जासूस को धनराषि उपलब्ध कराने के आरोपी का सहयोगी मीरा खान गिरफ्तार 

 


जयपुर, 8 सितम्बर । अतिरिक्त महानिदेषक पुलिस (इन्टैलीजेन्स) उमेश मिश्रा के निर्देशन में जासूसी के आरोप में गिरफ्तार आरोपी मुश्ताक अली के अन्य एक सहयोगी द्वारा मुश्ताक को पाकिस्तान से जासूसी की एवज में रूपये, मिठाई व अन्य सामान लाकर देने के आरोप में मीरा खान पुत्र श्री खैरा खान, उम्र-38 वर्ष, निवासी-मत्ते का तला, पुलिस थाना-चैहटन, जिला-बाडमेर को पूछताछ के बाद थाना स्पेशल पुलिस स्टेशन पर शासकीय गुप्त बात अधिनियम 1923 के तहत मुकदमें में गिरफ्तार किया गया है। 
श्री मिश्रा ने बताया कि पूछताछ में जानकारी मिली है कि दोनो के बीच आपसी जान-पहचान गाडी चलाने के दौरान सेडवा बाडमेर में हुई थी। उसके बाद मुश्ताक अली द्वारा मीरा खान को दिल्ली ले जाकर पाकिस्तान जाने का वीजा लगवाया तथा मुश्ताक अली व मीरा खान नवम्बर 2018 में पाकिस्तान चले गये तथा पाकिस्तान में भी कुछ समय साथ-साथ रहे।
 मुश्ताक अली एक माह रूककर दिसम्बर 2019 में पाकिस्तानी हैण्डलिंग अधिकारियों से मिलकर वापस आ गया तथा सीमाक्षेत्र की सामरिक महत्व की सूचनायें वाटस्एप के जरिये पाकिस्तान भेजने लगा। उक्त सूचनाओं की एवज में फरवरी 2019 में पाकिस्तानी खुफिया एजेन्टों द्वारा मुश्ताक अली के बैंक खाते में तथा नगद भारतीय मुद्रा मीरा खान के जरिये प्राप्त करने लगा। मीरा खान पाकिस्तान में तीन माह रूकने के बाद 9 फरवरी 2019 को भारत आया। 
इस दौरान मुश्ताक अली द्वारा 14 फरवरी 2019 को पुलवामा आंतकी हमला तथा 26 फरवरी को बालाकोट स्ट्राइक के आस-पास फरवरी 2019 से अप्रैल 2019 तक जैसलमेर बाडमेर सीमाक्षेत्र की सैन्य गतिविधियों की मूवमेन्ट तथा डिप्लोयेमेन्ट सम्बन्धी सूचनायें पाकिस्तान भेजी जाकर जासूसी के एवज में धनराषि व अन्य सामान प्राप्त किया गया। उक्त दोनो से गहन पूछताछ की जा रही है तथा धनराषि भेजने के अन्य जरियों के बारे में जानकारी प्राप्त की जावेगी।


टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - नये चुनाव के लिये सरकारी स्तर पर हलचल पर प्रशासक लगने के चांसेज अधिक बताये जा रहे है।
इमेज
एल पी एस निदेशक नेहा सिंह व हर्षित सिंह सम्मानित किये गये
इमेज