सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वक्फ बोर्ड राजस्थान के नये चेयरमैन के लिये अभी से लॉबिंग शूरु-विधायक भी जोर आजमाईश करने मे लगे।


जयपुर।
              पीछले पेंतीस दिन जयपुर व जैसलमेर की होटलो मे बाड़ेबंदी मे रहने वाले कांग्रेस विधायकों के साथ साथ मानेसर की होटल मे रहकर शह व मात का खेल खेलकर आने वाले कांग्रेस विधायकों को जैसे तैसे करके संतुष्ट करके पुरे पांच साल मुख्यमंत्री रहने की तमन्ना दिल मे पाले रखने वाले अशोक गहलोत अब विधायकों को लाभ का पद देने के लिये अलग से अध्यादेश लाकर संसदीय सचिव, व बोर्ड-निगम का चेयरमैन बनाकर उन्हें लालबत्ती देकर चुप करने की राजनीतिक हलको मे चर्चा गरम है।
              पिछली भाजपा सरकार के समय 9-मार्च 2016 को अबूबक्र नकवी वक्फबोर्ड के चेयरमैन बने थे उनकी सदस्यता को लेकर टोंक के नजीर अहमद ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया ओर कोर्ट ने उनकी सदस्यता को रद्द किया तो चैयरमैन पद खाली होने के करीब अठराह महिने बाद कांग्रेस सरकार ने तीन रिक्त सदस्य पद पर डा.खानू खान सहित तीन सदस्यों का मनोनयन किया। उसके बाद उपचुनाव मे डा.खानू खान बोर्ड के निर्विरोध चेयरमैन निर्वाचित हुये। डा.खानू खान का 8-मार्च 2021को कार्यकाल पुरा होने से करीब पांच महीने पहले से अनेक लोग चेयरमैन बनने के लिये दिल्ली-जयपुर लोभींग करने मे लग चुके है।
                 राजस्थान वक्फबोर्ड के चेयरमैन पद पर अनेक असरदार नेता पदस्थापित रहे है। लेकिन बोर्ड की एकदम से तेजी के साथ आमदनी बढाने व बोर्ड को नई पहचान देने मे पहले जयपुर के रहने वाले ऐडवोकेट अब्दुल कय्यूम अख्तर  (17/07/1978-से 8/10/1982) व फिर शोकत अंसारी (18/01/1991 से-11/01/1999) ने अहम किरदार अदा किया था। दोनो उक्त चेयरमैन का कार्यकाल को राजस्थान मे बोर्ड के लिये स्वर्ण कार्यकाल माना जाता है।
             हालांकि चेयरमैन बनने के बाद डा.खानू खान ने प्रदेश के अलग अलग हिस्सों का दौरा करके वक्फ जायदाद के अतिक्रमणकारियों को तीन सो के करीब नोटिस जारी किये। लचर व्यवस्था के चलते दो चार अतिक्रमणकारियों को छोड़कर बाकी अतिक्रमणकारियों के खिलाफ किसी भी स्तर की ठोस कार्यवाही नही होने का मलाल वक्फ प्रेमियों को आज भी है। एक तरफ 8-मार्च 2021 को कार्यकाल पुरा होने के बाद वर्तमान चेयरमैन खानू खान फिर से चेयरमैन बनने की भरसक कोशिश करेगे वही अनेक नेता अभी से अपने आपको चेयरमैन बनाने के लिये जयपुर-दिल्ली मे भागदौड़ तेज कर दी है।
               राजस्थान वक्फ बोर्ड के बारवे चेयरमैन डा. खानू खान से पहले ग्यारह अन्य लोग भी चेयरमैन रह चुके है। जिनमे  सैयद आबिद अली, अलानूर, अब्दुल कय्यूम अख्तर,  फारुक हसन नकवी, मोहम्मद याकूब, शोकत अंसारी, शफी मोहम्मद, नासीर नकवी, सलावत खान, लियाकत अली खा, व अबूबक्र नकवी भी चेयरमैन रह चुके है।
                कुल मिलाकर यह है कि वक्फ बोर्ड चेयरमैन डा. खानू के कार्यकाल को पुरा होने मे अभी पांच माह का समय बाकी है। लेकिन लाभ का पद पाने के लिये नये तौर पर अध्यादेश आने की उम्मीद के बाद चेयरमैन बनने के लिये विधायक व अन्य कांग्रेस नेताओं ने जयपुर से दिल्ली तक भागदौड़ शुरू करदी है। वही डा.खानू खान के रिपीट होने से पहले उनके ढेढ साल के कार्यकाल का आंकलन अधिक महत्व रखेगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह