सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सर्मथन मूल्य पर 1 मई से सरसों एवं चना की होगी खरीद , 782खरीद केन्द्र किए स्थापित


सीकर ।
               प्रमुख शासन सचिव सहकारिता एवं कृषि नरेश पाल गंगवार ने कहा कि राज्य में 1 मई से 782 खरीद केन्द्रों पर सरसों एवं चने की सर्मथन मूल्य पर खरीद शुरू की जाएगी। उन्होंने कहा कि पूर्व वर्षों के खरीद केन्द्रों की तुलना में दुगुने से अधिक केन्द्र स्थापित कर किसानों को अपने खेत के नजदीक उपज बेचान की व्यवस्था दी गई है। कोटा संभाग में 16 अप्रेल से जारी सर्मथन मूल्य पर 5500 से अधिक किसानों से 19 हजार 412 मैट्रिक टन की खरीद हो चुकी है। उन्होंने खरीद कार्य में लगे सभी अधिकारियों  एवं कार्मिकों की हौसला अफजाई की । गंगवार बुधवार को कृषि पंत भवन में सर्मथन मूल्य पर सरसों एवं चना की होने वाली खरीद के संबंध में जिला स्तर पर सहकारिता एवं कृषि के अधिकारियों को वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 90 दिनों तक होने वाली खरीद में 16.62 लाख मैट्रिक टन सरसों एवं चना की खरीद की जानी है। उन्होंने कोविड-19 की गाइड लाइन को ध्यान में रखते हुए खरीद प्रक्रिया को सुचारू रूप से संपादित करने के र्निदेश दिये। उन्होंने कहा कि 1 मई से पुनः पंजीयन भी प्रारंभ किया जा रहा है। अतः सामाजिक 
           दूरी का विशेष ध्यान रखें। 
प्रमुख शासन सचिव ने कहा कि किसानों से सीधी खरीद हेतु 136 मुख्य अनाज मंडियों में से 130 मंडियों, 296 गौण मंडियों में से 280 मंडियों ने अपना कार्य शुरू कर दिया है। 1426 कृषि प्रसंस्करण यूनिट को लाइसेंस जारी हो चुके है। जिसमें से 897 कार्य कर रहे है तथा 560 गौण मंडियां घोषित जीएसएस एवं केवीएसएस में से 220 ने भी कार्य शुरू कर दिया है। 
              उन्होंने निर्देश दिए कि कफ्र्यू क्षेत्र को छोडकर शेष क्षेत्र में समन्वय बनाकर किसानों से सीधी खरीद के लिए प्रोत्साहित किया जाए एवं अक्रियाशील गौण मंडियों को सक्रिय किया जाए। 
गंगवार ने कहा कि स्थानीय व्यापारियों को भी लाइसेंस दिए जाए। उन्होंने कहा कि खरीद की विकेन्द्रीकरण व्यवस्था से किसानों को फायदा मिलेगा एवं जीएसएस तथा केवीएसएस की आमदनी में बढोतरी होगी। उन्होंने र्निदेश दिए कि प्रोसेसिंग इकाइयों को सुविधा एवं मदद प्रदान करे ताकि किसानों को प्रतिस्पर्धात्तमक मूल्य पर सीधी खरीद का लाभ मिल सके। उन्होंने हिदायत दी कि किसानों के साथ ठगी नहीं होनी चाहिए। अतः किसानों को भी जागरूक करें। 
                   उन्होंने कहा कि सर्मथन मूल्य पर पहली बार स्थापित किये गये खरीद केन्द्रों पर विशेष फोकस करे ताकि सकारात्मक माहौल में खरीद हो सके। उन्होंने खरीद के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजर, केन्द्रों पर लाइनिंग एवं रिंग बनाने एवं मास्क के उपयोग करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि 1 लाख से अधिक किसानों को 250 करोड रूपये से अधिक का सहकारी फसली ऋण वितरित हो चुका है। उन्होंने निर्देश दिए कि फसली ऋण वितरण के दौरान जारी किये गये दिशा-निर्देशों का पालन करें। 
                प्रबंध निदेशक, राजफैड, सुषमा अरोडा ने कहा कि कोटा संभाग में किसानों को 37 करोड़ रूपये का भुगतान हो चुका है। उन्होेंने निर्देश दिए कि किसानों को 3 से 4 दिन में भुगतान हो सके इसके लिए ईडब्लूआर को शीघ्र भिजवायें। उन्होंने हैडलिंग एवं ट्रांसर्पोटेशन के टेण्डर पारर्दशिता से करने के निर्देश  दिए। उन्होंने कहा कि एक महीने तक की खरीद के लिए बारदाने की व्यवस्था हो चुकी है तथा भंडारण हेतु गोदामों की पर्याप्त  व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि 1 मई से खरीद के लिए किसानों को एसएमएस किये जा चुके है। उन्होंने आपसी समन्वय पर कार्य करने के निर्देश दिए। 
            कृषि विपणन बोर्ड के प्रबंध निदेशक, ताराचंद मीणा ने क्षेत्रीय अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश कि जिनको लाइसेंस जारी किये है वे धरातल पर कार्य करें। उन्होंने कहा कि प्रस्ताव आने पर और गौण मंडियां घोषित की जाएगी। उन्होंने केन्द्रों पर छाया - पानी एवं बिजली पर्याप्त व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए। अतिरिक्त रजिस्ट्रार प्रथम रश्मि गुप्ता ने कहा कि कस्टम हायरिंग सेन्टर एवं गोदाम निर्माण के लिए शीघ्र प्रस्ताव भिजवायें। अतिरिक्त रजिस्ट्रार द्वितीय जीएल स्वामी ने कहा कि गंगानगर जिले की गौण मंडी घोषित सहकारी समितियों ने अच्छा कार्य कर 85 हजार क्विटंल गेहूं खरीदा है। उन्होने मंडी नियमों के अनुरूप खरीद के निर्देश दिए है। वीसी के दौरान कृषि आयुक्त डॉ. ओमप्रकाश भी उपस्थित थे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह