उत्तरी भारत के दिग्गज राजनेता बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के चेहरे से नकाब हटता नजर आया।


जयपुर।
                हालाकि 2020 मे भारत मे अनेक तरह के बदलाव नजर आने के साथ साथ CAA व NRC के खिलाफ महिलाओं द्वारा देश भर मे लोकतांत्रिक तरीक़े से ऐतिहासिक आंदोलन चलाने के अतिरिक्त उत्तरी भारत के बिहार के दिग्गज नेता माने जाने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नामक दो नेताओं के चेहरो से सुशासन बाबू व गांधीवादी का नकाब उठाता जाता नजर आया।
             जिस बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सुशासन बाबू के नाम से पुकारे जाने के अलावा शालीनता के तौर पर देखा व प्रचारित किया जाता था। उस नीतीश कुमार को लोकडाऊन के समय बिहारी मजदूरों के प्रति सहानुभूति दिखाने के बजाय उनके बिहार नही आने की जीद करते देखे जाने के बाद अब बिहार विधानसभा चुनाव प्रचार मे बिगड़े बोलो वाले नेता के तोर पर देखा जा रहा है। नीतीश के लालू यादव के लिये बोले बोल कि बेटे की चाहत मे बेटीयाँ ही बेटीयाँ पैदा करते चले जाने के बोल से उनकी ऊपरी तोर पर बनाईं गई शालीनता वाली छवि को पुरी तरह धो डाला है। बिहार चुनावों मे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा दिये जाने वाले भाषणों मे उनके द्वारा उपयोग किये जाने वाले शब्दों ने उनकी ऊपरी तौर पर पहले बनाई गई सुशासन बाबू व शालीनता बरतने वाले नेता के चेहरे से नकाब पुरी तरह हटाकर रख दिया है।
          नीतीश कुमार की तरह ही एक तबके द्वारा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की भी एक अर्शे से गांधीवादी छवि बनाने की भरपूर कोशिश की जा रही थी। लेकिन कुछ महीनों पहले गहलोत द्वारा अपने ही तत्तकालीन उप मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के लिये नीकमा व नकारा शब्द तक का उपयोग करने से उनके चेहरे से नकाब हटना माना जायेगा।इसके अतिरिक्त  अपने ही केबिनेट मे उपमुख्यमंत्री व तत्तकालीन प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट व पायलट समर्थक मंत्री व विधायकों के खिलाफ ऐसीबी व एसओजी मे दफा 124-A मे फर्जी मुकदमा दर्ज करके उनकी छवि खराब करने की चेष्टा करने के बाद उन्हीं ऐजेन्सियों ने 124-A नही बनना मानने के बाद तो लगा कि गहलोत की गांधीवादी छवि से नकाब पुरी तरह उतर ही चुका है। गृह विभाग का प्रभार स्वयं मुख्यमंत्री गहलोत के पास होने से पुलिस पर उनका सीधा कंट्रोल होने के चलते उक्त कार्यवाही से पहले उक्त विभागों के मुखियाओं को बदला गया था। इसके अतिरिक्त पुलिस विभाग के मुखिया भूपेंद्र यादव को लोकसेवा आयोग का चीफ व ऐसीबी के मुखिया के सेवानिवृत्ती के दिन वाईस चांसलर बनाने से जनता मे अनेक तरह के शक पैदा करते है।
               कुल मिलाकर यह है कि 2020 जाते जाते बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के चेहरे से सुशासन बाबे व गांधीवादी का नकाब हटाता साफ नजर आ रहा है। अब शायद नीतीश कुमार की सुशासन बाबू व अशोक गहलोत की गांधीवादी छवि को बनाने की कोशिश को झटका लगना माना जा रहा है।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कांग्रेस विधायक एक एक करके दूर होने लगे!
इमेज
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।