सीकर शहीद की शहादत में उमड़ा जनसैलाब जनप्रतिनिधि एवं जिले के प्रशासनिक अधिकारियों ने अपने लाडले को दी अंतिम विदाई ग्रामीण एवं परिजनों में शोक की लहर.

सीकर:   जम्मू कश्मीर के बारामूला के सोपोर में आतंकवादियों की मुठभेड़ में शहीद हुए दीप चंद वर्मा को आज नम आंखों से अंतिम विदाई दी गई इस अंतिम विदाई में जिले के प्रशासनिक अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधि एवं हजारों ग्रामीणों ने अपने लाडले को श्रद्धांजलि दी.इस अवसर पर शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा शहीद के परिवार के बच्चों की शिक्षा निशुल्क होगी और इसी के साथ गांव में स्थित सीनियर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय का नाम दीपचंद के नाम से होगा.खंडेला  विधायक महादेव सिंह खंडेला ने कहा कि वे बनने वाले शहीद स्मारक का पैसा विधायक कोटे से खर्च करेंगे और हम स्मारक अपनी तरफ से तैयार करेंगे. शहीद स्मारक के लिए जल्द से जल्द जमीन का चयन होगा. सांसद सुमेधानंद सरस्वती ने कहा कि देश के लाडले ने जो शहादत दी है वह कभी नहीं भुलाई जा सकती. सीकर जिले में आज तक 219 वे लाडले ने देश की रक्षा करते करते अपने प्राण न्योछावर किए हैं.उन शहीदों को सांसद ने सलाम करते हुए कहा कि निश्चित रूप से इन्हीं शहीदों की वजह से आज अपना देश सुरक्षित है.उन्होंने कहा कि जल्द ही राज्य और केंद्र सरकार से मिलने वाली आर्थिक पैकेज की सहायता राशि परिवार को मुहैया कराई जाएगी. शहीद के परिवार में एक बेटी व दो बेटा है शहीद का परिवार अजमेर में सेना के क्वार्टर में रहता था. कल आतंकवादियों की मुठभेड़ में बावड़ी गांव का दीपचंद शहीद हो गया था इससे पूर्व शहीद की अंतिम यात्रा रींगस से तिरंगा यात्रा निकाली गई और तिरंगा यात्रा में हजारों युवाओं ने देशभक्ति नारे लगाए. तिरंगा यात्रा के रूप में शहीद का पार्थिक देह उनके पैतृक गांव पहुंचा जहां उन्हें आज नम आंखों से विदाई दी गई।



 


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र