सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्लाज्मा डोनेशन स्क्रीनिंग , एंटीबॉडी टेस्ट और सैंपल कलेक्शन कैंप  कल

 


 सीकर 8-सितंबर सुधीर महरिया स्मृति संस्थान एवं नेहरू युवा संस्थान सीकर द्वारा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग सीकर तथा जिला प्रशासन के तत्वावधान में कल गुरुवार 10 सितंबर को सामुदायिक भवन इंडस्ट्रियल एरिया,जयपुर रोड सीकर में प्लाजमा डोनेशन स्क्रीनिंग ,एंटीबॉडी टेस्ट और सैंपल कलेक्शन कैंप का आयोजन किया जाएगा |
      सुधीर महरिया स्मृति संस्थान निदेशक एवं नेहरू युवा संस्थान सचिव बी एल मील ने बताया कि जिला कलेक्टर  अविचल चतुर्वेदी , मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ  अजय चौधरी,  पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं संस्थान संरक्षक सुभाष महरिया   तथा पूर्व विधायक नंदकिशोर महरिया के निर्देशन में आयोजित  शिविर में जो व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव होने की 14 दिन होने के बाद वाले लोगों का प्लाजमा डोनेशन स्क्रीनिंग, एंटीबॉडी टेस्ट और सैंपल कलेक्शन किया जाएगा |
   श्री मील ने बताया कि प्लाज्मा थेरेपी कोविड -19 के सीरियस पेशेंट के लिए  जीवनदान है |  कोरोना संकट के बीच राजस्थान सरकार के प्रयासों से डॉक्टर प्लाजमा थेरेपी से कोरोना पॉजिटिव के गंभीर मरीजों का इलाज करने के प्रयास में लगे हुए हैं जिसमें कोरोना से ठीक हो चुके है मरीजों के प्लाज्मा से कोविड-19 गंभीर पीड़ित व्यक्ति का उपचार किया जा रहा है | भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर )  द्वारा प्लाज्मा थेरेपी से कोविड-19 संक्रमित मरीजों के उपचार की अनुमति के बाद प्लाज्मा थेरेपी की मदद से इलाज में सकारात्मक नतीजे देखे जा रहे हैं |
   कॉविड एंटीबॉडी युक्त प्लाज्मा ब्लड कंपोनेंट कोरोना से ठीक हुये मरीज का रक्तदान से प्राप्त किया जाता हैं ।
एक व्यक्ति द्वारा किया हुआ प्लाज्मा दान ,दो मरीजों के जीवन बचाने मे सहयोगी होता है। कोई भी कोरोना मरीज जिसको ठीक हुये 14 दिन से ज्यादा हो गये हो ओर उसकी  रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी हो , उम्र  18 - 60  साल हो , वजन  60 किलोग्राम हो ओर  हिमोग्लोबिन 12.5 हो । कुछ रक्त  की जांचें जैसे सीबीसी, सिरम प्रोटीन  लेवल  देखकर डोनर को फिट किया जाता है । प्लाज्मा  डोनेशन  प्लाजमा फेरेसिस मशीन से लिया जाता है इसमे दाता का केवल प्लाज्मा ( पीला रक्त) ही लिया जाता है , यह प्रक्रिया पूर्णतः   सुरक्षित है किसी भी प्रकार के इंफेक्शन का कोई संभावना नहीं रहती , हर दाता के लिए अलग अलग किट का उपयोग लिया जाता है  | प्लाज्मा डोनेशन की प्रक्रिया मे लगभग 45  मिनट  लगते है ।



एंटीबॉडी  क्या है  एवं एंटीबॉडी टेस्ट के फायदे
  कोई वायरस किसी व्यक्ति पर हमला करता है तो उसके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता इम्यून सिस्टम संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज कहे जाने वाले प्रोटीन विकसित करती है अगर वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति में पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडी विकसित होती है तो वह वायरस की वजह से होने वाली बीमारियों से ठीक हो जाता है | सामान्यतः कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव होने के 14 दिन बाद उसके शरीर में एंटीबॉडी बन जाती है जिसका टेस्ट करवाने से उस व्यक्ति को यह फायदा है कि उसको पता चल जाता है कि एंटीबॉडी का उसके शरीर में लेवल क्या है क्योंकि अगर उसका एंटीबॉडी लेवल अच्छा रहेगा तो उसके दोबारा पॉजिटिव होने की संभावना कम हो जाती है |
  प्लाज्मा डोनेशन के 24 घंटे बाद हमारे शरीर में प्लाज्मा की पूर्ति हो जाती है । 7 दिन के बाद दुबारा डोनेट कर सकते है । बार बार डोनेट करने से हमारे शरीर मे  नई एंटीबॉडी बनती  है |


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह