राजस्थान में कई जिलों में कोरोना दम तोड़ने लगा

 


जयपुर:  राजस्थान के अठाइस जिलों में फैल चुका कोरोना वायरस राज्य सरकार की सतर्कता एवं कोरोना योद्धाओं के त्याग एवं साहस के आगे अब कई जिलों में दम तोड़ता नजर आ रहा है।
      राज्य के प्रतापगढ़ एवं पाली जिले में सभी मरीज ठीक हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है तथा उदयपुर में सभी मरीज ठीक हो गए जबकि चौदह जिले ऐसे हैं जहां अभी मौजूदा मरीजों का आंकड़ा दो अंकों तक ही नहीं है, इनमें नौ जिले ऐसे हैं जहां मरीज पांच से भी कम रह गये हैं। प्रदेश में श्रीगंगानगर, जालौर, सिरोही, बूंदी एवं बारां पांच जिले ऐसे हैं जहां कोरोना वायरस अभी दस्तक ही नहीं दे पाया है।
    चिकित्सा विभाग के अनुसार प्रतापगढ़ एवं पाली में में अब तक इसके दो-दो मरीज सामने आये और चारों को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी हैं। उदयपुर में चार मरीज थे, चारों स्वस्थ हो चुके हैं और शीघ्र अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है। 
     इसी तरह डूंगरपुर में सामने आये छह मरीजों में पांच ठीक हो चुके हैं और पांचों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई हैं। करौली जिले में तीन मरीजों में दो ठीक हो गए जबकि एक को छुट्टी मिल गई। सीमांत बाड़मेर जिले में दो मरीजों में एक ठीक हो चुका है। धौलपुर में तीन में से एक मरीज ठीक हो गया। सीकर में चार मरीज सामने आये, जिसमें एक के स्वस्थ होने पर उसे अस्पताल से छुट्टी मिल गई। अलवर में सात मरीजों में चार ठीक हो गए जबकि एक को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी हैं।
    इसी तरह राज्य में सबसे पहले होटस्पोट बनने के बाद जिस तरह कोरोना पर नियंत्रण पाने से देश एवं दुनिया में उदाहरण बने भीलवाड़ा में 25 मरीज ठीक हो चुके हैं उनमें 24 को अस्पताल से छुट्टी मिल गई। भीलवाड़ा में कई दिनों बाद पिछले दिनों एक ही दिन में पांच नए मरीज आने से कोरोना के मामलों की संख्या बढ़कर 33 पहुंच गई थी।
     चुरू में अब तक सामने आये 14 मरीजों में 11 स्वस्थ हो गये जिनमें नौ को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। हनुमानगढ़ में 11 मरीजों में दो के स्वस्थ होने पर उन्हें छुट्टी मिल गई। इसी तरह सीमांत जैसलमेर में अब तक सामने आये 34 मामलों में 26 मरीज ठीक हो चुके हैं और उनमें 23 को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। झालावाड़ में 30 मरीजों में 16 ठीक हो गए। झुंझुनूं में 42 मरीजों में 28 स्वस्थ हो चुके जिनमें 17 को छुट्टी मिल चुकी हैं। दौसा जिले में 21 मामले सामने आए जिसमें छह मरीज ठीक हो चुके है। बीकानेर में 37 मरीजों में से 32 ठीक हो गए और इन सभी को अस्पताल से छुट्टी भी मिल गई।
     इसके अलावा सवाईमाधोपुर में आठ, राजसमंद एवं चित्तौड़गढ़ में इसके एक-एक मरीज अस्पताल में भर्ती है।
    हालांकि प्रदेश में इसके हाॅटस्पोट बन चुके राजधानी जयपुर सहित करीब आधा दर्जन जगहों पर कोरोना का कहर जारी है जिससे इसकेे मामले बढ़कर 2141 पहुंच गये। इनमें सर्वाधिक मामले करीब आठ सौ जयपुर में सामने आये है। हालांकि जयपुर में अब तक 133 मरीज ठीक हो चुके हैं जिनमें 52 को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। इसी तरह दूसरा सबसे ज्यादा हाॅटस्पोट बने जोधपुर में 341 मामले सामने आ चुके हैं जिनमें स्वस्थ हो चुके 50 मरीजों में से 41 को छुट्टी दे दी गई। 
     इसी प्रकार कोटा में अब तक 152 मरीज सामने आ चुके हैं जिनमें 80 मरीज ठीक हो चुके हैं।
अजमेर में अब तक 123 मामले सामने आ चुके हैं जहां अब तक पांच मरीज ठीक हुए हैं। नागौर में 113 मरीज सामने आये है जहां अब तक तीन मरीज हीं ठीक हो पाये है। भरतपुर में 109 मामले सामने आ चुके हैं जिनमें पांच मरीज स्वस्थ हुए हैं। टोंक में 115 मरीजों में 19 ठीक हो चुके हैं जबकि एक को अस्पताल से छुट्टी मिल गई।
    कोरोना वायरस के चलते प्रदेश में अब तक 35 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें सर्वाधिक 19 लोगों की जयपुर में हुई हैं जबकि कोटा में चार, जोधपुर में तीन, भीलवाड़ा में दो, अलवर, भरतपुर, बीकानेर, नागौर, सीकर एवं टोंक में एक-एक व्यक्ति की मृत्यु हुई है। इससे एक उत्तर प्रदेश के व्यक्ति भी राज्य में मौत हो चुकी है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
शमशेर खां की दांडी यात्रा के समर्थन मे आज प्रदेश के गावं-गाव से शहरो तक पदयात्रा निकाल कर उपखण्ड अधिकारी व जिला कलेक्टरस को ज्ञापन दिये गये।
चित्र