गहलोत सरकार के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा पर कांग्रेस विधायक बैरवा का गुस्सा फूटा।


जयपुर।
             मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खासमखास व विवादों मे रहने वाले चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा पर कठूमर से निर्वाचित कांग्रेस विधायक बाबूलाल बेरवा ने सीधे तौर पर ब्राह्मण बिरादरी से तालूक रखने के कारण दलित विधायकों का काम नही करने का आरोप आज एक टीवी चेनल को दिये इंटरव्यू मे जड़ने के बाद राजस्थान की सियासत मे अलग तरह की गुलाबी गुलाबी सर्दी मे गरमाहट पैदा कर दी है।
           सीनियर कांग्रेस विधायक बेरवा से पहले सीकर के प्रभारी मंत्री रहते रघु शर्मा द्वारा कोराना काल मे सीकर नही आने को लेकर कांग्रेस के दिग्गज नेता चोधरी नारायण सिंह के पूत्र दांतारामगढ़ विधायक वीरेन्द्र सिंह ने जिले मे कोराना मरीजो की तादाद लगातार बढने को लेकर रघु शर्मा की भूमिका को लेकर प्रैस ब्यान के मार्फत जोरदार हमला बोला था। विधायक वीरेन्द्र सिंह द्वारा तत्तकालीन सीकर जिला प्रभारी मंत्री रघु शर्मा की कार्यशैली को लेकर उनपर कड़ा हमला बोलने के बाद रघु शर्मा सीकर की तरफ मुंह तक नही किया था। बल्कि घबराहट मे अपना प्रभार वाले सीकर जिले से प्रभार हटाना ही रघु ने उचित समझा था।
            कांग्रेस विधायक बाबूलाल बैरवा ने चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा व बिजली मंत्री बीडी कल्ला पर ब्राह्मण वाद का आरोप लगाते हुये कहा कि ब्राह्मण मंत्री दलित विधायकों का काम नही करते है। बेरवा ने कहा कि जब रघु ने उनके काम नही किये तो उन्होंने मुख्यमंत्री गहलोत से शिकायत करके प्रकरण को समझाया। शिकायत के बाद मुख्यमंत्री के आदेश पर उन्होंने सीएमओ मे तैनात भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी अमित ढाका को उन कामो की कोपी दी पर फिर भी एक भी तबादला उनके द्वारा दी गई सुची से नही हुवा है। उन्होंने उदाहरण देकर कहा कि उन्होंने पांच ANM के तबादले करने के नाम की सुची दी पर उक्त सुची मे जो चार नाम अनुसूचित जाती की ANM के थे उनका तबादला नही हुवा एक ब्राह्मण नाम की ANM का थि उसका रघु शर्मा ने तबादला कर दिया।
             कुल मिलाकर यह है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अलावा सभी महत्वपूर्ण विभाग स्वर्ण जाती से तालूक रखने वाले मंत्रियों के पास होने के कारण दलित-आदिवासी व अल्पसंख्यक समुदाय के विधायकों के काम होने मे काफी मुश्किलें आना पाया जा रहा है। इसको लेकर उक्त समुदाय के विधायकों मे काफी असंतोष पनपता देखा जा रहा है। कांग्रेस विधायक बाबूलाल बेरवा के खुले आम अपनी पीड़ा को टीवी चैनल के इंटरव्यू के मार्फत बया करना मामूली चिनगारी है। अगर मुख्यमंत्री ने जल्द इस हालात मे बदलाव नही ला पाये तो मानो चिनगारी कभी भी आग का रुप धारण कर सकती है।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कांग्रेस विधायक एक एक करके दूर होने लगे!
इमेज
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
आसाम-बंगाल आम चुनावो के साथ राजस्थान के होने वाले चार उपचुनावो के बाद गहलोत सरकार गिराने की फिर कोशिश हो सकती है! - पायलट समर्थक प्रदेश भर मे किसान महापंचायते आयोजित करके अपना जनसमर्थन बढा रहे है।