सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान मे अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री पद पर छाया संकट गहराने लगा है। - विधानसभा मे बहुमत के लिये मतदान होने पर गहलोत सरकार का गिरना तय।


जयपुर।
          हालांकि कांग्रेस सरकार पर छाये संकट के बादलो के मध्य 14-अगस्त को राजस्थान विधानसभा का अधिवेशन आहूत करने के बावजूद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा अपने पद पर बने रहने की जीद के चलते संकट गहराता हुवा नजर आ रहा है। विधानसभा मे गहलोत अगर बहुमत सिद्ध करने की कोशिश करते है तो उनके उपरी तौर पर नजर आ रहे 99 विधायको के समर्थन मे भारी पोल स्पष्ट नजर आने से लगता है कि सरकार का गिरना लगभग तय बताते है।
            मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खेमे के दावे के मुताबिक उनके पास बसपा को मिलाकर 107 विधायको मे से 88 विधायको का समर्थन प्राप्त है। इनके अतिरिक्त दो बीटीपी, दस निर्दलीय, एक माकपा, एक लोकदल को मिलाकर कुल 102 अधिकतम होते है। जिनमे से एक मंत्री भंवरलाल मेघवाल अस्पताल मे एडमिट है एक विधायक मोजूदा विधानसभा अध्यक्ष है। यानि 100 विधायक का आंकड़ा बैठता है। माकपा विधायक बलवान पूनीया की स्थिति  माकपा की स्टेट कमेटी के निर्णय भी निर्भर करेगी। इसके अतिरिक्त गहलोत केम्प बैठे 12-15 विधायक ऐसे है जो अभी भी निर्णय ऐनवक्त पर लेने की मनोस्थिति मे बताते है। जो गहलोत विरोधी खेमे के बराबर टच मे बताते है।
           कुल मिलाकर यह है कि गहलोत खेमे द्वारा अपने समर्थक विधायको की जैसलमेर मे किलेबंदी करने व उनकी कड़ी चोकसी रखने के लिये राजस्थान पुलिस व वहां के नामी व विवादो मे अनेक दफा आये गाजी फकीर के मंत्री पूत्र शाले मोहम्मद  की निगरानी के बावजूद अगर बहुमत सिद्ध करने का अवसर आयेगा उसी समय सरकार का गिरना तय है। क्योंकि 12-15 विधायक विरोध पक्ष मे मतदान करके सरकार गिरा सकते है। वैसे लगता है कि 14-अगस्त के पहले अनेक बदलाव राजस्थान की राजनीति मे आने की उम्मीद राजनीति के रणनीतिकारों द्वारा सम्भावना जताई जा रही है। 14-अगस्त आते आते या तो राजनीतिक बदलाव माननीय न्यायालय के आदेश के अनुसार आ सकता या फिर जैसलमेर मे बाड़ेबंदी मे बंद विधायकों की आस्था मे बदलाव भी नजर आ सकता है। संकट मे फंसे अशोक गहलोत उभरने के लिये अविनाश पाण्डे सहित अनेक नेताओं से लगातार विचार विमर्श भी कर रहे है। फिर बाजी हाथ से निकलती नजर आ रही है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका