पेटीएम ने पीएम-केयर्स कोष के लिए जुटाए 100 करोड़ रुपये

नयी दिल्ली, :: डिजिटल भुगतान कंपनी पेटीएम ने अपने मंच के जरिये ‘आपात स्थितियों के लिए प्रधानमंत्री नागरिक सहायता एवं राहत कोष’ (पीएम-केयर्स) के लिए 100 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटायी है। यह कोष कोरोना वायरस संकट के दौरान राहत राशि जुटाने के लिए बनाया गया है।


पेटीएम ने इससे पहले घोषणा की थी कि उसका इरादा पीएम-केयर्स कोष में 500 करोड़ रुपये (रिपीट 500 करोड़ रुपये) योगदान करने का है।


पेटीएम ने कहा था कि प्रत्येक योगदान या वॉलेट का इस्तेमाल कर पेटीएम पर प्रत्येक भुगतान, यूपीआई या पेटीएम बैंक डेबिट कार्ड के जरिये भुगतान पर वह दस रुपये तक का अतिरिक्त योगदान करेगी।


पेटीएम ने शनिवार को एक बयान में कहा कि 10 से कुछ अधिक दिन के भीतर पेटीएम एप के जरिये योगदान 100 करोड़ रुपये को पार कर गया है। यह पहल अब भी मजबूती से जारी है।


कंपनी ने कहा कि उसके 1,200 कर्मचारियों ने भी इस पहल में योगदान दिया है। इस कोष में उसके कर्मचारियों ने अपने वेतन से योगदान दिया है।


कंपनी ने कहा कि उसके कर्मचारियों ने पीएम-केयर्स में अपने 15 दिन, एक महीने, दो महीने और कुछ ने तो तीन महीने का वेतन दिया है।


पेटीएम के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अमित वीर ने कहा कि इस वैश्विक महामारी से निपटने के प्रयासों में देश के हर नागरिक को साथ आने की जरूरत है। वह भारतीयों से इसके लिए योगदान देने की अपील करते हैं।


इसके अलावा पेटीएम केवीएन फाउंडेशन के साथ मिलकर दिहाड़ी मजदूरों को खाना उपलब्ध कराने के लिए दान जुटा रही है।


टिप्पणियां
Popular posts
उर्दू व मदरसा पैराटीचर्स की मांगो सहित अन्य महत्वपूर्ण मांगों को लेकर 18-जनवरी को उर्दू शिक्षक संघ मुख्यमंत्री गहलोत का घेराव किया जायेगा।
इमेज
राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।
इमेज
जयपुर सम्भाग संगठन प्रभारी विधायक गोविन्द मेघवाल ने आज झूंझुनू एवं सीकर जिलें के कुल 15 नगरपालिकाओं के निकाय चुनाव के कांग्रेस पार्टी के सिम्बल वितरित किये। बीकानेर वरिष्ठ कांग्रेस नेता हाजी सलीम सोढ़ा भी मेघवाल के साथ रहे।
इमेज
पड़ोसी निकला SDM की बहन का हत्यारा:घर में अकेली रह रही सरकारी टीचर की हाथ-पैर बांधकर गला घोंटकर हत्या, लूट के इरादे से घर में घुसा था
इमेज
टोंक के बाद सीकर दौरे पर आये पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के स्वागत समारोह व सभा मे भारी भीड़ उमड़ने से राजनीतिक हलचल बढी।
इमेज