राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री अविनाश पाण्डे व प्रदेश अध्यक्ष गोविंद डोटासरा हटाये जायेगे !


जयपुर।
               राजस्थान की कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व तत्तकालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के अलग अलग खेमो मे विधायको के बंट कर अलग अलग जगह बाड़ेबंदी मे एक महिने से अधिक समय तक रहने के घटित होने वाले घटनाटक्रम के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी के सामुहिक पहल व सूझबूझ एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की सहमति के बाद सचिन पायलट व उनके समर्थक विधायको की मुख्यमंत्री गहलोत की मंशा के विपरीत ससम्मान वापसी होने के बाद जिसको मुख्यमंत्री गहलोत ने नकारा-निकम्मा तक कहा था उसी पायलट का मुख्यमंत्री स्वयं को विधायक दल की मीटिंग मे उत्साह के साथ केन्द्रीय प्रतिनिधि केसी वेणुगोपाल की उपस्थित मे इस्तकबाल करना पड़ा। उस इस्तकबाल के समय वहां मोजूद प्रभारी महामंत्री अविनाश पाण्डे व नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा बगले झांकते नजर आये।



              प्रभारी महामंत्री से केन्द्रीय नेतृत्व हमेशा उम्मीद रखता है कि जहां जहां उनकी सरकारे है वहा वहा वो पार्टी व सरकार के मध्य निष्पक्षता के साथ हर मुमकिन सामंजस्य बनाये रखे। लेकिन राजस्थान मे सरकार गठित होने से लेकर घटे राजनीतिक घटनाटक्रम के आखिर तक प्रभारी महामंत्री अविनाश पाण्डे निष्पक्षता के साथ आपसी सामंजस्य बनाये रखने की बजाय मुख्यमंत्री गहलोत की गोद मे बैठकर वो सब करते नजर आये जिससे दोनो नेताओं के मध्य आपसी तनाव को खाद-पानी मिलता रहे। जिसका हाईकमान को ज्ञान होने पर पाण्डे को पूरी तरह अलग रखते हुये केन्द्रीय नेतृत्व को आगे आकर सूलह का फारमूला तय करके पायलट खेमे के लिये राह हमवार करके उनकी वापसी करवाई है। हाईकमान को अंधेरे मे रखकर सचिन पायलट को दोनो पदो से हटाने की पाण्डे व मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा रचित साझिस के बाद जब गोविंद डोटासरा को जल्दबाजी मे अध्यक्ष बनाकर मुख्यमंत्री ने सालो से पायलट को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने की मंशा पुरी जरुर करली पर डोटासरा को अध्यक्ष बनने की मुबारकबाद मे राहुल गांधी व प्रियंका गांधी सहित अनेक दिग्गज नेताओं का अभी तक ट्वीट तक नही आना कुछ अलग संकेत दर्शाता है।
             मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की दिल्ली के राजनीतिक गलियारों मे कुशल प्रशासक व प्रबंधक की छवि होना जरुर मानी जाती है। लेकिन सरकार रिपीटर की छवि मे गहलोत पूरी तरह फिसड्डी माने जाते है। 1998 मे 156 सीटो वाली भारी बहुमत वाली सरकार का गहलोत को मुखिया बनाया लेकिन गहलोत के नेतृत्व मे चुनाव होने पर कांग्रेस ओंधे मुहं गिरने पर 156 सीट से लूढकर मात्र 56 सीट पर आकर ठहरना पड़ा था। उसके बाद गहलोत को 2008 मे फिर कांग्रेस सरकार का मुखिया बनाया तो फिर चुनाव होने पर परिणाम वोही ढाक के तीन पात आये थे। इसलिए गहलोत हाईकमान की नजर मे सरकार रिपीटर नही होने के कारण 2022 मे यूपी चुनाव होने से पहले उन्हें बदल कर सचिन पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाकर यूपी की करीब 80 सीटो को प्रभावित करने वाले गुजर मतदाताओं को प्रियंका गांधी सचिन पायलट का वहा उपयोग करके सत्ता या सत्ता के करीब कांग्रेस को ले जाना चाहती है। साथ ही नये तोर पर सचिन पायलट के नेतृत्व मे चुनाव मे भाग लेकर कांग्रेस 2024 मे फिर राजस्थान मे सत्ता स्थापित करके पुराने इतिहास को दोहराना चाहती है।
          कुल मिलाकर यह है कि सचिन पायलट सहित उनके समर्थक मंत्रियो की वापसी होना तय होने के साथ जल्दबाजी मे बनाये गये प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया जाना व प्रभारी महामंत्री अविनाश पाण्डे को बदला जाना तय सूना जा रहा है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र