राजस्थान में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा पचास के पार 


जयपुर 28 अप्रैल राजस्थान में कोरोना वायरस का कहर जारी है और इससे मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर पचास के पार हो गया है।
     चिकित्सा विभाग के अनुसार कोटा में इसके एक मरीज की और मौत हो जाने पर प्रदेश में इससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 51 पहुंच गई। इसमें सर्वाधिक 27 लोगों की मौत जयपुर में हुई हैं। जोधपुर एवं कोटा में छह-छह, भरतपुर, भीलवाड़ा एवं सीकर में दो-दो तथा अलवर, बीकानेर, नागौर एवं टोंक में एक-एक कोरोना मरीज की मौत हुई है। इससे मरने वालों में उत्तर प्रदेश के दो लोग भी शामिल हैं।
   राज्य में मंगलवार को 66 नये मामले सामने आने से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 2328 पहुंच गई।  चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में अब तक करीब 88 हजार सैम्पल की जांच की गई जो देश में सबसे ज्यादा है। राज्य में अब तक 766 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि 584 को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है।
     प्राप्त आंकड़ों के अनुसार राज्य की राजधानी जयपुर सहित सात जिलों में ही इसके मरीजों की संख्या ज्यादा सामने आ रही हैं। जिसमें जयपुर में सर्वाधिक 850, जोधपुर में 388, कोटा 184, अजमेर में 135, टोंक में 126, नागौर में 116 एवं भरतपुर में 110 मामले सामने आए हैं। हालांकि 244 मरीजों के ठीक होने से अब जयपुर में 584 मरीज रह गये हैं। 
      इसी तरह जोधपुर में 81 मरीज ठीक होने से 307, कोटा में 98 मरीजों के स्वस्थ होने से 86, टोंक में 35 के ठीक होने के बाद पाज़ीटिव मामलों की संख्या 91 रह गई है। 
     राज्य में सत्रह जिले ऐसे हैं जहां कोरोनावायरस के मरीजों की संख्या दो अंकों तक ही नहीं पहुंच पाई है। इनमें हनुमानगढ़ में नौ, चित्तौड़गढ़ एवं सवाईमाधोपुर में में आठ-आठ, धौलपुर में छह, भीलवाड़ा एवं जैसलमेर में पांच-पांच, सीकर में चार, अलवर, झुंझुनूं एवं उदयपुर में दो-दो तथा बाड़मेर, बीकानेर, चुरू, डूंगरपुर, करौली, पाली एवं राजसमंद में एक-एक मरीज हैं।
   इसके अलावा दौसा जिले में 14, झालावाड़ में 24 एवं बांसवाड़ा में 31 कोरोनावायरस के मरीज हैं।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र