सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भरतपुर रेंज के डीआईजी (कार्यवाहक आईजी) रहे लक्ष्मन गौड़ को लेकर ऐसीबी जांच मे बहुत कुछ निकल कर आ सकता है।

 
जयपुर।   
              राजस्थान व उत्तरप्रदेश की सीमावर्ती भरतपुर रेंज क्षेत्र मे बजरी-दारु सहित अनेक तरह के माफियो से मंधली बंदी लेने की आवाज अक्सर उठती रही है। इसी तरह के भ्रष्टाचार के उठते बादलो के मध्य राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को डीआईजी (कार्यवाहक आईजी) लक्ष्मन गौड़ के नाम से भरतपुर के उधोगनगर थानेदार चंद्रप्रकाश से पांच लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथो भाजपा नेता प्रमोद शर्मा को गिरफ्तार की मिली सफलता को बडी उपलब्धि माना जा रहा है। 
           दलाल प्रमोद शर्मा के ऐसीबी द्वारा पकड़े जाने के बाद भरतपुर डीआईजी लक्ष्मन गौड़ को सरकार ने ऐपीओ कर दिया है। एवं गोड़ भरतपुर से रिलीव भी हो चुके है। दलाल शर्मा के पकड़े जाने के बाद ऐसीबी टीम पृथ्वीराज मीणा के नेतृत्व मे जांच करने जयपुर से भरतपुर पहुंच कर जाचं शुरु करने से रेंज क्षेत्र मे हड़कंप मचा हुवा है। राजस्थान मे इमानदाराना सख्त कार्यवाही करने वाले व भ्रष्टाचार के सख्त विरोधी ऐसीबी के एडीसनल डीजी एम एन दिनेश का उक्त प्रकरण मे आज रेंज के धोलपुर जिले मे पहुंचने के बाद लगने लगा है कि ऐसीबी की जांच का दायरा विस्तृत हो सकता है। उक्त प्रकरण मे ऐसीबी जांच मे बहुत कुछ निकल कर आ सकने की उम्मीद लगाई जा रही है।
            हालांकि उधोगनगर थानेदार चंद्रप्रकाश को दलाल प्रमोद शर्मा द्वारा डीआईजी गौड़ के निवास से फोन करके धमकाने व पैसो की मांग करके बदले मे डीआईजी गोड़ का संरक्षण दिलवाने की कहने के बाद थानेदार द्वारा उक्त मामले की ऐसीबी मे शिकायत करने पर ऐसीबी ने दलाल को थानेदार से पांच लाख की रिश्वत लेते पकड़ा था। गौड़ के लिये रेंज के पुलिस अधिकारियों से पैसा जमा करने के लिये प्रमोद शर्मा के साथ अन्य लोग जो जुड़े हुये थे। जिनका भी जांच मे पता चलेगा। दलालो द्वारा गौड़ के लिये पैसै बटोरने का गोरखधंधा भरतपुर के अतिरिक्त रेंज के अन्य जिलो मे भी फैला होने की चर्चा है। वही यह पुलिस अधिकारियों के अलावा बजरी-दारु व अन्य माफियाओं तक भी बताते है।
        भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के एडीसनल डीजी एम एन दिनेश की देखरेख मे भरतपुर डीआईजी गौड़ के नाम पर दलाल द्वारा पैसा वसूलने को लेकर की गई ट्रेप की कार्यवाही के बाद चल रही ऐसीबी जांच के विस्तृत होते दिखने से लगने लगा है कि भ्रष्टाचार को लेकर की जा रही उक्त जांच मे बहुत कुछ निकल कर आ सकता है। जिसमे डीआईजी गौड़ के अलावा अनेक अधिकारी व राजनेताओं की भूमिका पर अनेक सवाल खड़े हो सकते है।
          डीआईजी रिश्वत प्रकरण को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत काफी गम्भीर नजर आ रहे है। वही कांग्रेस विधायक गिरिराज मलिंगा ने डीआईजी गौड़ को गिरफ्तार करने की मांग की है। विधायक मलिंगा के अलावा दूसरे विधायकों ने भी उक्त प्रकरण को लेकर भ्रष्टाचार के मामले पर पत्र लिखा है। राजस्थान के ऐसीबी मे भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी एम एन दिनेश की तैनाती के बाद ब्यूरो ने काफी भ्रष्टाचारियों को रंगे हाथो पकड़ा है। अनेक भ्रस्टाचार के रेकेट को तोड़ा है। लेकिन फिर भी भ्रष्टाचार रात-दिन बढते जा रहा है। जिन अधिकारियों व कार्मिको की तनख्वाह से आसानी से उनका गुजारा चल सकता है। लेकिन उनके कारण उनकी व उनके परिवारजनो की तेजी से बढती जायदाद व उनके रहन सहन के स्तर को देखकर तो लगता है कि यहां टाटा-बिड़ला की तो क्या आज के रिलायंस व अडानी ग्रूप से सम्बंध है। 
     मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पीछले दिनों कहा कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार के मुद्दे पर जीरो टोलरेंस पर काम कर रही है। जानकारी अनुसार गहलोत सरकार बनने के बाद प्रदेश मे भ्रस्टाचार के कुल 552 से अधिक मामले दर्ज हो चुके है। जिनमे 382 के करीब ट्रैप के मामले, व 30 के करीब आय से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने के मामले है। वहीं 160 लोगो को भ्रष्टाचार के मामले मे कोर्ट से सजा मिल चुकी है। उम्मीद करनी चाहिये की अगले कुछ दिनो मे ऐसीबी के हाथो ओर अधिक भ्रष्टाचारी पकड़ मे आयेंगे।
         राजस्थान मे बडे स्तर पर चर्चित हो चुके डीआईजी गौड़ भ्रष्टाचार प्रकरण की जांच कर्तव्यनिष्ठ व इमानदाराना कार्यवाही करने के लिये विख्यात भ्रष्टाचार के सख्त विरोधी एडीसनल डीजी एम एन दिनेश की देखरेख मे जांच होने से लगता है भ्रष्टाचारी अब बच नही पायेंगे।ज्यो ज्यो जांच आगे बढेगी त्यो त्यो भ्रष्टाचार की परते खुलने लगेगी। जांच मे डीआईजी गोड़ व दलाल के अलावा भ्रष्टाचार की आग अन्य अधिकारियों व राजनेताओं को भी लपेट मे ले सकती है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह