मनरेगा मजदूरों को घर बैठे मिलना चाहिए वेतन-गहलोत


जयपुर:  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि लाकडाउन में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना( मनरेगा) के मजदूरों को घर बैठे वेतन मिलना चाहिए।
    श्री गहलोत ने मीडिया से कहा कि केन्द्र सरकार ने उद्योगपतियों को लाकडाउन में श्रमिकों को घर बैठे तनख्वाह देने की बात कही है, यह सही है। श्रमिकों की तरह मनरेगा के मजदूरों को भी घर बैठे तनख्वाह मिलनी चाहिए, क्योंकि लाकडाउन में काम बंद होने से लोग घर बैठे हैं।
  उन्होंने कहा कि राज्य में मनरेगा के काम में प्रगति हुई है और इसके तहत 12 लाख लोगों को रोजगार मिल रहा हैं और हमारा इसे 30 लाख तक पहुंचाने का इरादा है।
    उन्होंने कहा कि राज्य में सभी लोग मिलकर कोरोना से लड़ रहे हैं। सरकार भी सतर्क एवं मुस्तैद हैं और ज्यादा से ज्यादा टेस्ट किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि आज राज्य में प्रतिदिन दस हजार लोगों की जांचे की जाने लगी है और इसे 25 हजार तक बढ़ाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि अभी पता नहीं है कि कोरोना कब खत्म होगा। इसलिए सरकार ने पूरी तैयारी कर रखी है। उन्होंने कहा कि लाकडाउन के बाद भी मास्क लगाना लम्बे समय तक चलेगा।


टिप्पणियाँ
Popular posts
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
लखनऊ : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के 51 वे जन्म दिवस पर NSUI के आदित्य चौधरी द्वारा अनाथालय में अनाथ बच्चों को आवश्यक वस्तुएँ का वितरण किया गया
चित्र
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र
युवाओं की तरफ एक दफा फिर से झांकती राजस्थान की कायमखानी बिरादरी।
चित्र