स्कूलों में रखा राशन अब लिया जा सकेगा काम - शिक्षा राज्य मंत्री डोटासरा ने ली अधिकारियों की बैठक


सीकर।
               सीकर जिले में अचानक सामने आए कोरोना पॉजिटिव मामलों ने सभी की चिन्ता बढ़ा दी है। शुक्रवार को शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने जिलास्तरीय अधिकारियों की कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक ली। इसमें शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि स्कूलों में रखा मिड-डे-मील का राशन आवश्यकता होने पर काम में लिया जा सकता है। इस पर जिला कलक्टर ने जल्द आदेश जारी करने की बात कही। शिक्षा राज्य मंत्री ने सीकर जिले के हालातों की चर्चा करते हुए पूरी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि इस समय हमारा दायित्व है कि हम लोगों को डऱाने के बजाय घरों में रहकर हौसला रखने के लिए प्रेरित करें। बैठक में शिक्षा मंत्री ने कहा कि पशुधन को भी इस बीमारी से बचाने की दिशा में अभी कुछ कदम उठाने होंगे। 
                मंत्री डोटासरा ने लक्ष्मणगढ़ इलाके के हमीरपुरा गांव के 70 वर्षीय बुर्जुग की मौत के बाद रिपोर्ट पॉजिटिव आने के मामले को लेकर पूरी चर्चा की। बैठक में शिक्षा मंत्री ने स्कूलों में बने पलायन सेंटर, आईसालेशन सेंटर, क्वाराइनटेंन सेंटर, मास्क, सेनेटाइजर व राशन वितरण की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली। शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि सामाजिक संस्थाओं की ओर से भी इस जंग में पूरा साथ निभाया जा रहा है, यह अच्छी बात है। लेकिन राशन वितरण की फोटो व वीडियो वायरल करना गरीब परिवारों के साथ मजाक है, इसकी जिलेभर में गंभीरता से पालना होनी चाहिए। बैठक में रमजान के माह में रोजेदारों के लिए पर्याप्त इंतजाम करने के बारे में कई निर्देश दिए।
                बैठक में शिक्षा मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री व चिकित्सा मंत्री से सीकर में जांच लैब शुरू करने को लेकर बातचीत हो गई है, उपकरण भी यहां पहुंच गए है। इसलिए जल्द से जल्द जांच व्यवस्था शुरू कराई जाए, ताकि नमूनों की रिपोर्ट के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़े। बैठक में एडीएम जयप्रकाश नारायण, सीएमएचओ डॉ.अजय चौधरी, पीएमओ डॉ. अशोक चौधरी, डॉ. देवेन्द्र दाधीच आदि मौजूद रहे।


Popular posts
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
ग्रेटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन चुनाव मे कांग्रेसजन भाजपा के लिये सहायक बनते नजर आ रहे है। - भाजपा के दिग्गज नेता चुनाव प्रचार मे उतरे- प्रधानमंत्री मोदी मे प्रचार करेगे।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
इमेज
100 से ज्यादा लोगों को शादी में बुलाना पड़ा महंगा , लगा जुर्माना