सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान मे कायमखानी राजनेता अपने राजनीतिक आकाओ का विश्वास दुबारा जीतने मे कमजोर साबित रहे !


जयपुर।
               पूर्व मंत्री व भाजपा नेता यूनुस खान को छोड़कर बाकी अधीकांश कायमखानी राजनेता अपने राजनैतिक आकाओ का विश्वास जीतकर दुबारा पद पाने मे नाकामयाब रहे है। जबकि इसके उलट जनता ने काफी नेताओं कै फिर से विधायक व सांसद बनने मे उनका पुरा साथ दिया है। तत्कालीन डीडवाना भाजपा विधायक यूनुस खां भाजपा की राजे सरकार मे अपने राजनैतिक आका का विश्वास पाकर दुबारा मंत्रीमण्डल मे मंत्री पद पाया था। लेकिन उनके अलावा मरहूम रमजान खां राजस्थान राज्य मंत्रीमंडल मे एवं मरहूम केप्टेन अय्यूब का केन्द्रीय मंत्रीमंडल मे एक एक दफा ही मंत्री बन पाये है। जबकि जनता ने उक्त तोनो नेताओं के साथ मरहूम आलम अली खा व भंवरु खा के एक से अधिक दफा विधायक या फिर सांसद का चुनाव जीतवाया है।
             अपने राजनैतिक आकाओं के विश्वास की ताकत के बल पर राजनीतिक नियुक्तियों को पाने वाले 1998-2003 की गहलोत सरकार मे डा.निजाम खान ने राजस्थान अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष पद पाया था। लेकिन उसके बाद दुबारा उस पद पर या उसके अन्य समानांतर पद पर मनोनीत नही हो पाये है। तत्तकालीन समय मे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के काफी करीबी लोगो की गिनती मे डा. निजाम खान शुमार होते थे। इसी तरह कांग्रेस सरकार के समय राजस्थान वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष लियाकत अली खान बने थे। जो दुबारा उक्त पद के समानांतर पद पर अपने जीवनकाल मे मनोनीत नही हो पाये थे। इसके अलावा राजनीतिक आकाओ के विश्वास पाने पर भाजपा सरकार मे सलावत खां चोलूखा राजस्थान वक्फ बोर्ड व हिदायत खां धोलीया मदरसा बोर्ड के एक एक दफा अध्यक्ष बन पाये। लेकिन उक्त पदो पर या उनके समांतार पदो पर अभी तक दोनो नेता मनोनीत नही हो पाये है। मौजूदा अशोक गहलोत सरकार मे गहलोत के विश्वास के कारण खानू खां 16 महिनो के लिये वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष बने है जिनके भविष्य का अभी इंतजार होगा।
             


           उक्त राजनीतिक नियुक्तियों के अलावा डा. हबीब खां गोरान IPS को गहलोत सरकार के समय पहले राजस्थान लोकसेवा आयोग का सदस्य व फिर चेयरमैन बनाया गया था। इसी तरह गहलोत सरकार मे ही जस्टिस भंवरु खां को उनकी सेवानिवृत्ति के बाद राजस्थान राज्य पुलिस जवाबदेह समिति का अध्यक्ष मनोनीत किया गया था। लेकिन दोनो ही उच्च अधिकारियों को उसके बाद अभी तक उक्त पदो के समानांतर अन्य पदो पर दुबारा मनोनीत नही किया गया है।
             


           कुल मिलाकर यह है कि कायमखानी नेताओं को अपने आप पर व अपनी कार्यशैली पर मंथन करना चाहिए कि अपने राजनैतिक आकाओ के विश्वास के कारण पूर्व मंत्री यूनूस खां को छोड़कर बाकी नेता एक दफा तो राजनीतिक नियुक्ति या मंत्रीमंडल मे जगह जैसे तैसे पाने मे सफल हो जाते है। लेकिन जल्द ही उनसे उन पर से राजनैतिक आकाओ का  विश्वास डगमगाने लगता है या फिर वो स्वयं फाल चूकने वाली कहावत को सिद्ध करने पर उतारू हो जाते है। उक्त सवालो का कायमखानी नेताओं को स्वयं जवाब तलासना चाहिए। जबकि जनता ने आलम अली खा, भवरु खां , रमजान खा व युनूस खां को एक से अधिक दफा विधायक व केप्टेन अय्यूब खा को एक से अधिक दफा सांसद का चुनाव जीताकर विधानसभा व संसद भेजा है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रभारी महामंत्री अजय माकन के राजस्थान के फीडबैक कार्यक्रम मे पीसीसी सदस्य शरीफ की आवाज से कांग्रेस  हलके मे हड़कंप।

  जयपुर।             राजस्थान के नव मनोनीत प्रभारी कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री अजय माकन द्वारा प्रदेश के अलग अलग सम्भाग के फीडबैक कार्यक्रम के तहत 10-सितंबर को जयपुर सम्भाग के जिलेवार फीडबैक लेने के सिलसिले मे सीकर जिले के नेताओं व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिये जाते समय पीसीसी सदस्य मोहम्मद शरीफ द्वारा मुस्लिम समुदाय के सम्बन्धित सवाल खड़े करने के साथ माकन को दिये गये पार्टी हित मे उनके सुझावों के बाद वायरल उनके वीडियो से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे हड़कंप मचा हुवा है।                    कांग्रेस कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने प्रभारी महामंत्री अजय माकन, अचानक बने प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा व प्रभारी सचिव एवं अन्य सीनियर नेताओं की मोजूदगी मे कहा कि मुस्लिम समुदाय चुनावो के समय बडी तादाद मे कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करके कांग्रेस सरकार के गठन मे अहम किरदार अदा करता है। लेकिन सरकार बनने के बाद उन्हे सत्ता मे उचित हिस्सेदारी नही मिलती है। प्रदेश मे कांग्रेस के नो मुस्लिम विधायक होने के बावजूद केवल मात्र एक विधायक शाले मोहम्मद को मंत्री बनाकर उन्हें अल्पसंख्यक मंत्रालय तक सीमित करके र

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि