सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पं नवल किशोर शर्मा व परशराम मदेरणा परिवार सहित अनेक मजबूत राजनीतिक परिवारों को हाशिये पर धकेलने वाले मुख्यमंत्री गहलोत पर पायलट भारी पड़ रहे है।


जयपुर।
              हालांकि 1998 मे राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बनने के बाद से पार्टी मे मोजूद उनके मुकाबले मजबूत लीडर्स को धीरे धीरे एक एक करके राजनीतिक तौर पर हाशिये पर धकेलने मे गहलोत कामयाब होते गये लेकिन मोजुदा कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट को हाशिये पर धकेलने की लाख कोशिश करने के बावजूद सचिन पायलट, मुख्यमंत्री अशोक की हर चाल को नाकाम करते हुये उन पर भारी चाहे ना पड़े लेकिन कमजोर भी नही पड़ रहे है।
             1998 मे राजस्थान कांग्रेस का बहुमत आने पर दिल्ली तिकड़म के बल पर अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री बनने के बाद गहलोत ने चालाकी व कूटनीति के साथ मिले हर अवसर का उपयोग करते हुये कांग्रेस मे मोजूद मजबूत राजनीतिक परिवारो को एक एक करके हाशिये पर धकेलने का काम सफलतापूर्वक अंजाम दिया। पं नवल किशोर शर्मा के बाद उनके पुत्र ब्रज किशोर शर्मा, परशराम मदेरणा के बाद भंवरी देवी के बहाने उनके पूत्र महिपाल मदेरणा व उसी के साथ रामसिंह विश्नोई के पूत्र मलखान सिंह विश्नोई , नाथूराम मिर्धा व रामनिवास मिर्धा परिवार के ज्योति मिर्धा-हरेंद्र मिर्धा व रिछपाल मिर्धा को राजनीतिक हाशिये पर आसानी से धीरे धीरे हाशिये पर ढकेलने मे गहलोत कामयाब हो चुके है। उक्त परिवार से एक दो विधायक जरुर बने है। जो एकदम नये होने के कारण वो किसी भी रुप मे गहलोत के लिये लम्बे समय तक चेलैंज नही हो सकते है।
        मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी राजनीतिक कुटनीति व चालाकी से चाल चलने की कला के बल पर अपने उदय के बाद से कांग्रेस मे मोजूद हर राजस्थानी मजबूत राजनीतिक परिवार को हाशिये पर धकेलते हुये अपने राजनीतिक रास्ते को साफ सुथरा बनाने मे कामयाब रहे। पर अचानक यूपी के सारणपुर निवासी पूर्व केन्द्रीय ग्रह मंत्री राजेश पायलट के पूत्र जो राजनीति मे पावर लेकर पैदा हुये सचिन पायलट के राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बनकर आने के बाद से अशोक गहलोत ने उन्हें अध्यक्ष पद से हटाने के लाख जतन करने के बावजूद हटे नही ब्लकि इसके विपरीत पायलट अध्यक्ष पद के अलावा उपमुख्यमंत्री पद पर भी कायम हो गये।
            विधानसभा व लोकसभा चुनाव मे टिकट बंटवारे के साथ साथ राज्य सभा चुनाव के लिये उम्मीदवार चयन को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत के मुकाबले पायलट के बराबर मजबूत स्तम्भ की तरह खड़े होने से मुख्यमंत्री गहलोत असहज महसूस करने लगे थे। इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री की दौड़ मे चाहे गहलोत आगे भले निकल गये पर वो पायलट को राजनीतिक तौर पर हाशिये पर धकेलने पर कामयाब नही हो पा रहे है।
           जब भारत के अनेक प्रदेशो मे भाजपा वहा कायम कांग्रेस सरकार को गिराने व कांग्रेस विधायकों से पाला बदलवाने व त्याग पत्र दिलवाले मे कामयाब होती जाने लगी तो राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उक्त अवसर का उपयोग सचिन पायलट को राजनीतिक हाशिये पर धकेलने मे करने के विकल्प तलासने मे करने लगे। मुख्यमंत्री गहलोत को उपमुख्यमंत्री पायलट को घेरने के लिये ढेड साल के कार्यकाल मे पहली दफा राज्यसभा चुनाव के बहाने मिला। मतदान के पहले इनडायरेक्ट रुप से खरीद फरोख्त के बहाने विधायकों की बाड़बंदी करके पायलट को निशाने पर लेने की कोशिश के बावजूद पायलट साफ बचकर निकल गये। इसके बाद भाजपा द्वारा विधायकों की खरीद फरोख्त करके सरकार गिराने की कोशिश पर SOG व ACB मे दर्ज महेश जोशी की शिकायत पर कार्यवाही करने पर 11-जुलाई को मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा प्रैस कांफ्रेंस करके भाजपा नेताओं पर अनेक आरोप लगाते हुये फिर से पायलट को इनडायरेक्ट घेरने की कोशिश की है।
            मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की 11-जुलाई की प्रैस कांफ्रेंस के बाद उनकी सरकार को समर्थन दे रहे तेराह निर्दलीय विधायको मे से ACB की प्राथमिकी मे दर्ज तीन निर्दलीय विधायक सुरेश टाक, सुखवीर, व ओम प्रकाश हुड़ला को कांग्रेस समर्थक विधायकों की सूची से हटा दिया गया है। जबकि मीडिया मे भांति भांति की खबरे चलने के बाद कांग्रेस विधायकों मे भी अविश्वास का माहोल बन गया है। देर रात तक सीएमआर से विधायकों को फोन करके उनकी लोकेसन जानी जा रही थी। वहीं कुछ विधायक व मंत्री मुख्यमंत्री से मिलकर विश्वास भी जताते नजर आये बताते।
        कुलमिलाकर यह है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रैस कांफ़्रेंस करने के बाद भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनीया व भाजपा नेताओं ने भी प्रैस कांफ्रेंस करके गहलोत के आरोपो का जवाब दिया है। वही रालोपा नेता सांसद हनुमान बेनीवाल ने इसे अशोक गहलोत व वसुंधरा राजे द्वारा लिखित स्क्रिप्ट बताया है। लेकिन दिन भर घटे घटनाक्रम के बावजूद उपमुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट की चुप्पी होने को सबको असमंजस मे डाल रखा है। लगता है कि मुख्यमंत्री गहलोत का पायलट को राजनीतिक रुप से हाशिये पर धकेलने का लगाया ताजा दाव भी खाली जायेगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह