सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वक्फ बोर्ड चेयरमैन ने किया फतेहपुर व रामगढ़ दौरा , चैयरमैन खानू खान के लिये फतेहपुर शेखावाटी की वक्फ जायजाद से कब्जा हटाना चुनौती बना।


        ।अशफाक कायमखानी।
फतेहपुर शेखावाटी।
                  सीकर जिले के फतेहपुर शेखावाटी व उसके लगते रामगढ़ कस्बे मे बडी तादाद मे मोजूद अधीकांश वक्फ जायदाद पर राजनीतिक व महासी पहुंच रखने वाले लोगो ने कच्चे-पक्के कब्जे करके आज तक सरकार व वक्फ कमेटियों को आज तक सफलतम चुनौती देते आ रहे है। फतेहपुर शेखावाटी व रामगढ़ सेठांन मे मोजूद वक्फ प्रेमियों द्वारा लगातार यहां पर वक़्फ़ सम्पतियो पर हो रहे अतिक्रमण को भूमाफियाओं से मुक्त करवाने की मांग चेयरमैन व सरकार के आला अधिकारियों से करते आ रहे है। जिस मांग के जौर पकड़ने के बाद चैयरमैन खानू खान ने स्थानीय सरकारी अमले को साथ लेकर वक्फ जायदादो का निरीक्षण व सर्वे किया तो अनेक तरह के रोचक तथ्य उजागर होने के बाद उन पर अतिक्रमणकारियों के खिलाफ जल्द सख्त कार्यवाही करने का दवाब बढ गया है।



             डा.खानू खान द्वारा संज्ञान लेते हुए फतेहपुर और रामगढ़ का प्रशासन के साथ दौरा कर फतेहपुर में वक़्फ़ की नारी - बारी रोड, सालासर रोड, चूरू रोड, जयपुर रोड पर, पुराना मुसाफिर खाना एवं रामगढ़ में वक़्फ़ कब्रिस्तान जैसी बेशकीमती जमीनों का जायजा लेकर मोके पर मौजूद तहसीलदार को निर्देशित किया है कि शीघ्र इन जायदादों को अतिक्रमण को मुक्त करवा कर वक्फ बोर्ड को  सूचित करें एवं जो लोग जमीन को स्वयं की बता रहे है उन्हें सात दिन का वक़्त देकर जमीन पर काबिज लोगो से जमीन के पट्टे और रजिस्ट्री की पारदर्शिता से जांच करे दोषी पाए जाने पर ज़मीनों को मुक्त करवा कर उनपर कानूनी कार्यवाही करने को निर्देशित किया।



            डा.खानू खान ने कहा कि फतेहपुर में वक़्फ़ की बेशकीमती ज़मीनों पर भूमाफियाओं का कब्जा पूर्व की भाजपा सरकार की देन है। पूर्व की सरकार के संरक्षण के कारण और अधिकारियों की मिलीभगत का ही नतीजा है की आज भूमाफिया वक़्फ़ की जमीनों को खुर्द - बुर्द करने का कार्य कर रहे है। लेकिन अब वक़्फ़ की मिल्कियत को मिट्टी में मिलते नही देखा जाएगा। चेयरमैन ने कहा कि जकात-खैरात की जमीनों को खाने वाले इस बात की गांठ बांध लें कि ऊपर अल्लाह तुम्हे बेशुमार लानत देगा और जमीन पर राजस्थान वक़्फ़ बोर्ड कानूनी कार्यवाही कर सजा दिलाने से कतई पीछे नही हटेगा। 
         


चेयरमैन ने फतेहपुर में दरगाह हज़रत शेख सुल्तान रह. अलैह की जियारत कर उनकी वक़्फ़ मिल्कियत पर हो रहे अतिक्रमण का जायजा लिया और तहसीलदार को उक्त जायदाद को अतिक्रमण मुक्त करवा कर बोर्ड को सूचित करने के निर्देश दिये है। साथ ही मकबरा आलम अली की जमीन के रकबे की नपाई कर रिपोर्ट भेजने के लिए पटवारी को निर्देशित किया गया है इसके अतिरिक्त बेसवा रोड पर वक़्फ़ बोर्ड की बेशकीमती 45 बीघा पर हो रहे अतिक्रमण को खाली करवाने के लिए मोके पर मौजूद तहसीलदार को चेयरमैन ने निर्देशित किया है। 
         


