लखनऊ : कोरोना काल में शहर के नामी स्कूल की धांधली सितम्बर 2020 के साथ - साथ मार्च 2021 की फीस भी वसूल रहा है स्कूल


लखनऊ : शहर के  नामी स्कूल सी.एम.एस का कारनामा आया सामने सितम्बर 2020 माह  साथ - साथ मार्च 2021 की  फीस भी स्कूल  वसूल रहा है।  स्कूल के इस कारनामे से छात्रों के अभिवावको में है रोष कोरोना महामारी में एक ओर जहा अधिकतर अभिवावक स्कूलों से फीस माफ़ी या फिर फीस में कटौती की मांग कर रहे है साथ ही जगह - जगह इस बात को लेकर प्रदर्शन भी हो रहे है वही लखनऊ के एक नामी स्कूल की इस हरकत से अभिवावक सकते में आ गए है।  


स्कूल द्वारा दी गई फीस स्लिप में सितम्बर 2020 माह के साथ - साथ मार्च 2021 की फ़ीस जमा करने को कहा गया है।  ऐसे में सवाल यह उठता है कि शहर के इस नामी स्कूल ने आख़िर ऐसी हरकत क्यों की ? दरासल जानकारों का कहना है कि स्कूल प्रबंधन अपनी पहुंच के चलते ऐसा कर रहा है। जानकार बताते है कि स्कूल प्रबंधको की पहुंच काफी ऊपर तक है इस लिए स्कूल ने प्रदेश सरकार की गाइड लाइन की भी परवाह नहीं की जबकि गाइड लाइन में साफ़ कहा गया है कि स्कूल अभिवावको से एडवांस फीस नहीं वसूलेगे न ही एडवांस फीस भरने का दबाव बनाएगे। 


अभिवावको ने की डी.आई.ओ.एस से शिकायत स्कूल को दिया गया नोटिस - स्कूल की इस मनमानी को लेकर अभिवावको ने डी.आई.ओ.एस से शिकात की जिसका संज्ञान लेते हुए डी.आई.ओ.एस डॉक्टर मुकेश कुमार सिंह ने स्कूल के प्रबंधन को नोटिस जारी कर स्कूल को शासनादेश के पालन करने का आदेश दिया गया है साथ ही स्कूल से अग्रिम फीस न वसूलने को कहा गया है।



Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
शमशेर खां की दांडी यात्रा के समर्थन मे आज प्रदेश के गावं-गाव से शहरो तक पदयात्रा निकाल कर उपखण्ड अधिकारी व जिला कलेक्टरस को ज्ञापन दिये गये।
चित्र