लोकडाऊन मे आखिर कार मजदूरों को सोनिया गांधी का मिला साथ ।


जयपुर।
               कोविड-19 को लेकर बीना किसी होमवर्क किये मात्र चार घंटे पहले भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश भर मे लोकडाऊन लागू करने की घोषणा के बाद देश के पूरी तरह ठहर जाने से सबसे अधिक कमजोर माने जाने वाले दिहाड़ी मजदूरों के सामने दिक्कतों का पहाड़ सा आ खड़ा होने से उनके सामने ईधर कुआं तो ऊधर खाई वाली स्थिति पैदा हो गई थी।
               अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प के भारत भ्रमण पर सो करोड़ रुपये खर्च करने वाली मोदी सरकार ने लोकडाऊन की घोषणा करने से पहले प्रवासियों व मजदूरों को अपने अपने घर जाने का विकल्प नही देने के कारण उपजी विकट परिस्थितियों के चलते लोकडाऊन के बावजूद दिल्ली-मुम्बई व सूरत सहित अनेक जगह उनको घर जाने के लिये हजारों मजदूरों के सड़क पर आना पड़ा ओर लाखो मजदूर पैदल ही घर की तरफ देश के अलग अलग कोनो से रवाना होने को मजबूर हुये। मजदूरों के भूख से तड़फने व पैदल घर की तरफ जाते समय सड़क दुर्घटना मे मारे जाने के समाचार भी सूर्खियां बनने लगे।
   



         


 लोकडाऊन-2 के आखिरी समय मे राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की केंद्र सरकार से अपील करने के बाद मजदूरों को रैल से उनके गावं भेजने की मंजूरी के बाद मजदूरों को उनके राज्यों भेजना शूरु करने पर रैल विभाग ने जब उन मजदूरों से किराया वसूल करने के खिलाफ मजदूरों की आवाज गुंजने पर कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के हाथ का साथ मजदूरों को मिला। सोनिया गांधी ने कहां कि भारत भर मे लोकडाऊन मे मजदूरों के उनके घर जाने के लिये रैल किया कांग्रेस पार्टी वहन करेगी। जबकि इससे पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बडी तादाद मे मजदूरों को मुफ्त मे अन्य राज्यों की सीमाओं तक पहुंचा चुके थे। ओर अब रैल से मजदूरों को उनके राज्यो मे पहुंचाने मे लगे हुये है।
            हालांकि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने मजदूरों को रेल द्वारा उनके राज्य पहुंचाने के लिये उनसे किराया वसूलने पर केन्द्र सरकार पर जोरदार हमला बोलते हुये कहा है कि अमेरिका प्रधानमंत्री ट्रम्प की भारत यात्रा पर सो करोड़ खर्च करने वाली सरकार को मजदूरों से किराया लेना ठीक नही।
             अपनी सास व पति को देश पर शहीद करने वाली सोनिया गांधी के दिल को जब मजदूरों के दर्द का अहसास हुवा तो वो खूलकर उनकी मदद करने को आगे आकर कहा कि उनका किराया कांग्रेस पार्टी वहन करेगी। दो दफा प्रधानमंत्री पद को अस्वीकार कर सत्ता सूख से किनारा करके जन नेता के तौर पर विख्यात सोनिया गांधी के मजदूरों के दर्द को समझकर उनकी मदद को आने से उनके प्रशंसकों की तादाद मे भारी इजाफा हुवा है। वही उनको एक सच्चा जन नेता के तोर पर देखा जा रहा है।


Popular posts
लाल टापू के नाम से विख्यात रहे धोद विधानसभा क्षेत्र की पंचायत समिति मे भाजपा का प्रधान बन सकता है।
इमेज
एआईएमआईएम की आहट से राजस्थान कांग्रेस मे हलचल तेज। - सत्ता की बजाय संगठन मे मुस्लिम का प्रतिनिधित्व बढाने की चर्चा।
नारायण बारेठ को सूचना आयुक्त बनाने की मुख्यमंत्री गहलोत के फैसले की चारो तरफ तारीफ हो रही है।
इमेज
ग्रैटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन चुनाव मे टीआरएस को बडा नुकसान व भाजपा को बडा फायदा।
"हुनर हाट", "वोकल फॉर लोकल" थीम के साथ उत्तर प्रदेश के नुमाइश ग्राउंड, रामपुर में 18 से 27 दिसंबर, 2020 और शिल्प ग्राम, लखनऊ में 23 से 31 जनवरी 2021 को आयोजित होगा : मुख्तार अब्बास नकवी
इमेज