प्रदेश में मेडिकल इक्यूपमेंट एवं दवाइयों का निर्माण करने वाली 452 इकाइयां उत्पादनरत -डा0 नवनीत सहगल

लखनऊः: उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के प्रमुख सचिव डा0 नवनीत सहगल ने बताया कि श्रमिकों के वेतन आदि भुगतान के संबंध में अद्यतन प्रदेश के प्रमुख 70 जनपदों की लगभग 17504 इकाइयों द्वारा श्रमिकों को वेतन भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि कि शासनादेश के अनुसार सभी जनपदों में एमएसएमई विभाग द्वारा कार्मिकों/श्रमिकों के वेतन भुगतान हेतु कार्यवाही सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने बताया कि आवश्यक वस्तुएं बनाने वाली जिन 3944 इकाइयों को चालू कराने का निर्णय लिया गया है, इनके सापेक्ष अब तक 3382 इकाइयों में कार्य शुरू हो गया है। शेष इकाइयों के कर्मियों को पास जारी कराते हुए शीघ्र इनकों भी शुरू करा दिया जायेगा ं
      प्रमुख सचिव ने बताया कि प्रदेश में अब तक 620  फ्लोर मिलें/आटा चक्कियां क्रियाशील हैं, जो बंद हैं उनको जल्द से जल्द चालू कराने का प्रयास किया जा रहा है। 339 तेल मिल इकाइयों का संचालन शुरू हो चुका है, जो मिलें कच्चा माल आदि के कारण बंद हैं, उनको यथाशीघ्र चालू कराये जाने के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि 253 दाल मिल इकाइयों से सम्पर्क किया जा चुका है, इनमें से 150 इकाइयों का संचालन हो रहा है, शेष मिलें जल्द क्रियाशील हो जायेंगी।
      डा0 सहगल ने बताया कि सेनिटाईजर बनाने वाली 59 इकाइयां क्रियाशील हैं। इसके अतिरिक्त 40 नई इकाइयों को आवश्यक स्वीकृति के पश्चात क्रियाशील कराया जा चुका है। इसी प्रकार वर्तमान में सेनिटाईजर बनाने वाली कुल 99 इकाइयां क्रियाशील हो चुकी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मेडिकल इक्यूपमेंट एवं दवाइयों के निर्माण से संबंधित 452 इकाइयों में से 410 इकाइयां उत्पादनरत् है, शेष इकाइयों के यथाशीघ्र संचालन के प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि मेडिकल इक्यूपमेंट एवं दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए प्रदेश में 61 नये ड्रग लाइसेंस जारी कराये गये हैं। 


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कांग्रेस विधायक एक एक करके दूर होने लगे!
इमेज
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।