स्टेट क्राइम ब्रांच ने कोटा-झालावाड़ हाईवे पर झालावाड़ से स्मैक ला रहे चार तस्करों को 60 लाख रुपए की स्मैक के साथ दबोचा

 


जयपुर, 26 जुलाई।  जयपुर से कोटा गई सीआईडी  क्राईम ब्रांच की टीम ने रविवार को कोटा-झालावाड़ हाइवे पर मारुति वैन में झालावाड़ से स्मैक ला रहे 04 तस्करों को 300 ग्राम अवैध स्मैक के साथ गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में बरामद स्मैक की अनुमानित कीमत 60 लाख रुपये आंकी गई है। सरगना कैलाश तंवर (23) और उसके साथी मारुति वैन मालिक रमेश रोहिला (28), जगदीश तंवर (25) व प्रेमसुख तंवर (25) अकलेरा, झालावाड़ के रहने वाले है। पूछताछ में स्मैक कोटा के केशोरायपट्टन कस्बे में छोटे तस्करों को सप्लाई करना बताया है।  
      पुलिस महानिदेशक (अपराध) मोहन लाल लाठर ने बताया कि सरगना कैलाश तंवर ने इससे पहले जयपुर, टोंक व सीकर जिले में भी स्मैक की सप्लाई करना स्वीकार किया है।  मामले में गहनता से तफ्तीश कर तस्करी से जुड़े पूरे नेटवर्क को तोड़ने के लिए इससे जुड़े सभी अभियुक्तों का पता कर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।       
      पुलिस महानिदेशक (अपराध) ने बताया कि स्टेट क्राईम ब्रांच की क्रिमिनल इन्टेलिजेन्स सैल (सीईसी) को सूचना मिली थी कि झालावाड़ से एक मारुति वैन में कुछ तस्कर कोटा में स्मैक सप्लाई करने वाले हैं।  इस सूचना पर सीईसी यूनिट के प्रभारी पुलिस निरीक्षक जितेन्द्र गंगवानी के नेतृत्व में एक टीम झालावाड़ रवाना की गई।  पुलिस महानिदेशक (अपराध) ने बताया कि रविवार सुबह से टीम कोटा-झालावाड़ हाईवे पर छोटे चौपहिया वाहनों की निगरानी कर रही थी। इसी दौरान झालावाड़ नम्बर की एक पुरानी मारूति वैन कोटा शहर की तरफ आते दिखाई दी। जिसे स्थानीय अनन्तपुरा थाने की जगपुरा चौकी के सामने रूकवा कर तलाशी ली तो पीछे की सीट के नीचे गुप्त स्थान बनाकर तीन  पैकेटों में छिपी स्मैक मिली। वैन में सवार चारों तस्करों को गिरफ्तार कर अनन्तपुरा थाने में एनडीपीएस एक्ट में प्रकरण दर्ज कर पूछताश की जा रही है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।