मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि लोकतंत्र की हत्या नहीं होने देगी कांग्रेस - भाजपा राजस्थान में सरकार गिराने की चालें चल रही है।


जयपुर। 
            राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कहा कि भाजपा राजस्थान की चुनी हुई कांग्रेस सरकार को गिराने कु चाले चलकर लोकतंत्र की हत्या करने की कोशिश कर रही है। इसके अलावा प्रदेश में कांग्रेस सरकार गिरने-गिराने की चर्चा के बीच गहलोत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कांग्रेस के अंदल यदि कोई गद्दार है तो उसे जनता माफ नहीं करेगी। 
          उन्होंने कहा कि कोरोना की स्थिति के कारण देश और प्रदेश की अर्थव्यवस्था तबाह हो गई है। आज हर व्यक्ति का जीवन बचाना अनिवार्य है। विकास रुके नहीं, इसलिए वो चाहते हैं कि उद्योग धंधे चालू हों, अर्थव्यवस्था पटरी पर आए इसके लिए उनकी सरकार लगातार काम कर रही हैं। 
             मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि हमने हर वर्ग को साथ लिया। भाजपा के नेताओं को भी साथ लिया। हालांकि वे टिप्पणी करते रहे। यह महामारी है। इसके लिए बीजेपी के लोगाें को समझना पड़ेगा। उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी के नेताओं ने सारी हदें पार कर दी हैं। एक ओर हम मानवता बचाने में लगे हैं दूसरी ओर बीजेपी सरकार गिराने में लगी है। हम पूरी तरह कोरोना से लोगों को  बचाने में लगे हैं। ये लोग सरकार कैसे गिरे, किस प्रकार से तोड़फोड करे मे लगे है। अब जो 2014 के बाद भाजपा में जो घमंड आ गया है। धर्म के नाम पर जाति के नाम पर, लोकतंत्र की हत्या करने में लगे हैं। विभिन्न प्रदेशों में जब जब भी इन्हें मौका लगा, गोवा या मणिपुर हो, वहां कांग्रेस की सरकारें बनने नहीं दी। इन लोगो के कारण एक एक्स सीएम को तो सुसाइड करना पड़ा।उत्तराखंड में भी जो देखा आप सबको पता है। महाराष्ट्र में तो इन्होंने कमाल ही कर दिया था । मेजोरिटी नहीं थी तब भी सुबह-सुबह सात बजे शपथ ले ली और मोदी ने ट्वीट कर दिया बधाई का। देवेंद्र फडनवीस ने तो ट्वीट कर दिया कि मोदी है तो मुमकिन है। हर प्रदेश में यही हाल है। मध्य प्रदेश में सबको मालूम है क्या किया । सोच ही कैसी है। 
         गहलोत ने कहा कि वो राजस्थान के विपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया से उम्मीद करते है कि वे ऐसे नहीं होंगे। सतीश पूनिया या राजेंद्र राठौडृ हाे ये  जो खेल खेल केंद्र के इशारे पर खेल रहे हैं ये सब तमाम बातें जनता के सामने आ गई हैं। ये 5 करोड़, 10 करोड़, सरकार गिराने आदि की जो बातें सामने आ रही हैं, यह शर्मनाक है। 


भाजपा वाले बेशर्म लोग है।
---------------------
मुख्यमंत्री ने कहा कि बसपा को लेकर उनको आरोपित करते हैं। मैं बताना चाहता हूं बसपा राजस्थान मे पूरी तरह कांग्रेस मे मर्ज हुई है। लेकिन भाजपा ने जो खेल खेला है वह सबके सामने है। जिस प्रकार मध्य प्रदेश में जो घटनाएं हुई हैं, उसी तरह राजस्थान में करने की कोशिश की है। यह अच्छी बात है कि राजस्थान में अच्छी परंपरा रही है। बकरा मंडी में जैसे बकरे बिकते हैं, उस ढंग से विधायकों को खरीदकर भाजपा राजनीति करना चाहती है वह बेशर्माई की हद है। भाजपा के लोगो की तरफ बोलते हुये कहा कि ये इतने बेशर्म लोग हैं, तिकड़मी हैं। राजस्थान में हमने इनकी चाल चलने नहीं दी। हमने राज्य सभा चुनाव में सबक सिखाया। ये मानने वाले कहां हैं, बेशर्म लोग हैं। ये वापिस अपने असली चेहरे पर आ रहे हैं। 


