सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अपने आपमे शिक्षा मे अगुवा होने का दावा करने वाली कायमखानी बिरादरी को जाट समुदाय से कुछ तो सीख लेनी चाहिये।


जयपुर।
                 राजस्थान के शेखावाटी जनपद के अलावा डीडवाना क्षेत्र मे रहने वाले या यहां के पलायन कर अन्यत्र जाकर निवास करने वाली मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी वैसे तो अपने आपको मुस्लिम समुदाय की अन्य बिरादरियों के मुकाबले शिक्षा मे अगुवा मानकर चलने का दावा करती है लेकिन भारतीय सीविल सेवा परीक्षा के कल आये परीक्षा परिणाम पर नजर डालते हुये कहना आवश्यक हो जाता है कि इसी क्षेत्र मे रहने वाली जाट बिरादरी से कायमखानी बिरादरी को आगे बढने के लिये कुछ तो सीख लेनी चाहिए।
                 शेखावाटी जनपद व डीडवाना क्षेत्र मे सालो से निवास करने वाली कायमखानी बिरादरी से भारतीय सिविल परीक्षा परिणाम मे सफल अभ्यर्थियों मे अपना नाम दर्ज करवानें मे अबतक सफल होने वालो मे बेरी छोटी की असलम खान, बलारा के जाकीर खान व नुआ की फरहा हुसैन का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। जबकि पीछले एक अर्शे से भारतीय सिविल सेवा परीक्षा मे जाट बिरादरी के बडी तादाद मे अभ्यर्थी विजयी परचम लहराते आ रहे है। कल आये भारतीय सिविल सेवा परीक्षा परिणाम मे शेखावाटी जनपद व डीडवाना क्षेत्र से कुल 829 पदो मे से एक दर्जन से अधिक जाट बिरादरी के अभ्यर्थी सफल हुये है। उनके मुकाबले एक भी कायमखानी अभ्यर्थी का नाम कल कै परिणाम मे दर्ज नही हो पाया है।
        हालांकि कायमखानी समुदाय का भारतीय सिविल सेवा परीक्षा परिणाम से गायब होने का कुछ लोग एक कारण यह बताते है कि केन्द्रीय सेवा के लिये पिछड़ा वर्ग सूची मे कायमखानी का शामिल नही होना प्रमुख बाधा बताते है जबकि जाट बिरादरी को केन्द्रीय सेवा मे ओबीसी जाति के तौर पर आरक्षण का लाभ मिला हुवा है।
       जनपद की कायमखानी बिरादरी को 1980 से लेकर अब तक अपने आपको जाट बिरादरी से तुलनात्मक विश्लेषण करना चाहिए कि कितनी मेहनत की, कितना कमाया, कितनी फिजूलखर्ची की ओर कितनी शिद्दत से शिक्षा की रस्सी को पकड़ कर कामयाबी की मंजिल को पाया ओर पाने की कोशिश की। इसके विपरीत अगर हम नजर दोड़ाये तो पाते है कि मुस्लिम समुदाय फिरको मे बंटकर इबादतगाहो का निर्माण खूब किये लेकिन अपने आपको इबादत गाहो व शैक्षणिक संस्थानों से जोड़े रखने की कोशिशें कम की एवं साथ ही घर को इबादत गाह व पाठशाला कभी बनने नही दिया। मुकाबले मे जाट समुदाय ने इबादत गाहो की जगह शेक्षणिक संस्थाओं का निर्माण खूब किया ओर घर (खेत-जावं) को इबादतगाह व पाठशाला बनाने को अहमियत अधिक दी। जाट समुदाय ने जिस लगनता , एकाग्रता व विश्वास के साथ शिक्षा को सर्वोपरि मानकर उसको सीढी बनाकर कामयाबी का परचम लहराने की लगातार कोशिशे की उसमे वो लगाते है कि काफी हद तक कामयाब भी रहे व हो रहे है। जबकि कायमखानी बिरादरी शिक्षा को सर्वोपरी मानने के रास्ते को दिन ब दिन अपनाने की बजाय इससे दूर भागती जा रही है। कम से कम कायमखानी बिरादरी को 1980 से लेकर 2020 तक के चालीस साल के काल मे अपने व जाट समुदाय मे तुलनात्मक विश्लेषण जरुर करना चाहिए। उसके बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंच कर किसी ना किसी रुप मे कार्ययोजना बनाकर उस पर काम करना होगा।
           कुल मिलाकर यह है कि जाट समुदाय के मुकाबले कायमखानी बिरादरी मे शेक्षणिक तोर मजबूत होकर कामयाबी का परचम लहराने के लिये किसी स्तर पर सामाजिक सिस्टम नही है। इसके अलावा हाल ही मे सीनियर सेकेंडरी कक्षा के परिणाम मे सेंकड़ो कायमखानी छात्र-छात्राओं ने 95 व इससे अधिक प्रतिशत अंक लाकर सबका गौरव बढाया है। लेकिन गाईडेंस व कोंसलिंग के अभाव मे यह छात्र-छात्राऐ भी वो सबकुछ नही कर पायेगे जो करने की यह क्षमता रखते है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह