राजस्थान एसीबी के डीजी बीएल सोनी एवं एडीजी दिनेश एमएन के निर्देशन में आज प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर छ बड़े धमाके।


जयपुर।
           राजस्थान प्रदेश मे भ्रष्टाचार अपने अंतिम ऊंचाई पर पहुंचने से आम आदमी को आम काम के लिये भी रिश्वत देने को मजबूर होना पड़ने से चारो तरफ त्राहि त्राहि मची हुई है। राजस्थान के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो मे जबसे अतिरिक्त डीजी एम एन दिनेश की नियुक्ति हुई है तब से भ्रष्टाचारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथो पकड़े जाने मे आई तेजी के बावजूद भ्रष्टाचारी टस से मस होने को शायद कतई तैयार नही लगता है।
             एसीबी की आज अलग अलग जगह प्रदेश मे की गई अलग अलग छ कार्यवाही मे सबसे पहली कार्यवाही श्रीगंगानगर के कांस्टेबल नरेश चंद्र मीणा को जयपुर की होटल रेडिसन ब्लू में 10 लाख रुपए रिश्व्त लेते गिरफ्तार किया। इसके बाद तो ताड़बतोड़ कार्यवाईयां होने लगी जिसमे दूसरी कार्यवाही डीटीओ जगदीश मीणा को आय से अधिक सम्पति में गिरफ्तार किया कानोता, बस्सी ओर चौमू आय से अधिक सम्पति कार्यवाही सर्च। एसीबी की तीसरी कार्यवाही उदयपुर में SHO रमेशचन्द्र सहित तीन लोगो को 35 हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया।
         इसके बाद एसीबी ने चौथी कार्यवही करते हुए झुंझुनू में पटवारी रणवीर को 13 हजार रुपए रिश्व्त लेते गिरफ्तार किया। एसीबी ने पांचवी कार्यवाही श्रीगंगानगर में पटवारी को रिश्व्त लेते गिरफ्तार किया। एसीबी ने फिर अंत मे छठी कार्यवाही करते हुए अजमेर में रामगंज थाने के ASI बाबूलाल को 15 हजार रुपए रिश्व्त लेते गिरफ्तार किया हैं। 
           हालांकि एसीबी द्वारा निरंतर भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्यवाही करने का सीलसीला जारी रहने के बावजूद भ्रष्टाचारी अपने कदम पीछे हटाने को तैयार नही लगते है। पीछले दिने एसीबी के उप पुलिस अधीक्षक जाकीर अख्तियार अपनी टीम के साथ रायसिंह नगर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को पकड़ने गये तो उनके गनमैन ने अख्तर पर गोली चला दी थी। गनीमत रही कि गनमैन की सर्विस रिवाल्वर से निकली गोली अख्तर को नही लगी वरना बूरा हादसा भी गठित हो सकता था।
        कुल मिलाकर यह है कि एसीबी मे जब से एम एन दिनेश की नियुक्ति हुई है तब से भ्रष्टाचारियों को रंगे हाथो रिश्वत लेते पकड़े जानेका सीलसीला जोर पकड़ता जा रहा है। लेकिन इन सबके बावजूद अभी भी रिश्वतखोर आजादी के साथ रिश्वतखोरी का खेल खेलने से बाज नही आ रहे है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र