ए पी ज़ैदी की पुण्य तिथि पर एस एस नेहरा एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट के स्मरण


साथी ए पी ज़ैदी से मेरी मुलाकात 1980 में हुई थी तब ज़ैदी साहब लोक दल के राष्ट्रीय कार्यालय 15 विंडसर प्लेस, नई दिल्ली में बैठते थे और रहते भी वहीं थे।एक दम  समाजवाद और चौधरी चरण सिंह के पक्के अनुयाई और समर्थक। ज़ैदी साहब इंजीनियरिंग पढ़े ही नहीं थे बल्कि इंजीनियरिंग करते भी रहते थे। ज़ैदी साहब 24 सो घंटे समाजवाद और लोक दल कैसे मजबूत हो और आगे बढ़े इसी धुन में लगे रहते थे, इसी कारण वह गृहस्थ जीवन नहीं जी पाए और एक से बढ़कर एक परेशानी के साथ जिए, वह बड़ी हिम्मत वाले और बहादुर इंसान थे, दोस्तों के दोस्त थे। उनके कई करीबी  साथी राजनीति में बहुत आगे तक गए उसमें ज़ैदी साहब का बड़ा योगदान था, परन्तु वो साथी ज़ैदी साहब के आखिरी और परेशानी वाले समय में उनके पास साधन होते हुए भी काम नहीं आए। एक सच्चा दोस्त, समाजवादी, किसान, मजदूर और गरीब आदमी की चिंता करने वाला किरदार जल्दी हमें छोड़ कर चला गया, अफसोस। सांप्रदायिक सदभाव कैसे मजबूत हो इस पर एक से बढ़कर एक उपाय और विचार ज़ैदी साहब पेश करते रहते थे। गरीब आदमी को किस तरह छोटी छोटी योजनाओं से लाभ मिल सकता है वह बनाते रहते थे। ज़ैदी साहब याद करना काफी नहीं है, दोस्तों उं दोस्तों का ध्यान रखना चाहिए जो काम या बिल्कुल साधनहीन हैं और राजनीति में हैं।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कांग्रेस विधायक एक एक करके दूर होने लगे!
इमेज
राष्ट्रीय लोकदल लखनऊ के जिलाध्यक्ष बने बेलाप्रताप राजवंषी
इमेज
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।