सीकर मे आटो चालक गफ्फार के धार्मिक नारे नही लगाने पर युवको ने बूरी तरह पीटकर घायल किया। - धायल की शिकायत पर हमलावरों को पुलिस ने तत्परता से गिरफ्तार किया।


सीकर।
              गंगा-जमनी तहजीब व साम्प्रदायिक सद्भाव की मिशाल रहे सीकर को कल कुछेक उन्मादी युवको द्वारा दाग लगाने की कोशिश करते हुये एक ओटो चालक को बीना वजह बूरी तरह पीटकर उसे बेहोशी की हालत मे छोड़कर भागने वाले आरोपी युवको की शिकायत के बाद  पुलिस ने तत्परता दिखाते हुये उनको गिरफ्तार कर लिया गया है। जानकारी अनुसार घायल आटो चालक को बूरी तरह पीटते हुये आरोपित युवको ने धार्मिक नारे लगाने को कहा ओर ऐसा ना करने पर युवको ने उसे बूरी तरह पीटा एवं उसकी दाढी को नोचने के समाचार मिले है।
           आटो चालक हमेशा की तरह सुबह चार बजे कल्याण सर्किल स्टेण्ड पर आटो के साथ खड़ा होकर निजी बस से उतरने वाली सवारियों मे से सवारी लेकर निकटवर्ती गावं झीगर छोटी छोड़कर जब वापिस सीकर आ रहा था तो रास्ते मे पहले दो उन्मादी युवक एक बोलेरो पिक अप मे आकर उसे धार्मिक नारे लगाने को कहा ओर बूरी तरह पीटने लगे वहां से जैसे तैसे करके चालक छुड़ाकर वहां से कुछ दूर आने पर वो युवक फिर कुछ साथियों के साथ आकर आटो के आगे गाड़ी लगाकर रोककर उसे बूरी तरह जब तक पिटते रहे जबतक वो बेहोस नही हो गया। काफी समय बाद चालक को होश आने पर घायल चालक अपना ओटो लेकर धीरे धीरे शहर की तरफ आकर आपबीती बताने पर कामरेड अब्दुल कय्यूम कुरेशी, सभापति जीवण खा व पार्षद सजाउद्दीन उर्फ पप्पू पहलवान घायल चालक को साथ लेकर पुलिस तक लेकर गये। एवं पप्पू पहलवान ने वारदात की खबर पूर्व केन्द्रीय मंत्री व कांग्रेस नेता सुभाष महरिया को बताने पर महरिया ने पुलिस अधिकारियों को आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने को कहा एवं पुलिस ने तत्परता दिखाते हुये दो आरोपियों को तूरंत गिरफ्तार करके घटना मे इस्तेमाल की गई गाड़ी को बरामद कर लिया है।



         मामले की सीकर सदरथाना मे भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323, 341, 295, 504, 500, 327, 382, व 34 मे रपट दर्ज करके अनुसंधान जारी है। पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया एवं बाकी की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे है।



Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र