नेताओं और अधिकारियों के संरक्षण में पल रहे अपराधीः अजय कुमार लल्लू’


लखनऊ, :: उत्तर प्रदेश में लगातार बढ़ रहे अपराधों को रोक पाने मे अक्षम योगी सरकार अब पीआर और छल के सहारे आंकड़ों को छिपाने और तोड़ मरोड़ कर पेश करने में जुटी है।

यूपी कांग्रेस अध्यक्ष   अजय कुमार लल्लू ने आज जारी एक बयान में कहा कि प्रदेश में अपराधियों का खौफ इस कदर बढ़ रहा है कि महिला युवा पीसीएस अधिकारी को जान देने पर मजबूर होना पड़ा है, और घटना में नामजद लोग भाजपा के नेता हैं। प्रयागराज में एक ही परिवार के चार लोगों की नृशंस हत्या के मामले में पुलिस अंधेरे में हाथ पांव मार रही है। इसी प्रयाग में जनवरी में हुयी जघन्य हत्या की वारदात के बारे में कुछ पता नहीं चल सका है।

 अजय कुमार लल्लू ने कहा कि योगी सरकार अपराधियों को नहीं बल्कि राजनैतिक विरोधियों को निपटाने में जुटी है। यूपी कांग्रेस के युवा नेता शहनवाज आलम से लेकर अनस रहमान तक की गिरफ्तारी फर्जी आरोपों में की गयी है। कानून व्यवस्था को सुधारने का दावा करने वाली योगी सरकार लाखों का जुर्माना वसूलने के नाम पर रिक्शा चालक को गिरफ्तार कर अपनी पीठ ठोंक रही है। उन्होंने कहा कि कि कानपुर कांड के अपराधी विकास दुबे को मुठभेड़ में मार दिया पर उसे व प्रदेश में कई विकास पैदा करने वाले सफेदपोश नेताओं व अधिकारियों पर कारवाई के नाम पर सरकार चुप्पी मार कर बैठ गयी है। गृह विभाग से लेकर पुलिस के बड़े अधिकारी हर रोज विकास पैदा कर रहे हैं और उन्हें संरक्षण दे रहे हैं और राज खुलने के डर से मरवा दे रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अपराधों के आंकड़ों को छिपा कर और तोड़ मरोड़ कर योगी सरकार जनता के भरमाना चाहती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जल्द ही बीते तीन सालों के अपराधों का ब्यौरा जनता के बीच लाएगी और भाजपा सरकार व अपराधियों की दुरभिसंधि को उजागर करेगी। कानपुर के बिकरु हत्याकांड की सीबीआई जांच की मांग करते हुए श्री लल्लू ने कहा कि आखिर सरकार किस बात से डर रही है।


टिप्पणियाँ
Popular posts
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
लखनऊ : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के 51 वे जन्म दिवस पर NSUI के आदित्य चौधरी द्वारा अनाथालय में अनाथ बच्चों को आवश्यक वस्तुएँ का वितरण किया गया
चित्र
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र
युवाओं की तरफ एक दफा फिर से झांकती राजस्थान की कायमखानी बिरादरी।
चित्र