नवनियुक्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के पहली दफा सीकर आने पर उनका इस्तकबाल कार्यक्रम फीका रहा।


जयपुर।
                राजस्थान कांग्रेस मे गहलोत-पायलट खेमे मे पहले विभक्त कांग्रेस विधायक दल के घटनाटक्रम मे सचिन पायलट को हटाकर गोविंद सिंह डोटासरा के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद डोटासरा पहली दफा अपने ग्रह क्षेत्र सीकर आने पर उनके हुये इस्तकबाल कार्यक्रम मे अधिकांश कांग्रेस विधायकों व नेताओं ने दूरी बनाने की चर्चा राजनीतिक गलियारों मे तेजी के साथ चक्कर काट रही है। निर्दलीय विधायक महादेव सिंह खण्डेला व बगावत करके कांग्रेस के खिलाफ विधानसभा चुनाव लड़ने पर कांग्रेस से बाहर किये गये नीमकाथाना के पूर्व विधायक रमेश खण्डेलवाल ने जिले की सीमा सरगोठ मे डोटासरा का स्वागत किया। रमेश खण्डेलवाल तो सरगोठ से ही निकल लिये पर महादेव सिंह सरगोठ से डोटासरा के साथ साथ उनके सीकर निवास तक साथ आये एवं फतेहपुर विधायक हाकम अली बाद मे डोटासरा के निवास पर सीधे पहुचे।



              हालांकि प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के अध्यक्ष बनने के बाद आज सीकर पहली दफा आने पर जिले की सीमा सरगोठ मे कार्यकर्ताओं द्वारा स्वागत करने के बाद उनके सीकर शहर स्थित अपने निवास स्थान तक आने पर काफी जगह खासतौर पर सेवादल व युवाओं ने माला पहनाकर स्वागत किया। सीकर शहर के बजरंग कांटे के पास सभापति जीवण खा व नगर परिषद के पार्षदों ने डोटासरा का स्वागत किया। प्रदेश अध्यक्ष द्वारा कल जारी किये कार्यक्रम मे कोराना के चलते डिस्टेंस बरतने की अपील भी की गई थी।
              सीकर जिले की आठ विधानसभा सीटो मे से सात पर कांग्रेस विधायक मोजूद होने के बावजूद स्वयं डोटासरा के अलावा एक मात्र कांग्रेस के फतेहपुर विधायक हाकम अली उनका इस्तकबाल कार्यक्रम मे सीधे उनके निवास आकर शिरकत की एवं बाकी पांच पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व विधायक दीपेन्द्र सिंह शेखावत, नीमकाथाना विधायक सुरेश मोदी, दांतारामगढ विधायक वीरेंद्र सिंह, पूर्व मंत्री व शहर विधायक राजेन्द्र पारीक, व पूर्व मंत्री व धोद विधायक परशराम मोरदिया पूरे कार्यक्रम मे कही भी नजर नही आये। इनके अलावा पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व मंत्री रहे चोधरी नारायण सिंह व पूर्व केन्द्रीय मंत्री व लोकसभा उम्मीदवार रहे सुभाष महरिया भी पूरे कार्यक्रम मे नजर नही आये।
            कुल मिलाकर यह है कि हाल ही मे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बने लक्ष्मनगढ विधायक व शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को मुख्यमंत्री गहलोत समर्थक विधायको की जयपुर की होटल की बाड़ेबंदी मे अचानक सचिन पायलट को हटाकर तत्तकालीन प्रभारी महामंत्री अविनाश पाण्डे की सिफारिश पर अध्यक्ष बनाया गया बताते है। कल शाम तक डोटासरा के सीकर आने को लेकर क्षेत्र मे चारो तरफ काफी उत्साह दिखने व स्वागत की बडी तैयारी होती देखी जा रही थी। लेकिन शाम होते होते ज्योहीं अविनाश पाण्डे को हटाने की खबर फैली तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं व नेताओं मे पता नही क्या संदेश गया कि आज उनमे से अधिकांश डोटासरा की अगुवानी व उनके स्वागत कार्यक्रम से नदारद नजर आये।


Popular posts
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
ग्रेटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन चुनाव मे कांग्रेसजन भाजपा के लिये सहायक बनते नजर आ रहे है। - भाजपा के दिग्गज नेता चुनाव प्रचार मे उतरे- प्रधानमंत्री मोदी मे प्रचार करेगे।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
इमेज
100 से ज्यादा लोगों को शादी में बुलाना पड़ा महंगा , लगा जुर्माना