ए पी ज़ैदी की पुण्य तिथि पर एस एस नेहरा एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट के स्मरण


साथी ए पी ज़ैदी से मेरी मुलाकात 1980 में हुई थी तब ज़ैदी साहब लोक दल के राष्ट्रीय कार्यालय 15 विंडसर प्लेस, नई दिल्ली में बैठते थे और रहते भी वहीं थे।एक दम  समाजवाद और चौधरी चरण सिंह के पक्के अनुयाई और समर्थक। ज़ैदी साहब इंजीनियरिंग पढ़े ही नहीं थे बल्कि इंजीनियरिंग करते भी रहते थे। ज़ैदी साहब 24 सो घंटे समाजवाद और लोक दल कैसे मजबूत हो और आगे बढ़े इसी धुन में लगे रहते थे, इसी कारण वह गृहस्थ जीवन नहीं जी पाए और एक से बढ़कर एक परेशानी के साथ जिए, वह बड़ी हिम्मत वाले और बहादुर इंसान थे, दोस्तों के दोस्त थे। उनके कई करीबी  साथी राजनीति में बहुत आगे तक गए उसमें ज़ैदी साहब का बड़ा योगदान था, परन्तु वो साथी ज़ैदी साहब के आखिरी और परेशानी वाले समय में उनके पास साधन होते हुए भी काम नहीं आए। एक सच्चा दोस्त, समाजवादी, किसान, मजदूर और गरीब आदमी की चिंता करने वाला किरदार जल्दी हमें छोड़ कर चला गया, अफसोस। सांप्रदायिक सदभाव कैसे मजबूत हो इस पर एक से बढ़कर एक उपाय और विचार ज़ैदी साहब पेश करते रहते थे। गरीब आदमी को किस तरह छोटी छोटी योजनाओं से लाभ मिल सकता है वह बनाते रहते थे। ज़ैदी साहब याद करना काफी नहीं है, दोस्तों उं दोस्तों का ध्यान रखना चाहिए जो काम या बिल्कुल साधनहीन हैं और राजनीति में हैं।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र