सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जयपुर व जैसलमेर की होटल्स की बाड़ेबंदी मे बंद रहे विधायको द्वारा संजोए सपने अब उन्हें सताने लगेगे।


जयपुर।
                 मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा हमेशा की तरह उनके मुकाबिल खड़े होने वाले सम्भावित कांग्रेस नेताओं को एक एक करके राजनीतिक तौर पर किनारे लगाने मे अब तक उनको मिलती रही सफलता को याद करते हुये जयपुर व जैसलमेर की होटलो मे जनता के धन की बदौलत बाड़ेबंदी मे बंद अनेक कांग्रेस व समर्थक विधायको ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को कांग्रेस से बाहर का रास्ता मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा दिखाना मानकर स्वयं के मंत्रीमण्डल मे जगह मिलने के साथ साथ मलाईदार विभाग पाने के जो सपने संजोए थे वो सो सूनार की ओर एक लुहार की चोट की तरह सचिन पायलट के वापस कांग्रेस मे आने के बाद अब उन्हें सताने लगगे।
                पत्रकार से कांग्रेस विधायक बनने के बाद पीछली दफा टिकट नही मिलने पर कांग्रेस उम्मीदवार के सामने आकर निर्दलीय तौर पर चुनाव लड़कर विधायक बने एक निर्दलीय विधायक बाड़ेबंदी मे रहकर इस तरह उछलकूद मचा रहे थे मानो उनको मंत्री बनने के अलावा मलाईदार विभाग मिलने का ऊपर से सर का इशारा मिल चुका है। बताते है कि उक्त निर्दलीय विधायक के अलावा कांग्रेस सरकार मे एक के राजस्थान सरकार मे व दुसरे के केंद्र की कांग्रेस सरकार मे मंत्री पद का सूख भोगने के बावजूद कांग्रेस जैसी माई बाप के फैसले के मुताबिक़ बनाये उम्मीदवारों के सामने आकर चुनाव लड़कर निर्दलीय बने विधायको ने तो अपने अपने समर्थकों को स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर बाड़बंदी से स्वतंत्र होने के बाद कभी भी होने वाले मंत्रीमंडल विस्तार मे मंत्री बनकर पायलट समर्थक बर्खास्त मंत्रियों के विभाग मिलने की सम्भावना तक जता दी बताते है।
               जयपुर-जैसलमेर की होटल्स मे करीब 35-36 दिन बाड़ेबंदी मे बंद रहकर सचिन पायलट व उनके अन्य 18-समर्थक विधायको की कांग्रेस से बाहर जाने का समय से पहले पुख्ता मानकर सपने संजोने वाले निर्दलीय विधायको के साथ साथ बसपा से कांग्रेस मे आये विधायको के अतिरिक्त कांग्रेस के अनेक विधायको ने भी 14-अगस्त को विधानसभा मे बहुमत पाकर उसके बाद सम्भावित मंत्रीमंडल विस्तार मे अपनी जगह पुख्ता मानकर इच्छानुसार विभाग मिलना मान कर अनेक ताश के महल खड़े किये थे जो अब रुक रुक कर महल ढहते नजर आनै लगे है।
           बताते है कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार मे गहलोत-पायलट द्वारा चली जाने वाली चालो व उन चालो से कांग्रेस को होने वाले नुकसान को लेकर हरियाणा के एक युवा नेता व कांग्रेस सांसद ने सभी तरह के तथ्यों से पहले राहुल गांधी व फिर प्रियंका गांधी को अवगत करवाया। उसके बाद अन्य कांग्रेस नेताओं ने भी राहुल-प्रियंका को वास्तविक स्थिति से अवगत करवाने के बाद बताते है कि गांधी परिवार के पूत्र-पूत्री की पायलट से पहले टेलिफोनिक व फिर आमने सामने वार्ता होकर सचिन पायलट की वापसी तय हुई। जब पायलट की दिल्ली मे वापसी हो रही थी जब जेसलमेर मे बाड़ेबंदी मे बंद कुछेक विधायको ने पायलट वापसी के विरोध के स्वर निकालने की कोशिश भी की, पर धणी का धणी कोन। जब राहुल गांधी-प्रियंका गांधी व सोनिया गांधी की रजामंदी के बाद पायलट व पायलट समर्थक विधायको की वापसी हो तो उसके विरोध मे कोन खड़ा होगा? हुवा भी यही। बाड़ेबंदी मे बंद विधायक व मुख्यमंत्री गहलोत के अतिरिक्त अविनाश पाण्डेय सहित अन्य नेताओं ने चाहे बूझै मन से ही सही पर हाईकमान का फैसला बताकर मानने को कह दिया। बाड़ेबंदी मे बंद जिन विधायको ने जो अनेक तरह के सपने उस समय संजोए थे वो अब उन्हें रुक रुक कर जरूर सतायेगे।
            14-अगस्त को कांग्रेस सरकार के धवनिमत से विश्वास प्रस्ताव पारित होने व सदन के 21-अगस्त तक स्थगित होने के बाद बाड़ेबंदी मे बंद विधायको के स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर बाड़ेबंदी से स्वतंत्र होकर अपने अपने क्षेत्र मे जना माना जा रहा है। वही सचिन पायलट के देर रात दिल्ली पहुंचना बताया जा रहा है। जहां पायलट कुछ दिन रुककर हाईकमान से मिलेगे। पायलट व दिल्ली मे मोजूद दिग्गज कांग्रेस नेताओं की मुलाकात पर सबकी नजरे ठिकी हुई है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह