सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मदरसा बोर्ड को संवैधानिक दर्जा देने का प्रस्ताव पास करना समस्याओं का हल नही माना जायेगा। - मदरसो व मदरसा पैराटीचर्स की स्थिति मे बदलाव लाना सरकार की नीयत पर निर्भर करेगा।

जयपुर।
              तत्तकालीन मुख्यमंत्री भैरोसिंह शेखावत के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार द्वारा वक्फबोर्ड के मार्फत मदरसो को आधुनिक तालीम से जोड़ने के लिये मदरसो के स्टुडेंट्स को निशुल्क पाठ्यपुस्तक व आदी दर पर नोटबुक उपलब्ध करवाने के साथ साथ तत्तकालीन वक्फबोर्ड चैयरमैन शोकत अंसारी की कोशिशो से मदरसो मे पैरा टीचर्स लगाने की शुरुआत करने के बाद राजस्थान के अधिकांश मदरसे जदीद तालीम से तत्तकालीन समय मे जुड़ने लगे थे। उस समय मदरसो की मेनेजमेंट कमेटी सरकारी दखल से अपने आपको काफी दूर रखने पर अड़ी हुई थी। लेकिन उसी समय वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष अब्दुल कय्यूम अख्तर ने राजस्थान मदरसा बोर्ड संस्थान नामक एक सहकारी संस्था का गठन करके उसको बाकायदा रजिस्टर कराके तत्तकालीन वक्फ बोर्ड चेयरमैन शोकत अंसारी के साथ मिलकर दोनो ने अनेक धार्मिक व सामाजिक लीडर्स को साथ लेकर प्रदेश के प्रत्येक मदरसो का दौरा करके उनकी प्रबंध समितियो से वार्ता करके उनको सरकारी मदद से टीचर्स लेने के अलावा सरकारी पाठयक्रम निशुल्क लेकर मदरसो मे आधुनिक तालीम पढाने के लिये तैयार किया था।
                      तत्तकालीन मुख्यमंत्री भैरोसिंह शेखावत के नेतृत्व वाली सरकार के बाद 1998 मे जब अशोक गहलोत के नेतृत्व मे प्रदेश मे कांग्रेस सरकार गठित होने पर निशुल्क पाठ्यपुस्तक देने का क्रम तो वक्फ बोर्ड के मार्फत जारी रखा लेकिन आदी दर पर नोटबुक उपलब्ध करवाने की योजना पर ताला लगा दिया था जिसपर आज भी ताला लगा हुवा है। अब्दुल कय्यूम अख्तर वाली मदरसा बोर्ड संस्थान जब मे लोकप्रियता मे आसमान छूने लगी तो तत्तकालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अलग से सरकारी स्तर पर सन् 2000 मे राजस्थान मदरसा बोर्ड का गठन किया। सन 2000 से लेकर 2020 तक प्रत्येक सरकार ने बोर्ड को संवेधानिक दर्जा देने के दावे करती रही है। आखिरकार 24-अगस्त-2020 को विधानसभा मे बोर्ड को संवेधानिक दर्जा देने का प्रस्ताव तो पास किया है। अगर छ महिने मे प्रस्ताव को कानूनी शक्ल देकर ऐक्ट का रुप नही दिया तो भैंस पानी मे जा सकती है। संवेधानिक दर्जा मिलने से बोर्ड पर कोई खास असर नही पड़ेगा मात्र बोर्ड संवैधानिक बोडी बन जायेगा। मदरसों व मदरसा पैरा टीचर्स की हालात व उनके मानदेय वृद्धि व उनके नियमतिकरण करने पर सवेधानिक दर्जा मिलने का रत्ती भर भी प्रभाव नही पड़ेगा। बोर्ड व पैराटीचर्स की स्थिति मे बदलाव सरकारी की नीयत पर निर्भर करता है व करेगा। अगर सरकार की नीयत बदलाव लाने की है तो वो पहले भी बदलाव ला सकती थी एवं अब भी आगे चलकर कभी भी बदलाव ला सकती है।
          मदरसा पैराटीचर्स के मानदेय मे हर सरकार ने बढोतरी तो की है लेकिन वो बढोतरी हमेशा ऊंट के मुहं मे जीरा समान ही की जाती रही है। मदरसा पैराटीचर्स का नियमतिकरण मात्र एक दफा वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली 2003-2008 भाजपा सरकार मे ही हुवा है। उसके पहले व उसके बाद अभी तक किसी भी सरकार ने नियमतिकरण नही किया है। तत्तकालीन मुख्यमंत्री राजे के समय नियमतिकरण पाने वाले पैराटीचर्स आज सरकारी शिक्षक बनकर अच्छी सेलेरी पाकर अपना अच्छा जीवन यापन कर रहे है। कांग्रेस सरकार ने आज तक मदरसा पैराटीचर्स का स्थायीकरण नही किया ओर ना ही सही तरीके से कोशिश की है। बल्कि इसके विपरीत मदरसा पैरा टीचर्स व कम्पयूटर पैरा टीचर्स के भर्ती परिणाम सालो से पेण्डींग पड़े तक जारी नही किये है। नाही नई भर्ती जारी कर रहे है।
            आज के समय राजस्थान मदरसा बोर्ड एवं जिला अल्पसंख्यक कल्याण कार्यलय मे सभी कार्मिक डेपुटेशन पर लगे हुये है। संवेधानिक दर्जा मिलने के बाद सरकार की नीयत सकरात्मक रहे तो बोर्ड के कार्मिकों का अलग से केडर बनाया जा सकता है। विधानसभा मे पारित प्रस्ताव को पूरा पढने के बाद लगता है कि सरकार ने बहुत जल्दबाजी मे तैयार करके प्रस्ताव को पास किया है। इसमे बहुत कुछ जोड़ा जाना आवश्यक था जो जोड़ा नही गया है।
            कुल मिलाकर यह है कि बोर्ड को संवेधानिक दर्जा देने का प्रस्ताव 24-अगस्त-2020 को पास होने के बाद व सभी फोरमलटीज पूरी होकर दर्जा मिलने की सम्भावन के बाद भी बोर्ड व मदरसा पैरा टीचर्स की समस्याओं का समाधान होना आसान नही लगता है। यह सबकुछ सरकार की नीयत पर निर्भर करता व करत ररेगा कि वो किस हद तक समस्याओं का समाधान करना चाहती है। विधानसभा मे केवल मात्र प्रस्ताव पास होने से उत्साहित होने की अभी इतनी जरूरत नही है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह