थानागाजी सामूहिक दुष्कर्म मामले में कोर्ट ने सभी दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. कोर्ट के इस फैसले पर सीएम अशोक गहलोत और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंदसिंह डोटासरा ने प्रतिक्रिया दी है.

जयपुर. थानागाजी सामूहिक दुष्कर्म मामले में भी दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाने के कोर्ट के फैसले पर सीएम अशोक गहलोत और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंदसिंह डोटासरा ने प्रतिक्रिया दी है. सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट करके इस मामले में कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है. सीएम ने ट्वीट किया, 'थानागाजी दुष्कर्म मामले में कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है. इस फैसले से यह भी उदाहरण बना है कि कैसे तेज जांच से कम समय में न्याय मिल सकता है.


इस केस से जुड़े सभी जांच अधिकारी, पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी प्रशस्ति के हकदार हैं. राज्य सरकार इसे लेकर प्रतिबद्ध है कि किसी भी अपराध में अपराधी सजा से नहीं बच सके और सभी मामलों में न्याय संगत और तेज गति से ट्रायल हो'. उधर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि इस घटना के वक्त हमारी सरकार ने मुस्तैदी दिखाई. पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए कोर्ट में चालान पेश किया और कोर्ट में प्रभावी पैरवी और सही तथ्य रखने पर आरोपियों को सजा हुई. डोटासरा ने कहा कि हाथरस की घटना में बीजेपी सरकार ने वह तत्परता नहीं दिखाई, जो हमारी सरकार ने थानागाजी मामले में दिखाई थी.


हाथरस की तरह थाानागाजी मामले में भी खूब हुई थी सियासत


थानागाजी दुष्कर्म मामले के समय हाथरस की तरह ही मामला राजनीतिक हलकों में खूब विवाद का केंद्र बना था. लोकसभा चुनावों की वोटिंग के ठीक बाद सामने आए थानगाजी दुष्कर्म केस ने सियासत को हिलाकर रख दिया था. बीजेपी ने उस वक्त जमकर कांग्रेस सरकार को घेरा था. कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष राहुल गांधी ने उस वक्त थानागाजी जाकर पीड़िता और परिवार से मुलाकात की थी. आज हाथरस दुष्कर्म मामले में यूपी की बीजेपी सरकार कांग्रेस और विपक्षी दलों के निशाने पर है.


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र