CM गहलोत ने राज्यपाल से कहा- कहीं जनता राजभवन न घेर ले, फिर मेरी जिम्मेदारी नहीं होगी


जयपुर। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने हाईकोर्ट के आदेश के बाद बहुत ही आक्रामक तरीके से मीडिया से बात की है. उन्होंने कहा किस हमने कल राज्यपाल से सत्र बुलाने की मांग की है लेकिन राज्यपाल की ओर से अभी तक कोई जवाब नहीं आया है. ऐसा लगता है कि उनके ऊपर कोई दबाव है. उन्होंने बताया, 'मैंने फिर उनसे टेलीफोन पर बात की है कि आपका एक संवैधानिक पद है उसकी गरिमा है..कृपा करके अपना फैसला करें'. सीएम गहलोत ने कहा कि वो विधानसभा शुरू करना चाहते हैं. पूरा देश- प्रदेश देखेगा, डिबेट होगी, और दूध का दूध पानी हो जाएगा।


सीएम गहलोत ने कहा कि उनके पास स्पष्ट बहुमत है इसके साथ ही गहलोत ने कहा कि हमारे साथियों को बीजेपी की देखरेख में बंधक बनाए रखा गया है.राजस्थान में प्रदेश की जनता हमारे साथ है. इस समय कोरोना से जिंदगी बचाने की चुनौती है. हमने शानदार मैनेजमेंट किया है. पूरे देश में वाहवाही हो रही है...ऐसे माहौल में सरकार गिराने की साजिश हो रही है।


सीएम गहलोत ने कहा कि बीजेपी लोकतंत्र को खतरे में डाल रही है, छापे डलवा रही है. ऐसा नंगा नाच कभी नहीं देखा है. उन्होंने कहा, ' राज्यपाल जी ने शपथ ली है उसी हिसाब से काम करें नहीं तो राजस्थान की जनता आपका राजभवन को घेरने न आ जाए फिर हम कुछ नहीं कर पाएंगे'।


Popular posts
लाल टापू के नाम से विख्यात रहे धोद विधानसभा क्षेत्र की पंचायत समिति मे भाजपा का प्रधान बन सकता है।
इमेज
एआईएमआईएम की आहट से राजस्थान कांग्रेस मे हलचल तेज। - सत्ता की बजाय संगठन मे मुस्लिम का प्रतिनिधित्व बढाने की चर्चा।
नारायण बारेठ को सूचना आयुक्त बनाने की मुख्यमंत्री गहलोत के फैसले की चारो तरफ तारीफ हो रही है।
इमेज
ग्रैटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन चुनाव मे टीआरएस को बडा नुकसान व भाजपा को बडा फायदा।
"हुनर हाट", "वोकल फॉर लोकल" थीम के साथ उत्तर प्रदेश के नुमाइश ग्राउंड, रामपुर में 18 से 27 दिसंबर, 2020 और शिल्प ग्राम, लखनऊ में 23 से 31 जनवरी 2021 को आयोजित होगा : मुख्तार अब्बास नकवी
इमेज