सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राज्यसभा चुनाव के बहाने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक तीर से अनेक शिकार करने मे कामयाब रहे।

 
जयपुर।
              राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा सरकारी स्तर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट समर्थकों की बढती सक्रियता व उनमे गहलोत के कामकाज के तरीकों से पनपते मुखर असंतोष को दबाने के लिये अचानक राज्यसभा चुनाव के बहाने भाजपा पर उनकी चूनी हुई सरकार को अस्थिर करने के लिये विधायकों को प्रलोभन देकर पाला बदलवाने का आरोप लगाने के साथ सभी कांग्रेस व समर्थक विधायकों को मुख्यमंत्री निवास पर बैठक के बहाने बूलाकर सीधे उनको वहीं से एक होटल मे ठहरा कर उनकी कड़ी बाड़ेबंदी करने पर प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट द्वारा यह कहने के बाद कि उनको किसी भी विधायक ने उन्हें प्रभोलन देने की बात नही बताने की ज्योहीं कहा तो लगा कि दाल मे कुछ काला जरुर है। लेकिन तब तक मुख्यमंत्री गहलोत अपना खेल , खेल चुके थे।
              मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा कांग्रेस व समर्थक निर्दलीय विधायकों की बाड़ाबंदी करने के साथ साथ भाजपा नेताओं द्वारा विधायकों को प्रभोलन देकर कांग्रेस से तोड़कर अपनी तरफ खींचकर राज्यसभा मे क्रोस वोटिंग के अलावा कर्नाटक-मध्यप्रदेश व गुजरात की तरह पाला बदलवाने की कोशिश का खुला आरोप लगाने से एक तरफ प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट व उनके समर्थक विधायकों को सदिग्ध स्थिति की तरफ धकेला वही हमलावर भाजपा को घेरने पर भाजपा नेता व पायलट समर्थक बचाव की मुद्रा मे आ गये। गहलोत अपने खास विधायक व मुख्य सचेतक महेश जोशी द्वारा राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो व एसओजी मे शिकायत दर्ज करवाने के बाद जांच मे क्या निकल कर आयेगा यह अलग बात है। लेकिन हवाला कारोबारियों के अलावा भाजपा की मदद करने वाले व्यापारीक घराने व राजस्थान के धन्ना सेठो मे उक्त दर्ज शिकायतो के बाद मन मे डर जरूर बैठ गया है कि कभी जांच की जद मे वो व उनका कारोबार नही आ जये वरना उनको काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। शिकायत के बाद बताते है कि उक्त तरह के लोग भाजपा नेताओं से सम्पर्क करने से कोसो दूर भागने लगे है।
            हालांकि मुख्यमंत्री द्वारा विधायको की बाड़ाबंदी करने के खिलाफ मंत्री रमेश मीणा व निर्दलीय विधायक लक्ष्मण मीणा, पूर्व मंत्री व विधायक भरतसिंह सहित अनेको ने सवाल भी खड़े किये। लेकिन अशोक गहलोत ने कोराना काल मे भी मंत्री व विधायकों को उनकी पसंद अनुसार सूख-सुविधाओं वाली होटल मेरियट मे अपनी पूर्व नियोजित योजना के तहत बाड़ाबंदी जारी रखकर दिल्ली मे मोजूद पार्टी हाईकमान को यह समझाने मे कामयाब रहे है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री के तौर पर केवल मात्र वोही भाजपा का मुकाबला कर सकते है। भाजपा की सरकार गिराने के सपनो को चकनाचूर करने का मादा केवल उन्हीं मे है। कांग्रेस के दोनो राज्यसभा उम्मीदवारों की जीत मे ना पहले किसी तरह का शंसय था ओर ना बाड़ाबंदी के बाद है। लेकिन विधायकों की बाड़ाबंदी करने के बाद गहलोत ने अनेक राजनीतिक समीकरण अपने पक्ष मे जरुर कर लिये है।
           1998 मे अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री बनने के बाद से लेकर अब तक केवल सचिन पायलट मात्र ऐसे प्रदेश अध्यक्ष है जिनको बनाने मे उनकी मंजूरी की जरूरत नही पड़ी ओर नाही अभी तक वो उनको हटा पाये है। जबकि पायलट के अलावा 1998 के बाद बनने वाले सभी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के लिये सीधे तौर पर या पर्दे के पीछे से गहलोत की मंजूरी रही है। ओर गहलोत  जब चाहा तब उन्हें पद से हटवाने मे कामयाब रहे है। पायलट की राजनीति की शुरुआत दिल्ली से होने के साथ साथ ऊपर गहरी राजनीतिक जड़े कायम है। जबकि पायलट के अलावा अन्य सभी बने प्रदेशाध्यक्षो की जड़े राजस्थान के मात्र एक विधानसभा या इससे अधिक जिला स्तर पर ही कायम थी। इसलिए उनकी जड़ें उखाड़ने मे कोई खास मसक्कत नही करनी पड़ी। तभी तो गहलोत अपनी कोशिशों से पायलट को मुख्यमंत्री बनने से रोक तो जरूर पाये लेकिन लाख जतन करके उनको अध्यक्ष पद से हटवा नही पा रहे है। पायलट आज भी उप मुख्यमंत्री के अलावा अध्यक्ष पद पर विराजमान है।
            जादूगर के बेटे व स्वयं जादूगरी करने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को राजनीति का जादूगर भी कहा जाता है। चाहे वास्तव मे धरातल पर कुछ भी घटित नही हुवा हो लेकिन राज्यसभा चुनाव के बहाने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक जादूगर की तरह बहुत कुछ घटित होते दिखाकर राजनीतिक माहोल को कोराना के डर व संन्नाटे मे हाईट देकर काफी कुछ अपने पक्ष मे कर लिया है। अब वो अपनी पसंद से राज्यसभा चुनाव के तूरंत बाद राजनीतिक नियुक्तियों का पिटारा खोलने के अलावा मंत्रीमंडल का विस्तार व बदलाव आसानी से कर पायेगे। एक तरह से पीछले दस दिन के राजनीतिक माहोल मे गरमाहट लाकर मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने आपके लिए फ्री हेण्ड पा लिया है।
                 विधानसभा चुनाव मे अशोक गहलोत ने अपने समर्थकों को टिकट दिलवाने की भरसक कोशिशे की। अनेक समर्थकों को जब टिकट नही मिल पाई तो उनमे से अधीकांश लोगो ने बगावती तेवर अपनाते हुये निर्दलीय व कुछ बसपा की टिकट पर चुनाव लड़ गये। बताते है कि राजस्थान मे मोजूद तेराह निर्दलीय विधायकों मे से दो भाजपा की पृष्ठभूमि के व ग्यारह कांग्रेस पृष्ठभूमि के है। उन ग्यारह मे से दस विधायक अशोक गहलोत के कट्टर समर्थक बताये जाते है। वही बसपा के निशान पर जीते विधायक राजेन्द्र गुडा तो अपने आपको गहलोत के खास तोर पर समर्थक बताने के अलावा गहलोत को ही अपना नेता बताते है। बसपा के सभी छ विधायकों का कांग्रेस मे विलय करवाने मे विधायक गुडा की ही गहरी भूमिका राजनीतिक हलको मे मानी जा रही है। इसी तरह गहलोत के अन्य कट्टर समर्थक सुभाष गर्ग को कांग्रेस से टिकट नही मिलता नजर आया तो वो लोकदल की टिकट समझोता दलो के बंटवारे के तहत ले आये ओर विधायक बनकर आज वो गहलोत सरकार मे मंत्री है।
                 कुल मिलाकर यह है कि राजनीति के जादूगर के तौर पर पहचाने जाने वालै मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को विपरीत परिस्थितियों मे भी बदले माहोल को अपने पक्ष मे करके गेंद अपने पाले मे लाने का माहिर माना जाता है। अभी राज्यसभा चुनाव के बहाने भी उनकी कारगर रही रणनीति के कारण विरोधियों को मुहं की खानी पड़ी है। कांग्रेस के दोनो राज्यसभा उम्मीदवारो का बडे मत अंतराल से चुनाव जीतना तय है। लेकिन चुनाव के बहाने रची योजना से मुख्यमंत्री ने एक तीर से कई शिकार करके सबको चोंका दिया है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रभारी महामंत्री अजय माकन के राजस्थान के फीडबैक कार्यक्रम मे पीसीसी सदस्य शरीफ की आवाज से कांग्रेस  हलके मे हड़कंप।

