालिकाओं के निकाय चुनाव के कांग्रेस पार्टी के सिम्बल वितरित किये। बीकानेर वरिष्ठ कांग्रेस नेता हाजी सलीम सोढ़ा भी मेघवाल के साथ रहे।
इमेज
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी सुजानगढ़ विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस को भारी पड़ सकती है। - सरकार से नाराज चल रहे मुस्लिम युवा कांग्रेस के खिलाफ रणनीति बनाने लगे बताते है।
पड़ोसी निकला SDM की बहन का हत्यारा:घर में अकेली रह रही सरकारी टीचर की हाथ-पैर बांधकर गला घोंटकर हत्या, लूट के इरादे से घर में घुसा था
इमेज
टोंक के बाद सीकर दौरे पर आये पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के स्वागत समारोह व सभा मे भारी भीड़ उमड़ने से राजनीतिक हलचल बढी।
इमेज
राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।
इमेज