गुर्जर आरक्षण आंदोलन को लेकर प्रशासन अलर्ट, कई इलाकों में इंटरनेट सेवा बंद

 


जयपुर।  1 नवंबर से गुर्जर आरक्षण आंदोलन को लेकर प्रशासन अलर्ट हो गया है. आंदोलन की संभावना के चलते भरतपुर के बयाना डाक बंगले में एक बार फिर से हलचल शुरू हो गई है. यहां अधिकारियों की आवाजाही शुरू होने लगी है. कलेक्टर नथमल डिडेल व SP डॉ. अमनदीप सिंह कपूर आज बयाना जाएंगे. इसके साथ ही बयाना, वैर, भुसावर व करौली के कई इलाकों में इंटरनेट सेवा को बंद किया गया है. 


अधिकारियों और कर्मचारियों के अवकाश निरस्त  
इसके साथ ही आंदोलन प्रभावित क्षेत्रों में अधिकारियों और कर्मचारियों के अवकाश निरस्त किए गए हैं. अधिकारियों के मुख्यालय छोड़ने पर भी पाबंदी लगाई गई है. अधिकारी लागातार आला गुर्जर नेताओं से संपर्क साधते हुए आगामी रणनीति जानने के लिए कवायद में जुटे हुए हैं. वहीं क्षेत्र में इंटरनेट बंद होने से उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.
राज्य सरकार नेताओं को वार्ता के लिये राजी करने में जुटी: 
वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार 1 नवंबर से होने वाले आंदोलन को थामने के लिये गुर्जर समाज के नेताओं को वार्ता के लिये राजी करने में जुटी है, इसके साथ ही कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिये ऐहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिये हैं।


गुर्जर नेता अब तक औपचारिक वार्ता के लिए तैयार नहीं हुए
सरकार के स्तर पर कैबिनेट सब कमेटी गुर्जर नेताओं को वार्ता की टेबल पर लाने के लिये पूरा प्रयास कर रही है. कैबिनेट सब कमेटी में शामिल गुर्जर समाज के खेल मंत्री अशोक चांदना और चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा गुर्जर नेताओं को मनाने का प्रयास कर रहे हैं. इसके तहत गुरुवार को चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला से फोन पर बात की थी, लेकिन वे अब तक औपचारिक वार्ता के लिए तैयार नहीं हुए हैं. इससे पहले भी गुरुवार को गुर्जर नेताओं की गैर मौजूदगी में कैबिनेट सब कमेटी की बैठक हुई।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र