चेयरमैन ने कहा कि रामगढ़ सेठांन हाइवे पर ईदगाह के सामने मौजूद बोर्ड की बेशकीमती जमीन पर चूरू के भूमाफिया अब्बास अली नामक व्यक्ति द्वारा अवैध कब्जा करने का मामला सामने आया है। अतिक्रमी द्वारा न्यायलय में भी झूठे दस्तावेज पेश कर कोर्ट को बरगलाने का काम किया है जिसको बर्दाश्त नही किया जाने का दोहराया। उन्होंने कहा कि बोर्ड दोषी पर कड़ी कार्यवाही कर जमीन को अतिक्रमण मुक्त करवाने का काम करेगा। साथ ही पूर्व में बोर्ड की जमीन पर से निकले हाइवे का मुआवजा बोर्ड को आज तक नही मिलने का मामला संज्ञान में आने पर कहा कि उसपर शीघ्र सरकार से बोर्ड वार्ता करेगा। 
       


चेयरमैन ने कहा कि राजस्थान वक़्फ़ बोर्ड की जमीनों पर सामने आ रहे लगातार मामलों को देख कर वो आश्चर्य चकित है कि दरगाह, कब्रिस्तान और जकात खैरात वाली ज़मीनों को कैसे कोई व्यक्ति खाने का काम कर सकता है। व्यक्ति को सोचना चाहिए कि उसकी असल जिंदगी दुनिया मे नही वो दुनिया मे किरायदार है। आदमी को उसके गलत आमालो का एक- एक हिसाब देना है।
         


फतेहपुर शेखावाटी व रामगढ़ सेठान मे मोजूद बेशकीमती वक्फ जायदादो पर क्षेत्र मे राजनीतिक महासी व मसलस पावर रखने वालो लोगो ने कुछ लोगो से साजिश करके कच्चे-पक्के अतिक्रमण कर रखे है। अतिक्रमणकारियों के खिलाफ स्थानीय वक्फ जायदाद प्रेमियों ने आवाज समय समय पर बूलंद की भी है। एवं अभी भी लगातार कर रहे है। लेकिन सरकार की अनदेखी व वक्फ बोर्ड के लगातार जारी लचीले पन के कारण इनकी कोशिशे व आवाज अभी तक परवान नही चढ पाई है। अतिक्रमणकारियों की ऊंची पहुंच के कारण वो सत्ता के असर के कारण शहर मे मोजूद वक्फ जायदाद प्रेमियों को विभिन्न तरह के फर्जी मुकदमो मे फंसाकर या अन्य तरीकों से परेशान करके आज तक रास्ते से उन्हें दूर करने मे समय समय पर सफल होते आये है।इन सब हालातो के बावजूद क्षेत्र के सामाजिक कारकून गुलाम मोहम्मद खान, एडवोकेट अब्दुल रशीद खां आलमास, एडवोकेट इमरान खा बेसवा, व तैयब मेहराब खा जैसे अनेक लोग वक्फ जायदाद बचाये रखने के लिये सामुहिक व व्यक्तिगत प्रयास करते आ रहे है।
             


शहर मे वक्फ जायदादों को अतिक्रमण से मुक्त कराने मे संघर्षरत अनेक लोगों ने बताया की शहर के पोश इलाके के साथ साथ जयपुर-बीकानेर हाइवे के अलावा मेघा हाइवे पर हजारो बीघा व कोमर्सियल वक्फ की जमीनो पर अवेध कब्जे हो रखे है। अगर वक्फ बोर्ड हिम्मत करके इमानदाराना रुख अपना इनमे से आधी जमीन भी एक दफा अतिक्रमणकारियों से खाली कराने मे कामयाब हो जाता है तो उन जायदादो की मामूली आमद से क्षेत्र मे बडा अस्पताल, स्कूल-कालेज के अलावा अनेक तरह के फलाई काम आसानी से अंजाम दिये जा सकते है।
           


कुल मिलाकर यह है कि वक्फ बोर्ड चेयरमैन खानू खान को फतेहपुर व रामगढ़ सेठान की बेशकीमती वक्फ जायदाद को बचाने व अतिक्रमणकारियों से मुक्त कराने को चुनौती के रुप मे स्वीकार करके उस पर समयबद्ध कार्ययोजना बनाकर उस पर अमल करना चाहिए। इसके विपरीत अतिक्रमणकारी अपने अतिक्रमण को बचाने के लिये पहले चांदी के जुते का फिर राजनीतिक एवं उसके बाल मसलस पावर का उपयोग करने का हमेशा की तरह कोशिश करेगे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क