हमारे नेताओं ने लोकतंत्र को बचाया है
---------


70 साल में कांग्रेस के नेताअेां ने देश के लोकतंत्र को बचाया है। इंदिरा गांधी चुनाव हार गई तो तुरंत मोरारजी भाई को सत्ता सौंप दी। ये वो लोग हैं जिन्होंने पूरे मुल्क के लोगों को डरा धमका रखा है। राहुल गांधी व सोनिया गांधी के सवालों का जवाब नहीं दे पाते हैं। अब ये कांग्रेस के नाम से डरते हैं। 


राजस्थान की सरकार स्थिर


मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में सरकार स्थिर रहेगी। ओर पांच साल चलेगी। राजस्थान सरकार अगला चुनाव जीतने की तैयारी में लग गई है। उसी तरह हम बजट दे रहे हैं। उसी तरह हम जीतने के लिए सरकार चला रहे हैं। पूरी राजस्थान की जनता से हमारा संपर्क है। मुझे खुशी है कोरोना के मैंनेजमेंट की चर्चा पूरे मुल्क में हो रही है। यह सबके लिए गर्व की बात है। इस माहौल में सरकार गिराने का प्रयत्न करना, ठीक नहीं। सबक जरूर सिखाएगी जनता। कांग्रेस के कोई विधायक गद्दारी करते हैं तो राजस्थान की जनता उन्हें कभी माफ नहीं करेगी।
      पीछले माह राज्य सभा चुनाव के पहले भाजपा नेताओं द्वारा कांग्रेस व कांग्रेस समर्थक विधायकों को लालच देकर खरीदने की चर्चा के मध्य कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जौशी ने ऐसीबी व एसओजी मे चूनी हुई सरकार को अस्थिर करने को लेकर शिकायत दी थी। उसके बाद एसओजी ने रिपोर्ट दर्ज करके जांच करने पर अनेक तरह के तथ्य सामने आ रहे है। निर्दलीय विधायक सुखवीर सिंह, सूरेश टांक व ओम प्रकाश हुड़ला द्वारा आदिवासी क्षेत्र के विधायको को लालच देकर पाला बदलवाने व अशोक सिंह व सीऐ  मलानी को इस मामले मे एसओजी द्वारा गिरफ्तार करने के बाद राजस्थान मे राजनीतिक गरमाहट है। उक्त मामले मे लालच देकर पाला बदलवाने मे भाजपा नेताओं व उनके दलालो के सम्पर्क मे आने के मामले मे अनेक कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों के नाम की चर्चा चल पड़ी है। उसमे शेखावाटी के भी तीन विधायक शामिल बताते है।
                 कुल मिलाकर यह है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा आज प्रैस कांफ्रेंस करके भाजपा द्वारा राजस्थान सरकार को अस्थिर करने की लगातार कोशिश करने को लेकर प्रधानमंत्री मोदी व ग्रह मंत्री शाह के इशारे पर राजस्थान भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनीया,विपक्षी नेता  गुलाब चंद कटारिया व सीनियर भाजपा विधायक राजेन्द्र राठोड़  पर आरोप लगाने व एसओजी द्वारा अशोक सिंह व मलानी नामक दो लोगो को गिरफ्तार करने के बाद राजनीति मे गरमाहट आ गई है। लगी इस आग की जद मे कोन कोन आते है यह आगे पता चलेगा। लेकिन इतना तय है कि इस आग मे बहुत नेताओं को अपना राजनीतिक केरियर स्वा करना होगा।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
एल पी एस निदेशक नेहा सिंह व हर्षित सिंह सम्मानित किये गये
इमेज
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
आसाम-बंगाल आम चुनावो के साथ राजस्थान के होने वाले चार उपचुनावो के बाद गहलोत सरकार गिराने की फिर कोशिश हो सकती है! - पायलट समर्थक प्रदेश भर मे किसान महापंचायते आयोजित करके अपना जनसमर्थन बढा रहे है।