  जयपुर।             राजस्थान के नव मनोनीत प्रभारी कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री अजय माकन द्वारा प्रदेश के अलग अलग सम्भाग के फीडबैक कार्यक्रम के तहत 10-सितंबर को जयपुर सम्भाग के जिलेवार फीडबैक लेने के सिलसिले मे सीकर जिले के नेताओं व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिये जाते समय पीसीसी सदस्य मोहम्मद शरीफ द्वारा मुस्लिम समुदाय के सम्बन्धित सवाल खड़े करने के साथ माकन को दिये गये पार्टी हित मे उनके सुझावों के बाद वायरल उनके वीडियो से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे हड़कंप मचा हुवा है।                    कांग्रेस कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने प्रभारी महामंत्री अजय माकन, अचानक बने प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा व प्रभारी सचिव एवं अन्य सीनियर नेताओं की मोजूदगी मे कहा कि मुस्लिम समुदाय चुनावो के समय बडी तादाद मे कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करके कांग्रेस सरकार के गठन मे अहम किरदार अदा करता है। लेकिन सरकार बनने के बाद उन्हे सत्ता मे उचित हिस्सेदारी नही मिलती है। प्रदेश मे कांग्रेस के नो मुस्लिम विधायक होने के बावजूद केवल मात्र एक विधायक शाले मोहम्मद को मंत्री बनाकर उन्हें अल्पसंख्यक मंत्रालय तक सीमित करके र

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि