सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोरोना से लड़ाई को सियासी स्वार्थों के लिए कमजोर कर रहे हैं कुछ लोग : योगी

लखनऊ, :: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए मंगलवार को कहा कि देश में कोरोना संक्रमण के खिलाफ लड़ाई मजबूती से आगे बढ़ रही है लेकिन कुछ लोग अपने निहित स्वार्थों के लिए इसे कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं।


योगी ने यहां एक बयान में कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ देश की लड़ाई जब मजबूती से आगे बढ़ रही है तब बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो आज भी राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं।


उन्होंने कहा "यह अत्यंत दुखद है कि भारत की इस मजबूत लड़ाई को कुछ लोग अपने निहित राजनीतिक स्वार्थों के लिए कमजोर करने का प्रयास कर रहे हैं।" मुख्यमंत्री ने कहा "पहली बार देश के अंदर आपदा के समय में गरीबों, मजदूरों और महिलाओं के लिए एक बड़ा राहत पैकेज प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के रूप में घोषित हुआ। जो लोग अपने शासनकाल में गरीबों के लिए कल्याणकारी योजनाओं का पैसा हड़प जाते थे, आज जब पैसा सीधे उन गरीबों के खाते में पहुंच रहा है तो उनकी बौखलाहट स्पष्ट दिखाई देती है।" मालूम हो कि लॉक डाउन के दौरान विपक्षी दल राज्य सरकार पर तमाम तरह की अव्यवस्थाओं के आरोप लगाकर लगातार निशाना साध रहे हैं। विधानसभा में विपक्ष के नेता रामगोविंद चौधरी ने सोमवार को मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले छुपाए जाने और ऐसा करने के लिए अधिकारियों द्वारा मृतकों के चुपचाप अंतिम संस्कार कराए जाने के आरोप लगाये थे।


योगी ने कहा कि यह दुर्भाग्य है कि जब सरकार बिना किसी भेदभाव के हर एक तबके के साथ खड़ी है, तब कुछ विपक्षी दल केवल राजनीतिक रूप से हर एक मुद्दे में अनावश्यक राजनीति करने का कुत्सित प्रयास कर रहे हैं।


उन्होंने कहा कि यह राजनीतिक गरिमा के प्रतिकूल अभद्र आचरण है। जनता सब कुछ जान रही है। इन लोगों के इस नकारात्मक रवैया का जवाब जनता स्वयं देगी।


मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा घोषित गरीब कल्याण पैकेज के विषय में अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो इस पैकेज में दो करोड़ 34 लाख श्रमिकों को दो-दो हजार रुपये दिये जा चुके हैं। इसके अलावा तीन करोड़ 26 लाख महिलाओं के जनधन खाते में कुल 3,260 करोड़ रुपए डाले जा चुके हैं। एक करोड़ 45 लाख परिवारों को नि:शुल्क रसोई गैस के सिलेंडर उपलब्ध कराए गए हैं। करीब 18 करोड़ गरीबों को दो बार का खाद्यान्न वितरित हो चुका है और तीसरी बार का खाद्यान्न उन्हें वर्तमान में दिया जा रहा है।


उन्होंने बताया कि प्रदेश में सरकार निराश्रित श्रमिकों, गरीबों और रोजाना कमाकर खाने वाले 30 लाख से अधिक लोगों को एक-एक हजार रुपये भरण-पोषण भत्ता दे रही है। उन्हें निशुल्क खाद्यान्न भी उपलब्ध करा रही है। प्रदेश में 14 लाख से ज्यादा मनरेगा श्रमिक उत्तर प्रदेश में काम कर रहे हैं। उन्हें रोजाना रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। वृद्धावस्था पेंशन, निराश्रित महिला पेंशन, दिव्यांग पेंशन इत्यादि से 88 लाख से अधिक लोगों को दो 2 महीने की पेंशन की राशि एडवांस दी जा चुकी है।


योगी ने कहा कि प्रदेश में जितने भी श्रमिक आये हैं उनके आवागमन के लिए, चाहे उन्हें पृथक-वास केंद्रों में ले जाना हो, आश्रय स्थलों में ले जाना हो या फिर उन्हें वहां से घर पर पृथक-वास में ले जाना हो, उन्हें खाद्यान्न का पैकेट देकर ही भेजा जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में 50,000 से अधिक लेवल वन, टू, थ्री के बेड तैयार किये जा चुके हैं।


उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार अपने यहां अब तक साढ़े छह लाख से अधिक प्रवासी कामगारों और मजदूरों को ला चुकी है। पहले चरण में 27, 28 और 29 मार्च को छह लाख से अधिक प्रवासी कामगार और श्रमिक उत्तर प्रदेश आए हैं। उन्हें सफलतापूर्वक उनके घरों तक पहुंचाने और उनके उपचार और खाद्यान्न की व्यवस्था उपलब्ध कराई गई थी।


योगी ने कहा कि दूसरे चरण में पिछले 3 दिन के दौरान 50,000 से अधिक प्रवासी श्रमिक उत्तर प्रदेश में आए हैं। इन सब को भी पृथक-वास केंद्र ले जाकर उनके भोजन इत्यादि की व्यवस्था की गई और आवश्यक स्वास्थ्य परीक्षण के बाद शासकीय वाहन से ही घर पर पृथक-वास के लिए पहुंचाया गया है। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह